पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मौसम अपडेट:बरसात व तूफान के कारण 5 साल में दूसरी बार जून के पहले सप्ताह में सबसे कम गर्मी

झुंझुनूं17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
झुंझुनूं. शहर में तीसरे दिन भी आसमान में छाए रहे बादल। - Dainik Bhaskar
झुंझुनूं. शहर में तीसरे दिन भी आसमान में छाए रहे बादल।

मानसून से पहले चक्रवात व पश्चिमी विक्षोभ के कारण मई महीने के बाद जून के पहले सप्ताह में मौसम में बदलाव जारी रहा। कभी आंधी, बरसात को कभी आसमान में बादल छाए रहने के कारण पांच साल के दौरान दूसरी बार जून महीने के पहले छह दिन का अधिकतम तापमान 40 डिग्री के नीचे रहा।

इससे पहले वर्ष 2020 में भी मई व जून महीने के शुरुआत में अच्छी बरसात से अधिकतम तापमान 40 डिग्री से नीचे रहा था। जबकि वर्ष 2017 के पहले छह दिन में अधिकतम तापमान 44 डिग्री, 2018 में 46 तथा 2019 में 47 डिग्री रहा था। मानसून से पहले ताऊ ते चक्रवात व पश्चिमी विक्षोभ के कारण मई महीने में औसत से 55 एमएम बरसात ज्यादा हुई।

मानसून विभाग के अनुसार मानसून व प्री मानसून से पहले मई महीने में 22.2 एमएम बरसात ही मानी जाती है। लेकिन इस बार मई महीने में 77 एमएम बरसात हुई।

2019 में सबसे गर्म रहा जून का पहला सप्ताह, तब 47.6 डिग्री पहुंचा था तापमान

मौसम विभाग की माने तो पांच साल के दौरान वर्ष 2019 में जून का पहला सप्ताह सबसे गर्म रहा था। इस दौरान एक जून को अधिकतम तापमान 47.6 डिग्री रहा था। इसके बाद दो को 46.8, तीन को 47.5, चार को 46.5, पांच को 45 तथा छह जून को 45.8 डिग्री रहा था। इसके बाद वर्ष 2018 के पहले छह दिन सबसे गर्म थी।

इस दौरान अधिकतम तापमान एक जून को 46.1 डिग्री तथा छह जून को 38.7 डिग्री रहा था। जबकि वर्ष 2017 में एक जून से बढ़ोतरी हुई थी। वर्ष 2020 में भी मई व जून के पहले सप्ताह में बरसात से पहले छह दिन का तापमान 39 डिग्री पर ही पहुंचा था।

दिन का तापमान रहा स्थिर, रात का घटा
मौसम में बदलाव का दौर रविवार को भी जारी रहा। रविवार को सुबह सात बजे के बाद तेज धूप से गर्मी का असर बढ़ता रहा। दोपहर बाद आसमान में फिर बादल छा गए। जिससे अधिकतम तापमान 39 डिग्री पर ही स्थित रहा। पिलानी मौसम केंद्र के अनुसार रविवार को अधिकतम तापमान 39.3 डिग्री तथा न्यूनतम तापमान 23.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

मौसम एक्सपर्ट : 15 दिन बाद प्री मानसून आएगा
मौसम वैज्ञानिक डॉ. सुरेंद्र अहलावत ने कहा कि मई महीने को साल का सबसे गर्म महीना माना जाता है। लेकिन चक्रवात व पश्चिमी विक्षोभ के कारण बरसात का दौर जारी है। जिले में पश्चिमी विक्षोभ का असर दो से तीन दिन तक ओर रहेगा। इस दौरान कुछ स्थानों पर तेज हवा व बरसात हो सकती है, करीब 15 दिन बाद जिले में प्री मानसून का दौर शुरू हो जाएगा।

खबरें और भी हैं...