ऐसी दरिंदगी कि पिता ने भी मांगी फांसी:गर्लफ्रेंड से मिलने गया था, नहीं मिली तो लौटते समय 5 साल की मासूम का अपहरण कर दुष्कर्म किया; दोस्तों को भी बताया

झुंझुनूं8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आरोपी सुनील कुमार फिलहाल पुलिस की गिरफ्त में है। - Dainik Bhaskar
आरोपी सुनील कुमार फिलहाल पुलिस की गिरफ्त में है।
  • आरोपी के पिता ने कहा- ऐसा घिनौना काम करने वाले को फांसी की सजा देनी चाहिए

झुंझुनूं में 5 साल की मासूम से दरिंदगी का 150 पुलिसकर्मियों ने 6 घंटे में खुलासा किया है। इसमें चौंकाने वाला मामला सामने आया। 20 साल का युवक अपनी गर्लफ्रेंड से मिलने पास के कस्बे चिड़ावा गया था। वह नहीं मिली। गुस्से में वापस लौट रहा था। रास्ते में घर के पास भाई-बहनों के साथ खेल रही बच्ची पर उसकी नजर पड़ी। वह वहां ठहरा और गंदी नजरों से उसे देखता रहा।

मौका पाते ही बच्ची को टॉफी का लालच देकर अपनी स्कूटी पर बैठा लिया। और वहां से तेजी से भाग गया। 40 किमी दूर जाकर अपने खेत पर रुका। वहां सुनसान जगह पर बच्ची के साथ दरिंदगी की। फिर बच्ची को चॉकलेट दिलाई और उसके गांव के पास ले जाकर छोड़ दिया। खून से लथपथ मासूम रो रही थी।

इस दरिंदगी के बाद युवक की बेफिक्री का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि उसने गांव में अपने दोस्तों से मजाकिया लहजे में पूरी घटना बताई और घर में जाकर छिप गया। फिलहाल, अब वह पुलिस गिरफ्त में है। बेटे की घिनौनी हरकत का पता पिता को चला तो उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों को फांसी दे देनी चाहिए।

जहां दरिंदगी हुई वहां निशान देखकर पुलिस भी सन्न
गिरफ्तारी के बाद शनिवार को पुलिस आरोपी को घटनास्थल पर ले गई। वहां मिट्टी में दरिंदगी के निशान देखकर पुलिस भी सन्न रह गई। रेत पर पड़ा खून और हाथ पैरों के निशान हैवानियत की कहानी कह रहे थे। इधर, मासूम अभी जयपुर के अस्पताल में भर्ती है। उसकी हालत अब ठीक है। लेकिन वह अब भी डरी और सहमी है। कलेक्टर यूडी खान और एसपी मनीष त्रिपाठी रविवार सुबह बच्ची के घर पहुंचे और परिवार को एक लाख की आर्थिक सहायता दी। मामले में चिड़ावा के वकीलों ने आरोपी की पैरवी नही करने का निर्णय लिया है।

दुष्कर्म के बाद गाड़ाखेड़ा छोड़ा, चॉकलेट दिलाई
आरोपी ने जिस जगह से मासूम का अपहरण किया था। वहां उसकी दो बड़ी बहनें भी खेल रही थीं। लेकिन आरोपी ने सबसे छोटी को चॉकलेट का लालच दिया। मासूम के अपहरण के बाद आरोपी उसे स्कूटी पर पिलानी से सूरजगढ़, काकोड़ा, श्यामपुरा के रास्ते अपने खेत में ले गया। वहां जाकर दुष्कर्म किया। इसके बाद वह उसे वापस स्कूटी पर गाड़ाखेड़ा के पास लेकर आया और चॉकलेट दिलाकर सड़क किनारे यह कहकर छोड़ गया कि वह वापस आ रहा है। इसके बाद वह घर चला गया। आरोपी का पिता खेती का काम करता है।

दरिंदगी:भाई के साथ खेल रही पांच साल की मासूम का अपहरण कर किया दुष्कर्म, आरोपी गिरफ्तार

घर पर जाकर छिपा, अपने कपड़े भी छिपा दिए
पूछताछ में आरोपी सुनील से बताया कि शुक्रवार को वारदात को अंजाम देने के बाद गांव जाकर आरोपी ने अपने दोस्तों को भी घटना के बारे में बताया। वारदात के करीब 6 घंटे बाद ही पुलिस आरोपी के घर पहुंच गई थी। पुलिस को देखकर आरोपी सीढ़ियों में बनी छत पर जाकर छिप गया। पुलिस ने पूरा घर खंगाल लिया, लेकिन वह कहीं नहीं मिला। इसी बीच उसका सिर नजर आया तो पुलिस ने तुरंत उसे पकड़ लिया। उसने अपने कपड़े भी छिपा दिए थे, जिसे पुलिस ने बरामद कर लिए।

यह थी वारदात, ऐसे पकड़ा गया आरोपी
शुक्रवार शाम करीब पांच बजे श्योराणों की ढाणी के पास बच्ची खेल रही थी। इसी दौरान आरोपी उसका अपहरण करके ले गया। करीब तीन घंटे बाद पुलिस को सूचना मिली की शाहपुर रोड पर कुएं के पास एक मासूम रो रही है। वह खून से लथपथ थी। मौके पर पहुंची पुलिस ने बच्ची की पहचान कराई। इसके बाद उसे जयपुर के अस्पताल में भर्ती कराया। इसी दौरान पुलिस ने जगह-जगह लगे हुए सीसीवीटी चेक किए। इसमें आरोपी स्कूटी में बच्ची को ले जाता हुआ नजर आया। घटना के करीब 6 घंटे बाद रात 11 बजे पुलिस ने आरोपी सुनील को शाहपुर में उसके घर से गिरफ्तार कर लिया।