• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • Jhunjhunu
  • The Plight Of The Dead Body Due To The Negligence Of Mukundgarh CHC And Police, The Dead Body Has Been Kept In The Mortuary For 6 Days Without A Deep Freezer

डूमरा निवासी प्रदीप मेघवाल की मौत का मामला:मुकुंदगढ़ सीएचसी और पुलिस की लापरवाही के चलते शव की दुर्दशा, 6 दिन से बिना डीप फ्रीजर के रखा

झुंझुनूंएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मोर्चरी में बिना डीप फ्रीजर के रखा शव। - Dainik Bhaskar
मोर्चरी में बिना डीप फ्रीजर के रखा शव।

झुंझुनू के मुकुंदगढ़ इलाके में 8 दिसंबर की रात को डूमरा गांव निवासी प्रदीप मेघवाल की दुर्घटना में मौत होने के बाद परिजनों ने अभी तक शव नहीं लिया है। प्रदीप के परिजनों का आरोप है कि प्रदीप की हत्या की गई है और पुलिस दुर्घटना बता रही है। जब तक दोषियों को गिरफ्तार नहीं किया जाता तब तक शव नहीं लिया जायेगा। वहीं, मुकुंदगढ़ सीएचसी प्रशासन ने इस मामले में मानवता को शर्मसार कर देने वाली नापरवाही की सारी हदों को ही पार कर दिया। पिछले 6 दिन से प्रदीप का शव मुकुंदगढ़ सीएचसी में बिना डीप फ्रीजर के ही रखा हुआ है।

परिजनों ने मुकुंदगढ़ सीएचसी प्रशासन पर लापरवाही के आरोप लगाए हैं। परिजनों का कहना है कि आज जब प्रदीप के शव को देखने के लिए मुकुंदगढ़ सीएचसी की मोर्चरी में गए। शव की दुर्गति देखकर दंग रह गये। परिजनों ने प्रदीप के शव की दुर्दशा का वीडियो भी बनाया। वीडियों में शव बिना चद्दर के खुला ही पड़ा दिखाई दे रहा है। वहीं पिछले 6 दिनों से मोर्चरी में बिना डीप फ्रीजर के रखे जाने से शव अब सड़ने लगा है। बदबू मार रहा है।

परिजनों ने शव की दुर्गति देख बर्फ की व्यवस्था करवाई। परिजनों का कहना है कि मुकुंदगढ़ सीएचसी की मोर्चरी की लापरवाही से शव जिस हालत में 8 दिसंबर को मोर्चरी में आया था।-+ उसी हालत में पिछले 6 दिनों से पडा है। वहीं इस मामले में झुंझुनूं एसपी प्रदीप मोहन शर्मा से बात की गई तो उन्होंने बताया कि शव के लिये डीप फ्रीजर की व्यवस्था करने के लिये मुकुंदगढ़ सीएचसी प्रशासन को बोल दिया है। मगर सवाल यह उठता है कि क्या पिछले 6 दिन से बिना डीप फ्रीजर के रखे शव की बेकद्री अब तक मुकुंदगढ़ सीएचसी और पुलिस को दिखाई नहीं दी।

ये है मामला

मामले के अनुसार 8 दिसंबर की रात को डूमरा गांव में प्रदीप शराब के नशे में सड़क पर बाइक खड़ी करके उसके पास बैठा था। रात करीब 12 बजे एक बोलेरो गाड़ी की चपेट में आने से उसकी मृत्यु हो गई। परिजनों का आरोप है कि 7 दिसंबर की रात को माया होटल में खाना खाते समय प्रदीप का झगड़ा हुआ था। आरोपी विकास कुमार व उसके साथियाें ने इसी रंजिश के चलते गाड़ी से टक्कर मारकर प्रदीप की हत्या कर दुर्घटना का रूप देने का प्रयास किया। 8 दिसंबर की रात को वाहन की टक्कर से युवक प्रदीप मेघवाल की मौत के मामले में परिजनों ने हत्या का मामला थाने में दर्ज कराया था। सोमवार को पांचवें दिन भी परिजनों की ओर से शव नहीं लेने के चलते मृतक की अंत्येष्टि नहीं हो सकी। मृतक के परिजन व ग्रामीण आरोपियों को हत्या के मामले में गिरफ्तार करने समेत अन्य मांगों को लेकर अड़े हैं। जिसके चलते शव पिछले पांच दिनों से सीएचसी की मोर्चरी में रखा है। गौरतलब है कि इस संबंध में मृतक के भाई संदीप मेघवाल ने विकास जाट व अन्य चार पांच आरोपियों के खिलाफ गाड़ी से जानबूझकर टक्कर मारकर हत्या करने का मामला पुलिस थाने में दर्ज करवाया था। मामले की जांच नवलगढ़ डीएसपी सतपाल सिंह कर रहे हैं।