पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अब इंसाफ दूर नहीं:बहन के गुनहगार को आठ जनों के बीच देखते ही पहचान लिया भाई-बहनों ने

झुंझुनूं9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • मासूम अभी अस्पताल में भर्ती, चश्मदीद गवाह भाई-बहन अपहरण के समय खेत में साथ खेल रहे थे, इनकी गवाही दिलवाएगी सजा

वह कुछ मिनटों का डरावना पल था। मासूम भाई बहन खेत में खेल रहे थे। दुनिया से बेफिक्र होकर। बिना किसी डर के। रोजाना की तरह। अचानक एक अनजान चेहरा आया और उस दिन इन मासूमों का सारा खेल बिगाड़ गया। सबसे छोटी बहन का अपहरण कर ले गया।

भाई और दो बहनों ने पीछा भी किया, पत्थर भी मारे, खूब चिल्लाए भी, लेकिन कुछ नहीं कर पाए थे और फिर कुछ देर बाद उनकी वह बहन अस्पताल में मिली। लहुलुहान। चीखती हुई। चार दिन से वह खौफनाक मंजर इनकी आंखों में बार बार घूम रहा था।

एक पल के लिए भी ये उसे भूल नहीं पाए और मंगलवार को जब शिनाख्त के लिए दरिंदे को इनके सामने लाया गया तो ये एक ही पल में उसे पहचान गए। देखते ही इशारा कर बता दिया कि यही है हमारी मासूम बहन का गुनाहगार। दरअसल, गत 19 फरवरी को श्योराणों की ढाणी में मासूम के अपहरण और दुष्कर्म के आरोपी की मंगलवार को जेल में शिनाख्त परेड करवाई गई। उसकी शिनाख्त मासूम के एक भाई और दो बहनों ने की।

जो उस दिन उसके साथ खेल रहे थे। इन तीनों ने आरोपी को देखा था। उसके पीछे भी भागे थे। मासूम खुद अभी अस्पताल में है। ऐसे में पुलिस ने इन तीनों से शिनाख्त परेड करवाई। जिसमें इन्होंने आरोपी को पहचान लिया। अब पुलिस इसे रिमांड पर लेगी और जल्द से जल्द चालान पेश करने की कार्रवाई करेगी।
तहसीलदार ने कहा-पहचानों, बहन ने कहा-यही स्कूटी पर आया था उस दिन

ऐसे मामलों में आरोपी को सजा दिलाने में कोर्ट में सुनवाई के दौरान कहीं कोई कमी ना रह जाए। इसलिए पुलिस चश्मदीद गवाहों से शिनाख्त करवाती है। जिसकी एक प्रक्रिया तय है। सवेरे मंड्रेला थानाधिकारी राकेश कुमार मीणा मासूम के एक भाई व दो बहनों को लेकर जेल पहुंचे। जहां जेल उपाधीक्षक भैराेंसिंह राठाैड़ और जेलर मुरारीलाल मीणा की माैजूदगी में तहसीलदार अजीत जानू ने शिनाख्त परेड कराई।

थानाधिकारी बाहर ही खड़े रहे। बच्चों के सामने आराेपी सुनील कुमार समेत आठ बंदियाें काे खड़ा किया गया। इसके बाद तहसीलदार अजीत जानू ने बच्चों से कहा कि आप लोग जिसे पहचानने आए हो। उसे पहचानो। जिस पर बिना कोई देर किए तीनों बच्चों ने आरोपी सुनील को पहचान लिया।
इसलिए पहचाना : क्योंकि आरोपी ने स्कूटी के लिए भाई से पेचकस मांगा था
जिन भाई बहनों से पहचान करवाई गई है। वे मासूम के अपहरण के वक्त उसके साथ खेल रहे थे। आरोपी ने भाई से स्कूटी सही करने का पेचकस भी मांगा था। तीनों भाई बहनों ने उसे देखा था। इसी बीच वह इनकी सबसे छोटी बहन को स्कूटी पर बैठाकर तेजी से भाग गया। जिस पर भाई बहनों ने उसका पीछा भी किया था। बहन को बचाने के लिए इन तीनों ने पत्थर भी फेंके थे, लेकिन आरोपी को पकड़ नहीं पाए। बाद में आरोपी मासूम से दरिंदगी कर उसे गाड़ाखेड़ा के पास छाेड़ गया था। मासूम काे ग्रामीणाें ने पुलिस तक पहुंचाया था।
दैनिक भास्कर ने कहा था अब इंसाफ चाहिए, जांच पूरी करने में जुटी पुलिस, जल्द ही चालान पेश करने की तैयारी
मासूम के साथ दरिंदगी के खिलाफ भास्कर ने पहले ही दिन स्टैंड लिया था कि अब हमें इंसाफ जल्द से जल्द चाहिए। भास्कर ने इसके लिए दो साल पहले झुंझुनूं में हुए ऐसे ही एक मामले में 11 दिन में ही चालान पेश करने और 29 में फांसी की सजा सुनाने का हवाला भी दिया था। आरोपी की पहचान के बाद अब पीडि़ता के बयान होंगे। जिन्हें पुुलिस एक दो दिन में पूरा कर लेगी। संभव है कि तीन दिन में चालान पेश हो जाएगा।
रिमांड पर लिया जाएगा आरोपी

  • आरोपी की पहचान हो गई है। अब पुलिस उसे कोर्ट से रिमांड पर लेगी। जिसके बाद उससे पूछताछ की जाएगी। हमने काफी सबूत जुटा लिए हैं। कोशिश कर रहे हैं कि जल्द से जल्द चालान पेश कर दिया जाए। - सुरेश शर्मा, डीएसपी, चिड़ावा
खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति आपके लिए बेहतरीन परिस्थितियां बना रही है। व्यक्तिगत और पारिवारिक गतिविधियों के प्रति ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा। बच्चों की शिक्षा और करियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी आ...

    और पढ़ें