पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अटकी सांसें:तकनीकी खराबी से बंद हुआ ऑक्सीजन प्लांट; शुक्र है 6 घंटे में शुरू हो गया, रींगस से मंगाने पड़े सिलेंडर

झुंझुनूं11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जिस ऑक्सीजन प्लांट में इन दिनों एक एक मिनट कीमती है। वह सोमवार को तकनीकी खराबी के कारण अचानक बंद हो गया। जिसके बाद प्रशासन और चिकित्सा विभाग की सांसे फूल गई। जानकारी के अनुसार सवेरे करीब नौ बजे प्लांट अचानक बंद हो गया। टैक्निशियन के आने पर सामने आया कि इसके वॉल्व में खराब आ गई है। सूचना मिलते ही कलेक्टर यूडी खान अपना उदयपुरवाटी का दौरा बीच में छोड़ रीको स्थित प्लांट पर पहुंचे।

इसके बाद अन्य अधिकारी भी मौके पर पहुंचे। करीब छह घंटे की मशक्कत के बाद वॉल्व को सही किया गया और प्लांट वापस शुरू हो सका। जिसके बाद सभी ने राहत की सांस ली। इससे पूर्व तकनीकी खराबी की सूचना मिलने पर ऑक्सीजन का काम देख रही कमेटी के सदस्य महिला अधिकारिता विभाग के उप निदेशक विप्लव न्यौला, आईसीडीएस के उप निदेशक विजेन्द्र सिंह राठौड़, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक नरेश बारोठिया, जिला उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक नानूराम गहनोलिया ऑक्सीजन प्लांट पर पहुंचे।

निजी प्लांट से हर दिन मिल रहे हैं 350 सिलेंडर : निजी ऑक्सीजन प्लांट से हर दिन 350 से 375 ऑक्सीजन सिलेंडर का उत्पादन हाे रहा है। ऑक्सीजन वाले मरीजाें के साथ अन्य गंभीर मरीजों को भी इसी प्लांट के जरिए सिलेंडर मुहैया कराए जा रहे हैं। ऑक्सीजन की निगरानी के लिए दाे ऑक्सीजन ऑडिट कमेटी व 13 नाेडल अधिकारी लगा रखे हैं। यहां हर 45 मिनट में 10 ऑक्सीजन सिलेंडर तैयार होते हैं। पिछले एक महीने से यहां दाे शिफ्टाें में दिनरात काम कर रहा है। निगरानी के लिए दाे अधिकारी लगाए हुए हैं।

रिफलिंग के लिए दूसरे जिलों में भेजे सिलेंडर
प्लांट के वाल्व में तकनीकी खराबी के चलते एडीएम जेपी गौड़ ने नवलगढ़ तहसीलदार कपिल उपाध्याय को भेजकर रींगस से 50 सिलेंडर मंगवाए। इसके बाद उन्हें भिवाड़ी से 55 सिलेंडर लेने के लिए भेजा गया। वहीं 55 सिलेंडर श्रीगंगानगर से मंगवाने के लिए रिफिलिंग के लिए भिजवाए।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

    और पढ़ें