पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नगर परिषद की विकास शाखा का खेल:चहेते ठेकेदाराें काे टेंडर देने के लिए दूसरों की निविदाओं काे शामिल ही नहीं किया, ठेकेदारों ने सीएम को भेजा पत्र

झुंझुनूं20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

नगर परिषद द्वारा शहर में पेचवर्क अकार सीसी राेड बनाने काे लेकर साेमवार काे खाेली गई टेंडर प्रक्रिया सवालाें के घेरे में अा गई है। चहेते ठेकेदाराें काे टेंडर देने के लिए नगर परिषद के अधिकारियाें ने दूसरे ठेकेदाराें की निविदा टेंडर प्रक्रिया में शामिल ही नहीं की। इसके बाद नाराज ठेकेदाराें ने नगर परिषद अधिकारियाें से उलझ गए।

ठेकेदाराें ने मुख्यमंत्री अकार डीएलबी निदेशक काे ज्ञापन भेजकर टेंडराें की जांच कराने की मांग की है। जानकारी के अनुसार नगर परिषद ने शहर के विभिन्न वार्डाें में पेचवर्क कराने अकार नई सीसी राेड बनाने के लिए पिछले महीने 10 अगस्त काे करीब 8 कराेड़ रुपए के निविदा ईएनआईटी /08/2021-22 जारी की थी। जिसमें ऑनलाइन निविदा डालने का काम 12 अगस्त से प्रारंभ हुआ।

31 अगस्त काे निविदा की काॅपी नगर परिषद में जमा करानी थी। नवलगढ़ के चेलासी की एमएस पटेल कंस्ट्रक्शन कंपनी, झुंझुनूं की पचार कंस्ट्रक्शन कंपनी, बुगाला की पीके कंस्ट्रक्शन कंपनी समेत अन्य ठेकेदाराें ने ऑनलाइन निविदा डालने के बाद नगर परिषद की विकास शाखा में 31 अगस्त काे टेंडर कापी बाॅक्स में डाल दी थी। इसके बावजूद इन ठेकेदाराें के पास साेमवार की शाम उनके टेंडर काे शामिल नहीं करने का मैसेज आया। तो वे नगर परिषद पहुंचे।

एक्सईएन जगदीश पलसानिया से टेंडर शामिल नहीं करने काे लेकर सवाल पूछा ताे उन्हाेंने अधिकारियाें से टेंडर काे लेकर जानकारी लेने की बात कही। नगर परिषद द्वारा मांगी गई निविदा में कार्य संख्या पांच से 11 और कार्य संख्या 19 के लिए टेंडर प्रक्रिया में शामिल नहीं किया गया। इनमें कार्य संख्या पांच में वार्ड एक से 20, कार्य संख्या छह में वार्ड 21 से 40, कार्य संख्या सात में वार्ड 41 से 60 तक पेचवर्क कार्य कराना है।

वहीं कार्य संख्या आठ में वार्ड एक से 15, कार्य संख्या नाै में वार्ड 16 से 30, कार्य संख्या 10 में वार्ड 31 से 45 अकार कार्य संख्या 11 में वार्ड 46 से 60 तक में नई सीसी राेड बनाने के लिए निविदा जारी की गई थी। इनके अलावा वार्ड दाे के पीपली चाैक में बरसाती पानी का कुंड बनाने के लिए निविदा जारी हुई थी। इन कार्याे के लिए टेंडर डालने वाले ठेकेदाराें काे ही निविदा में शामिल नहीं कर उनका टेंडर निरस्त कर दिया गया। मामले की जांच कराएंगे

निविदा काे लेकर कुछ ठेकेदाराें ने शिकायत की है। इसकाे लेकर मंगलवार काे जांच कराएंगे। जांच के बाद ही इस मामले कुछ कहा जा सकता है।
अनिता खीचड़, नगर परिषद आयुक्त

आरोप : टेंडर खोलते तो 30 से 35% बिलो जाती रेट
नगर परिषद के अधिकारियाें द्वारा टेंडर डालने के बाद भी ठेकेदाराें काे प्रक्रिया में शामिल नहीं किया गया। ठेकेदार विकास पचार, प्रमाेद कुमार समेत अन्य ठेकेदाराें ने बताया कि उन्हाेंने पूरी प्रक्रिया का पालन करते हुए टेंडर जमा कराएं थे। साेमवार की शाम 4.30 बजे टेंडर प्रक्रिया में उनकाे शामिल नहीं करने मैसेज मिला।

इन ठेकेदाराें ने आराेप लगाया कि चहेते ठेकेदाराें काे दाे से चार फीसदी बिलाे रेट में टेंडर देने के लिए पूरा खेल किया गया है। टेंडर खाेलने पर 30 से 35 फीसदी बिलाे रेट जाती। इससे बचने के लिए ये काम किया गया है।

खबरें और भी हैं...