झुंझुनूं में बनेंगी तीन नंदीशाला:हाईवे पर आवारा गायों से होने वाले सड़क हादसों में आएगी कमी, किसानो को मिलेगी राहत

झुंझुनूं2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सड़क पर अचानक गाय आ जाने से सड़क हादसे होते हैं उनमें भी अब कमी आएगी। - Dainik Bhaskar
सड़क पर अचानक गाय आ जाने से सड़क हादसे होते हैं उनमें भी अब कमी आएगी।

झुंझुनूं जिले में बढ़ते आवारा गायों की समस्या के समाधान के लिए झुंझुनूं जिले के तीन ब्लॉकों में 3 नंदी शालाए बनाई जाएगी। प्रत्येक नंदीशाला में 250 गायों को रखने की व्यवस्था होगी। पशुपालन विभाग के अधिकारी डॉ. आलोक ढाका ने बताया कि वित्तीय वर्ष 2021-22 में पंचायत समिति नंदीशाला जन सहभागिता योजना के तहत प्रदेशभर में 70 नंदीशालाए बनाई जाएंगी। योजना के तहत तीन नंदी शाला झुंझुनूं जिले में बनेंगी। प्रत्येक नंदीशाला निर्माण में एक करोड़ 57 लाख रुपए की राशि खर्च की होगी। इसमें से 10 प्रतिशत का अंशदान संस्था/दानदाता का होगा तथा 90 प्रतिशत अंशदान राज्य सरकार वहन करेगी।

आवारा गाय कई बार फसलों को बर्बाद कर देते हैं। निराश्रित गायों के लिए नंदीशाला बनाने की मांग को लेकर किसानों की ओर से कई बार पशुपालन विभाग के उच्च अधिकारियों को ज्ञापन भी दिया जा चुका है। वहीं, सड़क पर अचानक गाय आ जाने से सड़क हादसे होते हैं उनमें भी अब कमी आएगी।

कौन करवा सकता हैं नंदीशाला का निर्माण

पशुपालन विभाग के डॉ. अशोक ढाका ने बताया कि जिले में नंदीशाला संचालन समिति के लिए स्थानीय निकाय जैसे नगर पालिका, नगर परिषद या पंचायत राज संस्थाओं के अतिरिक्त पंजीकृत संस्था/गैर सरकारी संस्था/ पंजीकृत ट्रस्ट/ पंजीकृत सहकारी संस्था का नंदीशाला संचालन व निर्माण कार्यों के लिए चयन किया जाएगा। नंदीशाला संचालन समिति ही कार्यकारी संस्था होगी। संस्था के पास स्वयं की 20 बीघा जमीन होनी चाहिए और संस्था को तीन वर्ष का अनुभव होना चाहिए। चयन के लिए जिला गोपाल समिति की ओर निविदा जारी की जाती है।