जाळ के पेड़ों से भरा बीड़, हमारा प्राकृतिक ऑक्सीजन प्लांट:प्रकृति; कभी रेतीले धोरों से अटे झुंझुनूं में अब नजर आता है हराभरा बीड़, यहां से गुजरता है नेशनल हाईवे 11

झुंझुनूं2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
1047.48 हेक्टेयर में फैला है यह बीड़ क्षेत्र, अनेक तरह की वनस्पति है यहां पर। - Dainik Bhaskar
1047.48 हेक्टेयर में फैला है यह बीड़ क्षेत्र, अनेक तरह की वनस्पति है यहां पर।

शहर के पास स्थित बीड़ क्षेत्र एक तरह से हमारे लिए प्राकृतिक ऑक्सीजन प्लांट का काम करता है। यहां सैंकड़ों की संख्या में पीलू और जाळ के पेड़ दूर तक फैले हुए हैं। इसके बीच से ही नेशनल हाईवे संख्या 11 निकलता है। हालाकि पिछले कुछ समय से यहां भर रहे गंदे पानी के कारण कई पेड़ों को नुकसान पहुंचा है, लेकिन यदि वन विभाग और प्रशासन इसकी ओर ध्यान दें तो यकीनन यह एक अच्छा पर्यटन स्थल बन सकता है।

कुछ समय पहले सरकार ने यहां ताल छापर की तर्ज पर चिंकारा अभयारण्य बनाने की घोषणा की थी, लेकिन उस पर भी काम नहीं हो पाया। अत्यधिक पेड़ होने के कारण यहां कई प्रजातियों के वन्य जीवों का प्राकृतिक आवास है। इस क्षेत्र में चिंकारा भी बड़ी संख्या में हैं। अब यहां पर्यटन को बढ़ावा देने की योजना पर काम हो रहा है।

चिंकारा बसाने के प्रोजेक्ट पर चल रहा काम

यह बीड़ क्षेत्र करीब 1047.50 हेक्टेयर में फैला है। इसमें नीलगाय, मोर भी बहुत अधिक संख्या में है। इसके अलावा यहां धामण घास, बेर, खेजड़ी जैसी वनस्पति भी पाई जाती है। धामण घास चिंकारा को बेहद पसंद होती है। यहां चिंकारा को यहां प्राकृतिक आवास और सरंक्षण देने की योजना पर काम चल रहा है।

खबरें और भी हैं...