यह कैसा विकास शुल्क:परीक्षा शुल्क देने के बाद भी कॉलेज इंतजामों के नाम पर ले रहे सौ-सौ रुपए

झुंझुनूं5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शेखावाटी विवि।(फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
शेखावाटी विवि।(फाइल फोटो)

बीएड परीक्षार्थियों से परीक्षा देने से पहले परीक्षा केन्द्र विकास शुल्क की वसूली करने का मामले सामने आ रहे हैं। जिसमें शहर की दाे राजकीय काॅलेजाें में परीक्षा देने के लिए आ रहे स्टूडेंट्स से परीक्षा के लिए 100 रुपए विकास शुल्क वसूला जा रहा है। विकास शुल्क नहीं देने वाले स्टूडेंट्स काे परीक्षा से वंचित करने की चेतावनी दी जा रही है। मामले के अनुसार इन दिनों बीएड इंटीग्रेटेड काेर्स की परीक्षाएं चल रही हैं।

इसके लिए शहर के दाे सरकारी काॅलेजाें नेतराम मघराज बालिका महाविद्यालय और आरआर माेरारका काॅलेज में बीएड की परीक्षा के लिए परीक्षा केन्द्र बनाए गए हैं। इन केन्द्राें पर परीक्षा देने के लिए आए परीक्षार्थियों से काॅलेज स्टाफ ने 100 रुपए की रसीद कटवाने का फरमान जारी कर दिया। इसका परीक्षार्थियों ने विराेध भी जताया, लेकिन काॅलेज के प्राचार्य ने इसकाे लेकर उनके पास आदेश हाेने का हवाला देते हुए रसीद कटवाने के निर्देश दिए।

परीक्षार्थियों का कहना था कि परीक्षा शुल्क लिया गया है। फिर भी उनसे 100 रुपए वसूले जा रहे हैं। मामले काे लेकर काॅलेज प्राचार्य से बात की गई। ताे उन्हाेंने 100 रुपए विकास शुल्क के लिए लेने की बात कही और इसके लिए काॅलेज शिक्षा आयुक्त का पुराना आदेश हाेने की जानकारी दी।

शेखावाटी विश्वविद्यालय करवा रहा है परीक्षा, 100 रुपए लेकर दी जा रही है उसकी रसीद
परीक्षा के लिए इंतजामों का चार्ज :
एनएमटी काॅलेज के प्राचार्य डाॅ. डीपी मीना ने परीक्षार्थियों से 100 रुपए विकास शुल्क लेने की बात स्वीकारी। उनका कहना था कि परीक्षा के लिए शेखावाटी विश्वविद्यालय उनकाे काेई बजट या राशि नहीं देता है। ऐसे में परीक्षा के लिए व्यवस्था करने के लिए वे विकास शुल्क लेते हैं।

इसमें परीक्षार्थियों के लिए फर्नीचर, बिजली, पानी और स्टाफ लगाया जाता है। उसका भुगतान इसी मद से किया जाता है। इसी तरह से आरआर माेरारका काॅलेज के प्राचार्य डाॅ. पीके धायल का कहना था कि सरकार ने उनकाे इन परीक्षार्थियों से 100 रुपए विकास शुल्क लेने के निर्देश दिए हुए हैं।

परीक्षा से वंचित करने की चेतावनी : बीएड की परीक्षा देने आए परीक्षार्थियों ने बताया कि उनसे विकास शुल्क के नाम पर पैसा मांगा गया। ताे उन्हाेंने देने से साफ इनकार कर दिया। उनका कहना था कि वाे काॅलेज काे पूरी फीस दे चुके हैं और परीक्षा के लिए भी 2 हजार रुपए आवेदन शुल्क जमा कराया है। ऐसे में परीक्षा के लिए 100 रुपए की वसूली गलत है। परीक्षार्थियों ने बताया कि रुपए देने से इनकार करने पर कॉलेज स्टाफ ने उन्हें परीक्षा से वंचित करने की धमकी दी। जिस पर परीक्षार्थियों ने 100 रुपए देकर रसीद कटवा ली। शेखावाटी विवि ने ऐसे शुल्क से अनभिज्ञता जताई है।

शेखावाटी विवि की चार वर्षीय इंटीग्रेटेट कोर्स की है परीक्षा
बीएड के दाे तरह के काेर्स हाेते है। इनमें स्नातक के बाद दाे वर्षीय बीएड काेर्स हाेता है। वही चार वर्षीय इंटीग्रेटट काेर्स संचालित हाेता है। अभी चार वर्षीय काेर्स की परीक्षाएं चल रही हैं। ये परीक्षाएं शेखावाटी विश्वविद्यालय सीकर द्वारा कराई जा रही है। इसके लिए विवि की ओर से परीक्षा फार्म के आवेदन लिए गए हैं और परीक्षा शुल्क भी लिया गया है।

शुल्क लेने के आदेश हैं
शेखावाटी विवि परीक्षा के लिए काेई राशि नहीं देता है। ऐसे में परीक्षा के इंतजाम के लिए 100 रुपए विकास शुल्क ले रहे हैं। इसके हमारे पास आदेश भी है। -डाॅ. डीपी मीना, प्राचार्य, नेतराम मगराज टीबड़ेवाला गर्ल्स काॅलेज

बीएड परीक्षार्थियों से 100 रुपए शुल्क ले रहे हैं। इसके लिए सरकार की ओर से आदेश आया हुआ है। इसके आधार पर ही पैसा ले रहे हैं। आदेश देखना चाहे ताे दिखा सकते हैं। यह शुल्क इंतजामों के लिए लिया जाता है। - डाॅ. पीके धायल, प्राचार्य, आरआर माेरारका काॅलेज

खबरें और भी हैं...