पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

उपलब्धि:शीशियां के नरेंद्र मौजांबिक में गैस भंडारों के दोहन प्रोजेक्ट के हैड बने

झुंझुुनूं13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पानी के जहाजों के फिटनेस सर्टिफिकेट देने वाले देश के तीन एक्सपर्ट में से एक हैं शीशियां के नरेंद्र कुमार

जिले के शीशियां गांव में जन्मे कैप्टन नरेंद्र कुमार कई सालों से पानी के उन जहाजों को फिटनेस सर्टिफिकेट देते चले रहे हैं जो दुनिया भर में गैस की सप्लाई करते हैं। एलएनजी व सीएनजी का ट्रांसपोर्टेशन बेहद जोखिम भरा होता है। कैप्टन नरेंद्र जहाज की सुरक्षा संबंधी किसी खामी को पहचान लेते हैं। जांच सही होने पर ही फिटनेस सर्टिफिकेट जारी करते हैं।

हाल ही कैप्टन नरेंद्र को एक बड़ी जिम्मेदारी मिली है जिसके लिए झुंझुनूं उन पर गर्व कर सकता है। मौजांबिक में मिले गैस भंडारों को दोहन तथा गैस को लिक्विड के रूप में लाने के एक बड़े प्रोजेक्ट के वे ऑपरेशन मैनेजर चुने गए हैं। शिशियां के गोवर्द्धन सिंह श्योराण के बेटे नरेंद्र कुमार करीब चालीस बिलियन डाॅलर के इस प्रोजेक्ट में ऑपरेशन मैनेजर चुने गए हैं।

हमेशा कुछ नया करने की जिद अौर जुनून के बूते वे इस मुकाम पर पहुंचे हैं। हाल ही एक शादी समारोह में शिरकत करने आए कैप्टन नरेंद्र कुमार ने दैनिक भास्कर से बातचीत में अपने सफर के बारे में बताया। करीब चार दशक से मर्चेंट नेवी में दुनिया के अनेक देशों की यात्रा करते हुए न जाने अनेक जहाजों की सुरक्षा का जिम्मा संभाला।

नरेंद्र 1982 में करीब 26 साल की उम्र में ही मर्चेंट नेवी में कैप्टन बन गए। उस समय वे सबसे युवा कैप्टन बने थे। पांचवीं तक गांव के स्कूल में पढ़ने के बाद चित्तौड़गढ़ के सैनिक स्कूल से बारहवीं की, उसके बाद नेवी में गए। सबसे पहले राजेंद्र शिप पर एक साल की ट्रेनिंग की, फिर शिपिंग कारपोरेशन ऑफ इंडिया में तीन साल ट्रेनिंग की।

देश में उनके जैसे तीन ही एक्सपर्ट
वे बताते हैं, अपने 25 साल के कार्यकाल में उन्होंने करीब 20 लाख समुद्री किलोमीटर से ज्यादा यात्राएं तय की हैं। वे ऑयल कंपनीज इंटरनेशनल मरीन फोरम (ओसीआईएमएफ) से क्वालिफाइड तथा मान्यता प्राप्त सेफ्टी सर्टिफाइटर हैं। यह संस्था तेल, गैस परिवहन करने वाले पानी के जहाजों को सुरक्षा संबंधी प्रमाण पत्र जारी करती है।

देश में ऐसे तीन ही एक्सपर्ट हैं जिनमें एक वे हैं। उनके बेटे अश्विन कुमार भी मर्चेंट नेवी में सैकिंड ऑफिसर हैं जो इन दिनों माल्टा में तैनात हैं। कैप्टन नरेंद्र की पत्नी जिले के सिरियासर गांव की बेटी है जो एसएमएस अस्पताल में गाॅयनी एक्सपर्ट हैं।
मर्चेंट नेवी में जाने की देते हैं सलाह
कैप्टन नरेंद्र बताते हैं, मैं जब मर्चेंट नेवी में गया, उस समय जिले के युवाओं में इस तरफ ज्यादा रुझान नहीं था, लेकिन अब स्थितियां बदल गई हैं। इसमें कॅरिअर के साथ रोमांच भी है। देशभर में हर साल करीब दो हजार युवाओंं की नेवी को जरूरत पड़ती है। वे जब भी गांव आते हैं तो यहां के युवाओं को इसके लिए प्रेरित करते हैं।

उनका कहना है , दुनिया में तेल कम हो रहा है। भविष्य का ईंधन प्राकृतिक गैस ही है। पहले संसाधन कम होने के कारण इसका पता नहीं चला, लेकिन अब लगातार हो रही खोज में प्राकृतिक गैस के विशाल भंडार मिल रहे हैं। दुनिया भर में इसका ट्रांसपोर्टेशन बढ़ेगा।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति आपके लिए बेहतरीन परिस्थितियां बना रही है। व्यक्तिगत और पारिवारिक गतिविधियों के प्रति ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा। बच्चों की शिक्षा और करियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी आ...

    और पढ़ें