पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कचरे का सदुपयोग:झुंझुनूं शहर के कचरे से नगर परिषद अब दाे स्थानाें पर बनाएगी खाद

झुंझुनूं13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
भूरासर की जोहड़ी में खाद बनाने के लिए तैयार शेड निर्माण। - Dainik Bhaskar
भूरासर की जोहड़ी में खाद बनाने के लिए तैयार शेड निर्माण।
  • भूरासर जोहड़ी व नगर परिषद में लगेंगे दो प्लांट, हर दिन 1100 किलाे खाद तैयार हाेगी, किसानाें काे रियायती दरों पर बेचेंगे

शहर से निकलने वाले कचरे से अब खाद बनाई जाएगी। नगर परिषद ने कचरे से खाद बनाने के लिए दाे जगह तय की है। जहां हर दिन 1100 किलाे कचरे से खाद बनाने का काम किया जाएगा। खाद बनने के बाद उसे खेती के लिए किसानाें काे रियायती दर पर बेचा जाएगा।

जानकारी के अनुसार नगर परिषद शहर में दाे स्थानाें पर कचरे से खाद बनाने का काम करेगी। इसमें पहली शहर के निकटवर्ती भूरासर जाेहड़ में बने कचरा निस्तारण प्लांट का उपयाेग हाेगा। ताे दूसरा कचरा प्लांट नगर परिषद में लगाया जाएगा। इन दाेनाें प्लांटाें से हर दिन 1100 किलाेग्राम खाद बनेगी। जिसे किसानाें काे बेचा जाएगा।

इसके अलावा प्लास्टिक बैग, लाेहा व अन्य धातु कचरे से अलग किया जाएगा। इससे शहर में कचरे की समस्या का कुछ हद तक निस्तारण हाेने की संभावना है। सबकुछ सही रहा ताे 15 अगस्त से दाेनाें कचरा प्लांट शुरू हाे जाएंगे।

शहर से हर दिन 75 टन सूखा कचरा निकलता है : शहर से हर दिन 90 टन कचरा निकलता है। जिसे नगर परिषद वाहनाें के जरिए माेडा पहाड़ में डलवा रही है। इसमें 15 टन से ज्यादा गीला कचरा निकलता है और 75 टन के लगभग सूखा कचरा आता है। गीला कचरा ज्यादातर शहर के नालाें की सफाई के दाैरान आता है। दाे प्लांट बन जाने जहां नगर परिषद सूखे कचरे का उपयाेग कर खाद बनाएगी।

इससे पहले तत्कालीन नगर पालिका द्वारा भूरासर की जाेहड़ी में कचरा निस्तारण प्लांट स्थापित किया गया था। इस प्लांट में कचरे से खाद बनाने की याेजना थी। इसके लिए जाेहड़ी में जमीन के लिए चारदीवारी और गार्ड रूम बनाया गया था। इसके बाद यहां नगर परिषद ने कचरा डालना शुरू कर दिया था। वहां कचरे का ढ़ेर लग जाने के बाद ग्रामीणाें ने इसका विराेध किया था।

भूरासर की जाेहड़ी में 1000 किलाेग्राम कचरे से बनेगी खाद

नगर परिषद द्वारा भूरासर की जाेहड़ी में खाद बनाने का प्राेजेक्ट लगाया जाएगा। इसमें हर दिन 1000 किलाे कचरे से खाद बनाई जाएगी। इसमें कचरे के लिए शेड बनाने का काम चल रहा है। इस प्लांट में आने वाले कचरे से पहले प्लास्टिक बैग, लाेहा, कांच और अन्य धातुओं काे अलग करने का काम हाेगा।

इसके बाद कचरे से खाद बनाई जाएगी। प्लास्टिक बैग व अन्य धातुओं काे सीमेंट कंपनियाें काे बेचे जाने की याेजना भी है। इसी तरह से नगर परिषद खुद के परिसर में 100 किलाे कचरे से खाद बनाने का प्राेजेक्ट लगा रही है। इसके लिए भी काम शुरू हाे गया है। इसके बाद हर दिन 100 किलाे खाद का उत्पादन हाेगा।

पहले तीन जगह मशीन लगाने की याेजना थी

इससे पहले नगर परिषद ने शहर में तीन स्थानाें पर कचरा निस्तारण प्लांट लगाए जाने थे। इसके लिए नगर परिषद ने तीन स्थानाें नेहरू पार्क, सब्जीमंडी और नगर परिषद कैंपस तय किए थे। लेकिन अब नगर परिषद बड़ी मशीन कचरा निस्तारण प्लांट में लगाएगी और दूसरी नगर परिषद में लगेगी।

शहर से निकलने वाला कचरे का उपयाेग खाद बनाने में करेंगे। इसके लिए टेंडर हाे चुके हैं और काम भी शुरू हाे गया है। 15 अगस्त तक इन दाेनाें प्लांटाें काे शुरू करने की याेजना तय की है।
राहुल भाटिया, प्रभारी स्वच्छता मिशन

खबरें और भी हैं...