पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

माननीय! यह भेदभाव क्यों?:12 जिलों में शामिल भरतपुर और धौलपुर से ज्यादा खराब हालात झुंझुनूं में, फिर भी यहां 18 प्लस वालों को टीके नहीं

झुंझुनूंएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • विधायकों से सवाल- क्या झुंझुनूं में कोरोना का कहर नहीं है या यहां युवा नहीं रहते, जवाब हां है तो फिर 18+ वालों को टीका लगवाइए

कोरोना संक्रमण को कम करने के लिए प्रदेश में 18 वर्ष और इससे ऊपर की आयु के सभी व्यक्तियों को टीकाकरण की शुरूआत के सात दिन बाद भी झुंझुनूं को अब तक टीके नहीं मिल पाए हैं। नतीजा यह है कि यहां अब भी इस आयु वर्ग के लोगों को टीके नहीं लग रहे हैं।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गत 1 मई को टीकाकरण के चाैथे चरण की शुरुआत कर कहा था कि अब प्रदेश में 18 वर्ष व इससे ऊपर के सभी लोगों को टीके लगाएं जाएंगे, लेकिन अब तक यह टीके केवल 12 चुनिंदा जिलों में ही लग रहे हैं। सात दिन बाद भी दूसरे जिलों को इसके लिए वैक्सीन नहीं मिली है। सरकार ने जिन 12 जिलों को चुना है। उनमें भी अधिकांश बड़े जिले हैं और वहां मेडिकल की सुविधाएं झुंझुनूं जैसे जिलों से बेहतर हैं।

इसके अलावा इन 12 जिलों का चयन भी किस वरियता के आधार पर किया है। यह भी समझ से परे है, क्योंकि इनमें शामिल भरतपुर और धौलपुर जिलों में तो संक्रमण की रफ्तार झुंझुनूं से कम है। जिसे शामिल नहीं किया गया। भास्कर ने इस संबंध में जिले के सभी सात विधायकों से बात की तो उन्होंने भी माना कि जल्द से जल्द जिले में सभी को वैक्सीनेशन लगनी चाहिए।

झुंझुनूं विधायक बृजेंद्र ओला ने लिखा मुख्यमंत्री को पत्र-झुंझुनूं को भी शामिल करें

कोरोना की दूसरी लहर में सर्वाधिक प्रभावित जिलों को छोड़ दिया गया। राज्य सरकार ने जयपुर, अजमेर, जोधपुर, उदयपुर, भरतपुर, पाली, धौलपुर, सीकर, भीलवाड़ा, अलवर, बीकानेर और कोटा सर्वाधिक संक्रमित जिले माने थे। 1 से 6 मई के बीच जयपुर में 27333, जोधपुर में 11729 और उदयपुर में 6462 केस के बाद चौथा यानी 5393 नए केस के साथ अलवर सर्वाधिक संक्रमित जिला है।

इन जिलों में सरकार ने सभी को वैक्सीन की शुरूआत की है, लेकिन भरतपुर में 1836 और धौलपुर में 1250 से ज्यादा 2639 केस झुंझुनूं जिले में आए हैं। इसके बावजूद झुंझुनूं में अभी तक 18 वर्ष से व इससे अधिक उम्र वालों को वैक्सीन की शुरूआत नहीं हुई है। अन्य जिलों के लिए चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने वैक्सीनेशन प्रोग्राम में कोरोना वैक्सीन की अधिक डोज मिलने के साथ अन्य जिलों को भी जोड़ने की बात कही थी।

अभी केवल पंजीकरण कर रहे, अपॉइंटमेंट नहीं मिल रहा
कोविन एप पर जिले के युवा वैक्सीन के लिए अपना रजिस्ट्रेशन करवा रहे है। एप पर 1 मई से 18 से 44 आयुवर्ग का वैक्सीनेशन रजिस्ट्रेशन हो रहा है, लेकिन इसके बावजूद उन्हें अपॉइंटमेंट नहीं मिल रहा। रजिस्ट्रेशन के बाद कुछ युवा टीका लगवाने के लिए वैक्सीनेशन सेंटरों पर पहुंचते हैं। लेकिन उन्हें बिना टीका के ही निराश लौटना पड़ रहा है।

उदयपुरवाटी विधायक राजेंद्र सिंह गुढा व मंडावा विधायक रीटा चौधरी ने इसकी जानकारी नहीं होने की बात कही, जबकि सूरजगढ़ विधायक सुभाष पूनिया ने सरकार पर लापरवाही का आरोप लगाया।

विधायक बोले : सरकार से बात करेंगे, ये कोई पार्टी या राजनीति का मामला नहीं, इसलिए टीकाकरण शुरू होना चाहिए

मुझे पहले पता नहीं था, आपने बताया है, हम हमारे नौजवानों के स्वास्थ्य के साथ खिलावाड़ नहीं होने देंगे। चाहे सीएम से बात करनी पड़े, चाहे स्वास्थ्य मंत्री से बात करनी पड़े। यह कोई पार्टी या राजनीति का मामला नहीं है।-राजेंद्र सिंह गुढ़ा, विधायक

सरकार में जिले का कोई धणी धोरी ही नहीं है। जबकि जिले में पॉजिटिविटी की संख्या को देखते हुए इसे शामिल करना चाहिए था। इसके लिए मुख्यमंत्री से मांग कर जिले को शामिल करवाया जाएगा।-सुभाष पूनिया, सूरजगढ़

इस बारे में मुख्यमंत्री से चर्चा कर जल्द ही झुंझुनूं जिले में टीके लगवाने की व्यवस्था की जाएगी। सब लोगों को टीके लगाए जाएंगे। सरकार सभी को टीके लगवाने को लेकर गंभीर है। जल्द ही इसकी शुरुआत होगी।-राजकुमार शर्मा, नवलगढ़

प्रदेश में जहां पर कोरोना के पेशेंट्स की संख्या ज्यादा बढ़ रही है। उन जिलों को पहले प्राथमिकता देनी चाहिए। इसके लिए मैं मुख्यमंत्री से बात कर जिले का भी चयन करवाऊंगा। युवाओं को टीके लगने चाहिए।-डाॅ. जितेंद्र सिंह, खेतड़ी

मैंने इस संबंध में सरकार को पत्र भी लिखा है। झुंझुनूं को भी 18 वर्ष व इससे ऊपर आयु वर्ग के लोगों को वैक्सीन में शामिल करना चाहिए। क्योंकि जिले में हालात ज्यादा खराब हैं। इस बारे में मैं दोबारा बात करुंगा।- बृजेंद्र ओला, झुंझुनूं

18 से 44 वर्ष के व्यक्तियों को टीका कब से लगेगा इसकी जानकारी नहीं है, लेकिन 45 से अधिक उम्र वालों के लिए टीके बीसीएमओ के पास आ गए हैं जो शनिवार से लगने शुरू हो जाएंगे। सीएम से चर्चा करेंगे।
-रीटा चौधरी, मंडावा

18 वर्ष से ऊपर लोगों के लिए वेक्सीनेशन जल्द शुरू हो इसके लिए सीएम और चिकित्सा मंत्री से लगातार बात हो रही है। इसके लिए मैंने अपने कोष से तीन करोड़ रुपए दिए हैं। केंद्र से वैक्सीन आबंटन नहीं होने के कारण इसमें देरी हो रही है। -जेपी चंदेलिया, पिलानी

खबरें और भी हैं...