नया खतरा / एक सप्ताह में तीसरी बार टिड्डी दल का हमला, किसान बोले-नियंत्रण नहीं किया तो खरीफ की फसल होगी चौपट

For the third time in a week, grasshopper attack
X
For the third time in a week, grasshopper attack

  • कोरोना काल के साथ ही अब जिले में किसानों के लिए टिडि्डयां बनकर आई नया संकट

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 04:00 AM IST

झुंझुनूं.
जिले में एक सप्ताह में तीसरी बार कई स्थानों पर टिड्डियों के दलों ने हमला कर फसलों को भारी नुकसान पहुंचाया। जिला मुख्यालय से सटे बाकरा में मंगलवार को तीसरी बार फिर टिड्डी दल पहुंच गया। शाम करीब पौने छह बजे उदावास की तरफ से अचानक टिड्डी दल गांव में पहुंचा। ग्रामीणों के अनुसार 6 से 7 किलोमीटर लम्बा यह दल गांव की सीमा में घुस आया तो ग्रामीणों ने थाली, पीपा, पटाखे, व तेज़ आवाज़ वाले ध्वनि विस्तारक साधनों की मदद से इनको भगाने का प्रयास किया। टिड्डियों का हमला इतना तेज़ था कि आसमान में अंधेरा सा छा गया। खेजड़ी के कई पेड़ों के तनों पर ही टिड्डी दल छा गया कि तने दिखाई ही नहीं दिए।  
सुल्ताना | टिड्डियां किसानों के लिए मुसीबत बनी हुई है। एक सप्ताह में टिड्डियों ने क्षेत्र में तीसरी बार हमला बोला है। मंगलवार दोपहर करीब एक किलोमीटर लंबे टिड्डी दल ने सोलाना, क्यामसर, किशोरपुरा, अमरपुरा, किठाना, घरड़ाना, मानोता, चिड़ासन और आसपास के गांवों में खेतों में खड़ी फसल पर हमला बोला। टिड्डियों ने खेतों में खड़ी बाजरे, मूंगफली, कपास, चारे की फसल और बगीचों में नुकसान पहुंचाया। 

बाघोली के झड़ाया नगर की तरफ पहली बार आया टिड्डी दल 

बाघोली | झड़ाया नगर के पास सीकर व झुंझुनूं सीमा पर सोमवार देर रात ढाणी बालाणी, ठाकरा वाली, हंसनला धाम आदि क्षेत्र में टिड्डियां पहुंची। खेतों में पड़ाव डाल दिया। ग्रामीणों ने इसकी सूचना कृषि पर्यवेक्षक पूरण प्रकाश यादव को दी। यादव ने इस बारे में कृषि विभाग के उच्च अधिकारियों को अवगत करवाया और उसके बाद रात्रि को ही मौके पर ट्रैक्टर पर लगी स्प्रे मशीन से दवाइयों का छिड़काव करवाया जिससे कुछ दल नष्ट हुए। मंगलवार सुबह  नियंत्रण दल के अधिकारी व कर्मचारी मौके पर पहुंचे अौर जगह-जगह दोनों सीमाओं पर ट्रैक्टर लगा कर स्प्रे करवाया। किसान रोताश सैनी, परशुराम, फूलचंद कुड़ी, जागी राम गुर्जर सहित दर्जनों किसानों ने थाली व पीपा बजा कर बाजरे की फसल से टिड्डियों को भगाया। पापड़ा में कृषि सहायक अधिकारी मोतीलाल सैनी, कृषि पर्यवेक्षक प्रहलाद जांगिड़ आदि लोगों को जागरूक कर टिड्डियों को भगाने के लिए थाली, पीपे, पटाखे छोड़ कर भागाया। इसके चलते टिड्डी दल रामनगर, सराय होते हुए आगे नीमकाथाना की तरफ चला गया। 
बिसाऊ | खेतो व क्षेत्र के गांवों में टिड्डी दल से फसलों को हुए नुकसान के मुआवजे की मांग को लेकर किसानों ने कलेक्टर को ज्ञापन दिया। मंगलवार को युवा नेता सिराज खान व सामाजिक कार्यकर्ता इस्माइल तंवर ने नायब तहसीलदार बजरंग लाल कुल्हरी को कलेक्टर के नाम ज्ञापन देकर बताया कि एक सप्ताह से बिसाऊ व आस पास के गांवों में चूरू व सीकर की ओर से आई टिड्डियों ने खेतों में उग रही खरीफ की फसल को चट कर दिया है। सरकार जल्द खेतों में नुकसान की गिरदावरी करवा कर किसानो को मुआवजा दिलवाए।

किसानों ने अधिकारियों को दिखाई टिड्डियां 
बड़ागांव | क्षेत्र में मंगलवार को छावसरी, गुर्जरों की ढाणी, रामलालपुरा होते नाटास गांव से गुजरता हुआ टिड्डी दल गोवला, सोलाना की तरफ निकला। किसान मान सिंह गुर्जर ने बताया कि सुबह 9 बजे से 11 बजे तक टिड्डियों का दल छावसरी के खेतों व पेड़ों पर मंडराता रहा। सूचना पर ग्राम विकास अधिकारी अतुल शर्मा व पटवारी कृष्ण कुमार ने मौके पर नुकसान का जायजा लिया। 
मंड्रेला | क्षेत्र के नालवा, सागर की ढाणी, मंड्रेला, सैनीपुरा, बोला की ढाणी, मनफरा, बजावा सूरों का, ढंढ़ारिया, जवाहरपुरा में मंगलवार सुबह आठ बजे टिड्डियों ने हमला कर दिया। टिड्डियों से फसलों को काफी नुकसान होने का समाचार है। लोगों ने पीपे बजा कर टिड्डियों को भगाने का प्रयास किया।
बुगाला | गांव में मंगलवार को भी  टिड्डियों ने दस्तक दे दी। सुभाष बुगालिया ने बताया कि छऊ, खेदड़ो की ढाणी की तरफ से आया यह दल काफी ऊंचाई पर था वह जाखल की तरफ चला गया। टिड्डियों के आने की सूचना मिलते ही ग्रामीण खेतों में पहुंच गए। बचाव के लिए लोगों ने डीजे, पीपे, थालियां बजानी शुरू कर दी जिससे टिड्डियां नीचे नहीं आई।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना