पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

परेशानी बढ़ रही:गरीब व मजदूर वर्ग के सामने आया रोटी का संकट; कचरा बीनने वाले बोले- सब बंद है, बेचें किसको

खेतड़ी नगर/झुंझुनूं3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
खेतड़ी नगर, भूख से बिलखते बच्चों के साथ बैठा कालबेलिया परिवार। - Dainik Bhaskar
खेतड़ी नगर, भूख से बिलखते बच्चों के साथ बैठा कालबेलिया परिवार।

कोरोना महामारी में दिहाड़ी मजदूरी करने वालों की हालत खराब हो रही है। उनके घरों में खाने के लाले पड़ने लगे हैं। दिन भर मजदूरी करके अपने बच्चों का पेट पाल रहे थे, कोरोना के चलते मजदूरी करने व कचरा उठा कर बेचने वालों के हालात खराब हो रहे हैं। पिछले साल कोरोना महामारी के दौरान जरूरत मंद लोगों की सहायता के लिए सरकार ने भी सहयोग किया। भामाशाहों ने भी बढ़-चढ़ कर सहायता की थी, लेकिन इस बार न तो सरकार सहायता कर रही है और न ही भामाशाह आगे आ रहे हैं।

भास्कर ने मौके पर जाकर हकीकत देखी। सुभाष मार्केट स्थित दुर्गा मंदिर के सामने कई वर्षों से रह रहे कालबेलिया परिवार की दादी शांती देवी ने बताया कि बच्चों ने समझा खाना देने वाला आया है। इसलिए दौड़कर आपके पास आ गए। शांति देवी ने बताया कि घर में कुल आठ लोग हैं जिसमें बेटा राजवीर, बहु हंशा, बेटी जमना, सरस्वती, पूजा, दामाद जीतू व दो छोटे बच्चे हैं। कचरा बीन कर घर खर्च चलाया करते थे।

जब से कोरोना आया है तब से घर में बैठे हुए हैं। कचरा बीनने जाते हैं तो पुलिस वालों का डर बना रहता है। जैसे तैसे कचरा बीन भी लाते हैं तो उसे खरीदने वालों की दुकान बंद है। उसने कहा, साहब कोरोना से तो बैरो कोनी मरैंगा कि नहीं लेकिन अया ही चाल्यो तो भूख स जरूर मर जावंगा।

हंशा ने बताया कि पिछली साल जब कोरोना में सब कुछ बंद हुआ था तब सरकार व भामाशाहों ने राशन उपलब्ध करवाया था। जिससे काम चल गया था। अबकी बार तो न सरकार कुछ दे रही है और न ही कोई और देकर जारिया है जिस से बच्चों को कुछ खिला सके। हंशा ने बताया कि घर-घर जाकर मांग कर लेकर आवा है अगर मिल जाव तो ठीक नहीं तो पानी पीकर काम चलावा है। दो दिन से बच्चों ने भर पेट खाना नही खाया जिस के कारण आप को देख कर पास में आ गए।

इस प्रकार के हालात कई जगहों पर देखने को मिले, दिहाड़ी मजदूरी करने वालों के हालात दिन प्रतिदिन खराब होते जा रहे हैं अगर सरकार जरूरत मंद लोगों की सहायता के लिए आगे नहीं आई तो हालात ज्यादा खराब हो सकते हैं।

सरकार की तरफ से एक हजार रुपए सहायता के रूप में दिए जा रहे हैं। साथ ही अनाज भी दिया जा रहा है। सुबह ग्यारह बजे तक मजदूरी करने वालों पर कोई रोक नहीं है।-कृष्ण कुमार यादव, तहसीलदार खेतड़ी

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

    और पढ़ें