बर्खास्तगी पर रोक:हाईकोर्ट ने ब्लड बैंक के काउंसलर की बर्खास्तगी पर राेक लगाई

झुंझुनूं2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हाईकोर्ट ने बीडीके अस्पताल में ब्लड बैंक की काउंसलर महिला की बर्खास्तगी के आदेश पर रोक लगाई है। काउंसलर अनुपमा कुल्हार ने एडवोकेट संजय महला के जरिए याचिका दायर कर बताया कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य निदेशालय ने कोविड काल के दौरान 10 फरवरी 2020 को नेशनल एड्स कंट्रोल आर्गेनाइजेशन (नाको) की गाइड लाइंस के तहत बीडीके अस्पताल में प्लेसमेंट एजेंसी के माध्यम से 24 जून 2020 को उसकी भर्ती की। बाद में 18 अगस्त को कार्यकाल बढ़ाया गया।

आठ महीने बाद निदेशालय ने 19 फरवरी 2021 को अल्प अनुभव होने का आधार मान कर सेवाएं समाप्त कर दी। एडवोकेट महला ने कहा कि गलत तरीके से बर्खास्त किया है क्योंकि विभाग ने विज्ञप्ति में दो वर्ष का अनुभव को 9 जनवरी 2014 के पत्र को आधार माना है जबकि 2018 की नई गाइड लाइंस में इस पद पर नियुक्ति के लिए अनुभव 6 महीने कर दिया था। भर्ती 2020 की है। विभाग की लापरवाही का खामियाजा प्रार्थी नहीं भुगत सकती। न्यायाधीश अरूण भंसाली ने दोनों पक्षों को सुनने, प्रस्तुत दस्तावेज व नियमों के अवलोकन के बाद निदेशालय व बीडीके अस्पताल के सेवा समाप्ति आदेश को खारिज कर प्रार्थी को सेवा में लेने के आदेश जारी किए।

खबरें और भी हैं...