आमरण अनशन:रेसला जिलाध्यक्ष की तबीयत बिगड़ी; प्रदेश अध्यक्ष के साथ आमरण अनशन पर बैठे थे

झुंझुनूं9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
झुंझुनूं. रेसला जिला अध्यक्ष प्रमेन्द्र कुल्हार काे अस्पताल ले जाते हुए। - Dainik Bhaskar
झुंझुनूं. रेसला जिला अध्यक्ष प्रमेन्द्र कुल्हार काे अस्पताल ले जाते हुए।

प्रधानाचार्य पदाेन्नति में अनुपात बढ़ाने की मांग काे लेकर आमरण अनशन पर बैठे रेसला जिला अध्यक्ष प्रमेन्द्र कुल्हार की तबीयत बिगड़ जाने पर उनकाे जयपुर के एसएमएस अस्पताल में भर्ती कराया गया है। कुल्हार 5 मार्च से रेसला प्रदेश अध्यक्ष व अन्य जिला अध्यक्षाें के साथ आमरण अनशन पर बैठे थे।

जानकारी के अनुसार शिक्षक संगठन रेसला के पदाधिकारी कैबिनेट बैठक में शिक्षा विभाग के नियम संशोधन के मुद्दें को स्थगित किए जाने के विराेध में 5 मार्च से प्रदेशाध्यक्ष मोहन सिहाग के साथ बीकानेर जिलाध्यक्ष गिरधारी गोदारा, कार्यकारी अध्यक्ष भंवरलाल गुर्जर, झुंझुनूं जिलाध्यक्ष प्रमेन्द्र कुल्हार, नागौर जिलाध्यक्ष पवन मांजू, नरेश मीना, प्रेम विश्नोई आमरण अनशन पर बैठ गए। इसके बाद रविवार काे आमरण अनशन स्थल पर डाॅक्टराें ने अनशनकारियाें के स्वास्थ्य की जांच की।

इसके बाद कुल्हार की तबीयत बिगड़ने पर उनकाे अस्पताल में एडमिट करा दिया गया। जिला कोषाध्यक्ष सत्यनारायण शर्मा ने बताया कि रेसला की मांग न्यायोचित है, वर्तमान में 54 हजार व्याख्याता है और प्रधानाध्यापक केवल 3500 है। जिसके चलते 67:33 के अनुपात काे व्यावहारिक बनाया जाना चाहिए।

खबरें और भी हैं...