माकपा की बैठक:किसानाें का 31 को विश्वासघात दिवस व 23 को हड़ताल सफल बनाने का निर्णय; अमराराम बोले-संघर्ष के आगे झुकी सरकार

झुंझुनूं4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बैठक में पदाधिकारियाें से चर्चा करते पूर्व विधायक अमराराम। - Dainik Bhaskar
बैठक में पदाधिकारियाें से चर्चा करते पूर्व विधायक अमराराम।

माकपा जिला कमेटी की बैठक शनिवार काे इंदिरा नगर स्थित पार्टी कार्यालय में विद्याधर गिल की अध्यक्षता में हुई। बैठक में पार्टी के राज्य सचिव पूर्व विधायक अमराराम ने कहा कि किसानाें के संघर्ष के आगे केंद्र सरकार काे झुकना पड़ा। उन्हाेंने कहा कि कृषि कानूनाें काे लेकर तानाशाही रवैया अपनाने वाली सरकार काे किसानाें ने बैकफुट पर लाने का काम किया।

उन्हाेंने किसान आंदोलन में दिए गए सहयाेग के लिए झुंझुनूं की जनता को धन्यवाद देते हुए कहा कि एमएसपी, किसानाें पर लगे मुकदमों की वापसी, लखीमपुर खीरी के अपराधियों को बर्खास्त करने की मांग को लेकर 31 जनवरी को संयुक्त मोर्चा के साथ विश्वासघात दिवस मनाया जा रहा है।

संयुक्त मोर्चा के की ओर से शिक्षक भवन से इंदिरा नगर कलेक्टर कार्यालय तक रैली निकालकर प्रदर्शन कर प्रधानमंत्री का पूतला फूंककर विश्वासघात दिवस मनाएंगे। 23 व 24 फरवरी को देशव्यापी हड़ताल में प्रत्येक तहसील मुख्यालय पर प्रदर्शन कर हड़ताल को सफल करेंगे।

बैठक में गांव गांव जाकर किसान आंदोलन की सफलता और किसानाें की समस्याओं यूरिया, डीएपी, पेट्रोल डीजल के बढ़ते भाव, महंगाई, बेरोजगारी पर जनजागरण किया जाएगा। बैठक में एडवाेकेट फूलचंद बर्बर, सचिव सुमेर बुडानिया, बजरंग मूंड, विद्याधर गिल, संदीप जीनगर,राजेश बिजारणिया, बिलाल कुरैशी, गोविंद जैदिया, सुभाष बाबल, पंकज गुर्जर, सचिन चाेपड़ा, बबलेश वर्मा, मदन सिंह यादव, सौरभ जानू मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...