लुटेरी दुल्हन मामला:गिरफ्तार बिचौलिए मां-बेटे से पूछताछ में होने लगे खुलासे, एक महिला और फेक आईडी वाली लुटेरी दुल्हन अभी भी फरार

झुंझुनूं8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस गिरफ्त में दोनों आरोपी। - Dainik Bhaskar
पुलिस गिरफ्त में दोनों आरोपी।

खेतड़ी नगर थाना इलाके में प्रतापपुरा गांव की ढाणी बैचावाली में 16 सितंबर की रात को लुटेरी दुल्हन पूरे परिवार के खाने में नशीली गोलियां मिला भाग गई। साथ में जेवर और नगदी लूट ले जाने के मामले में पुलिस ने कल बिचौलिए बनारसी देवी और उसके पुत्र सतीष मेघवाल को गिरफ्तार किया था। आरोपियों ने पुलिस की पूछताछ में कई खुलासे किए हैं। मां बेटे ने पूछताछ में बताया कि नारनौल निवासी एक अन्य बिचौलिए महिला सीमा देवी से मिलीभगत से उन्होनें पैसे लेकर एक और फर्जी शादी करवाई थी।

पूछताछ में बताया कि कुंवारे लोगों को शादी करवाने के लिए गांव के लोगों की सहायता से अपने जाल में फंसाया जाता था। पूछताछ में आरोपी मां बेटे ने खुलासा किया कि शादी के नाम पर ठगी के लिए उनका शिकार ग्रामीण परिवेश के गरीब परिवार होते हैं। क्योंकि ये सबसे सॉफ्ट टारगेट होते हैं। ऐसे लोग ठगी के बाद पुलिस के पास कम ही पहुंचते हैं। आरोपियों ने बताया कि शिकार के जाल में फंसने पर पहले उन्हें क्रॉस चेक भी किया जाता है ताकि किसी प्रकार से फंसने की संभावना न रहे।

लड़कियों के बनाते थे फेक आईडी

सीआई विनोद सांखला ने बताया कि पुलिस द्वारा अब तक कि जांच में पीड़ितों को दिए गए लुटेरी दुल्हन दीप कौर के सभी पहचान के दस्तावेज फर्जी निकले हैं। आरोपियों ने पुलिस की पूछताछ में माना है कि शादी करवाने के लिए दुल्हन के सभी आईडी फेक बनाए जाते थे। पीड़ितों को दुल्हन के पहचान के दास्तावेज जिनमें आधार कार्ड,वोटर आईडी कार्ड सभी में पंजाब का पता दिया जाता है ताकि कोई क्रॉस चैक न कर सके।फेक आईडी कौन बनाता था। पुलिस इसका पता लगाने का प्रयास कर रही है।

खबरें और भी हैं...