शहीद कुलदीप की याद में बना देशभक्ति सॉन्ग:अंतिम सफर के वीडियो के साथ लिखा गाना- छाती ठोक कहिये होया शहीद लाडला देश की ही खातिर...

झुंझुनूं6 महीने पहले

वीरों और शहीदों की धरती शेखावाटी में एक कहावत है...जननी जने तो ऐसा जने के दाता के सूर। यानी, मां जब बेटे को जन्म दे तो ऐसे बेटे को जन्म दे जो दाता(भामाशाह) हो या सूर(वीर)...।

ये कहावत शहीद कुलदीप सिंह के गांव घरड़ाना खुर्द में हर किसी के ज़ुबान पर है। घर-घर से एक ही बात निकल कर आ रही है कि बेटा सेना में जाएगा। शहीद कुलदीप सिंह से यहां के युवा इतने प्रभावित हुए कि उन पर एक देशभक्ति सॉन्ग बना दिया। अंतिम सफर के वीडियो के साथ यह सॉन्ग अब ट्रेंड हो रहा है। गांव के युवा गली-मोहल्ले में हाथ में तिरंगा लेकर डीजे पर यह गाना बजा रहे हैं। उनकी बहादुरी के किस्सों के साथ सॉन्ग बनाया गया है। युवा फोटो और वीडियो शेयर कर लिख रहे हैं कि खुश रहो मेरे शहीद कुलदीप और फौजी मरा नहीं करते शहीद हुआ करते हैं।

शहीद कुलदीप सिंह राव के अंतिम सफर में जनसैलाब उमड़ा था।
शहीद कुलदीप सिंह राव के अंतिम सफर में जनसैलाब उमड़ा था।

अंतिम सफर का वीडियो, हाथ में तिरंगा और ट्रेंड हो रहा है सॉन्ग
गांव के युवाओं ने शहीद कुलदीप के अंतिम सफर का ड्रोन से वीडियो भी बनाया है। इस वीडियो के साथ सॉन्ग लिखा...कायरो की मौत कौन्या मरा तेरा बेटा बापू, दुश्मनों की छाती पे वार करा था, छाती ठोंक कहिये होया शहीद लाडला देश की ही खातिर मने तैयार किया था। अब यह गाना झुंझुनूं समेत आसपास के गांवों में ट्रेंड हो रहा है।

शहीद कुलदीप सिंह की पत्नी ने उन्हें मुखाग्नि दी।
शहीद कुलदीप सिंह की पत्नी ने उन्हें मुखाग्नि दी।

पैर रखने तक की जगह नहीं थी
गौरतलब है कि तमिलनाडु के कुन्नुर में हुए वायुसेना के हेलिकॉप्टर क्रैश में झुंझुनूं के लाल कुलदीप राव भी शहीद हुए थे। हादसे के समय हेलिकॉप्टर को ग्रुप कैप्टन पीएस चौहान और को-पायलट स्क्वाड्रन लीडर कुलदीप सिंह उड़ा रहे थे। उनके पिताजी एक्स नेवी अफसर है। उनकी बहन भी इंडियन नेवी में हैं। दो साल पहले उनकी शादी हुई थी। रविवार को जब शहीद बेटे का पार्थिव शरीर गांव पहुंचा तो उनके अंतिम दर्शन के लिए गांव में जनसैलाब उमड़ा था। पैर रखने की जगह नहीं थी। युवा डीजे पर देशभक्ति के गाने के साथ तिरंगा लेकर पहुंचे।

शहीद कुलदीप ने 2 महीने में घटाया था 20Kg वजन:एयरफोर्स में जाने का ऐसा जज्बा था कि रोज 14 मंजिल सीढ़ियां चढ़ते थे

PHOTOS में शहीद कुलदीप की परिवार के साथ आखिरी यादें:वाघा बॉर्डर पर खडे़ होकर कहा था- सीमाओं की रक्षा करने में गर्व होता है

शहीद कुलदीप सिंह के भाई बोले- बचपन से ही पायलट बनने का सपना था, इसके लिए कड़ी मेहनत की

माता-पिता का इकलौता लाल हेलिकॉप्टर क्रैश में शहीद : जिस चॉपर से CDS रावत जा रहे थे, उसके को-पायलट थे झुंझुनूं के स्कवॉड्रन लीडर कुलदीप सिंह