युवक की माैत का मामला:पांच दिन से मोर्चरी में रखा था शव, विरोध के बाद प्रशासन ने छठे दिन डी फ्रिज में रखवाया

झुंझुनूंएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
झुंझुनूं. कलेक्ट्रेट पर मुख्यमंत्री और विधायक का पुतला फूंकते डूमरा के ग्रामीण। - Dainik Bhaskar
झुंझुनूं. कलेक्ट्रेट पर मुख्यमंत्री और विधायक का पुतला फूंकते डूमरा के ग्रामीण।

मुकंदगढ़ थाने के तहत डूमरा गांव में गत 8 दिसंबर की रात एक युवक प्रदीप मेघवाल की मौत के मामले में परिजनों ने छठे दिन भी शव लेने से इनकार कर दिया। जिससे यह मामला और अधिक उलझ गया। मामले में परिजनों ने आरोप लगाए कि शव मोर्चरी में रखा है। प्रशासन ने इसके लिए डी फ्रिज तक का इंतजाम नहीं किया और यहां तक कि उस पर कपड़ा तक नहीं ढका गया। जिसके बाद प्रशासन ने पिलानी से डी फ्रिज मंगवाकर शव काे उसमें रखवाया।

इधर, युवक के परिजनों ने लगातार दूसरे दिन भी कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन किया और आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए सीएम अशोक गहलोत व नवलगढ़ विधायक डॉ. राजकुमार शर्मा के पुतले फूंके और दोनों के खिलाफ नारेबाजी की और बाद में दोनों के पुतले जलाए। मंगलवार को धरने में बड़ी संख्या में गांव के लोग शामिल हुए।

सीएम और विधायक के पुतले फूंके, आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए धरना जारी

इस दौरान भीमसेना संस्थापक अनिल तिड़दिया, प्रदेशाध्यक्ष रवि कुमार मेघवाल, भीम आर्मी प्रदेशाध्यक्ष सत्यप्रकाश इंद्रसर, बसपा जिला प्रभारी बंशीधर भीमसरिया, दीपचंद चंदेल, आजाद समाज पार्टी के प्रदेश महासचिव एडवाेकेट धर्मपाल बंशीवाल, बसपा जिलाध्यक्ष सुभाषचंद्र समेत अनेक लाेगाें ने कहा कि पुलिस आराेपियाें काे बचा रही है। बसपा जिला प्रभारी बंशीधर भीमसरिया ने कहा कि पुलिस आराेपियाें काे बचाने का प्रयास कर रही है।

अधिकारियाें के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की मांग : पुतला दहन के बाद प्रतिनिधि मंडल ने कलेक्टर एसपी काे ज्ञापन साैंपा। ज्ञापन में बताया कि गैर जिम्मेदाराना रवैया अपनाते हुए पाेस्टमार्टम कर शव का अपमान करने वाले अधिकारियाें के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कानूनी कार्रवाई की जाए। पाेस्टमार्टम प्रक्रिया में शामिल नवलगढ़ एसडीएम, डीएसपी, मुकुंदगढ़ थानाप्रभारी, सीएमएचओ, बीसीएमओ और तहसीलदार समेत मेडिकल बाेर्ड में गठित में शामिल चिकित्सकाें के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई की जाए।

सरकारी नौकरी देने की मांग

  • नामजद आराेपी समेत अन्य आराेपियाें की गिरफ्तारी की जाए।
  • पीड़ित परिवार काे एससी- एसटी एक्ट के अलावा सरकारी सहायता और मृतक की पत्नी काे सरकारी नाैकरी दी जाए।
  • मुकुंदगढ़ थानाप्रभारी काे हटाया जाए। डूमरा सरपंच बुधराम समेत बजरंगलाल मेघवाल, राजेश बजाड़ विजयपाल समेत अन्य लाेगाें के खिलाफ दर्ज किए गए मामले वापस लिए जाएं।
  • मामले की जांच नवलगढ़ डीएसपी की अलावा अन्य अधिकारी से करवाई जाए।
खबरें और भी हैं...