पावर का जंक्शन:प्रदेश का छठा 765 केवी ग्रिड झुंझुनूं में, यहां से देश के कई हिस्सों को देंगे बिजली

खेतड़ीनगर2 महीने पहलेलेखक: विकास पारीक
  • कॉपी लिंक
जसरापुर में निर्माणाधीन बिजली ग्रिड। फोटो : उत्तम जोशी - Dainik Bhaskar
जसरापुर में निर्माणाधीन बिजली ग्रिड। फोटो : उत्तम जोशी
  • नेशनल ग्रिड समेत देश के दूसरे हिस्सों में यहां से भेजी जा सकेगी बिजली

देश के मानचित्र पर खेतड़ी तांबा माइंस के लिए जाना पहचाना जाता है, लेकिन अब इस क्षेत्र की एक और नई पहचान बनने जा रही है। यहां प्रदेश का छठा 765 केवी ग्रिड बनकर तैयार है और जल्द ही शुरू हो जाएगा। इस ग्रिड के महत्व का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि प्रदेश की बिजली इकाइयों से पैदा होने वाली बिजली को यहां से नेशनल ग्रिड समेत देश के दूसरे हिस्सों में भेजा जा सकेगा।

यह ग्रिड खेतड़ी के पास जसरापुर में बना है। एक तरह से देखा जाए तो यह ग्रिड किसी जंक्शन की तरह काम करेगा। यानी प्रदेश में किसी भी तरह की बिजली इकाई यानी कोयला, पानी या सौर उर्जा से तैयार बिजली को यहां लाकर आगे सर्कुलेट कर सकेंगे। जानकारी के अनुसार पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (पावरग्रिड) की ओर से जसरापुर में 765/400 केवी विद्युत उपकेंद्र बनाया जा रहा है।

करीब दो माह में यहां से नेशनल ग्रिड तक बिजली पहुंचाने का काम शुरू हो जाएगा। करीब 40 हैक्टेयर क्षेत्र में बने इस जीएसएस पर अलग-अलग स्थानों से बिजली आएगी। जिसके लिए टॉवर लाइन खड़ी की जा चुकी है। आने वाले समय में यहां से झुंझुनूं व सीकर के भी जीएसएस पर बिजली आपूर्ति की जा सकेगी।

जसरापुर में बना है यह ग्रिड

  • यहां इकाइयों से बिजली लेकर नॉर्थ ग्रिड भेजेंगे
  • झुंझुनूं व सीकर जिले समेत दूसरे जिलों में भी आपूर्ति किसी भी तरह से बनी बिजली यहां से सप्लाई हो सकेगी
  • जिले में 200 टॉवर लगे हैं यहां तक बिजली लाने के लिए।

जैसलमेर-फलौदी को जोड़ा
इससे जैसलमेर व फलौदी को जोड़ा गया है। वहां सौर ऊर्जा से बिजली बनाई जा रही है। यह बिजली जैसलमेर से बीकानेर होते हुए खेतड़ी के जसरापुर के विद्वुत उपकेंद्र पर पहुंच कर यहां से गुरूग्राम एनसीआर में आपूर्ति की जाएगी। राष्ट्रीय स्तर पर पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड कंपनी ही पूरे देश में अधिकांश सप्लाई कर रही है।

केंद्र का दूसरा बड़ा प्रोजेक्ट है जिले में
यह जीएसएस जिले में केंद्र सरकार द्वारा संचालित दूसरा बड़ा प्रोजेक्ट है। इससे पूर्व केंद्र सरकार की ओर से खेतड़ी में हिन्दुस्तान कॉपर लिमिटेड संचालित है।

राज्य में यहां-यहां है ऐसे जीएसएस
खेतड़ी के जसरापुर में शुरू होने वाला यह जीएसएस बेहद अहम है। इस के अलावा राजस्थान में पांच विद्युत उपकेंद्र अजमेर, फलौदी, बीकानेर, चित्तोडगढ व जैसलमेर में हैं। जबकी पूरे देश में करीब 30 विद्युत उपकेंद्र हैं। जानकारी के अनुसार 765/400 केवी विद्युत उपकेंद्र से बड़ा कोई केंद्र नहीं है।

खबरें और भी हैं...