पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शिक्षा विभाग:ग्रेड सेकंड शिक्षकों के तबादले के लिए ऑनलाइन आवेदन का आज आखिरी दिन

झुंझुनूं13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • शिक्षकों की कोशिश - काेई अपने स्थानांतरण के लिए विधायक की डिजायर लिखवा रहा है ताे काेई मंत्रियों से संपर्क साध रहा

शिक्षा विभाग में ग्रेड सेकंड शिक्षक तबादलों के लिए ऑनलाइन आवेदन करने में जुटे हुए हैं। वहीं, शिक्षा विभाग में तृतीय श्रेणी लेवल प्रथम के 22 प्रतिशत और लेवल सेकंड के 28 प्रतिशत पद रिक्त हैं। बावजूद इसके ग्रेड थर्ड शिक्षकों को तबादलों का मौका नहीं मिला है।

तृतीय श्रेणी शिक्षक लंबे समय से तबादलों की मांग कर रहे हैं। डार्क जोन में फंसे टीचर्स 12 साल से ट्रांसफर के इंतजार में हैं। वर्तमान सरकार के कार्यकाल में एक बार भी ग्रेड थर्ड शिक्षकों के स्थानांतरण नहीं हुए हैं। वहीं, प्रतिबंधित जिलों में कार्यरत तृतीय श्रेणी शिक्षक 12 वर्ष से अपने गृह जिले में आने का इंतजार कर रहे हैं। ट्रांसफर से रोक हटने के बाद तृतीय श्रेणी शिक्षकों को स्थानांतरण में राहत देने की मांग उठने लगी है।

एक्सप्लेनर : ग्रेड सेकंड शिक्षकों में भी प्रोबेशनर ट्रेनी कार्मिक स्थानांतरण के लिए आवेदन के पात्र नहीं होंगे

पहले चरण में काैनसे शिक्षक तबादले के लिए आवेदन कर सकते है?
पहले चरण में सिर्फ ग्रेड सेकंड शिक्षक और समकक्ष पदों के तबादले ही किए जा रहे हैं।

तबादलाें के लिए कब तक आवेदन किए जा सकते है?
तबादलों के लिए ग्रेड सेकंड शिक्षक 22 जुलाई तक शाला दर्पण पोर्टल में स्टाफ लॉगिन पर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

तृतीय श्रेणी के शिक्षक तबादलाें के लिए कब आवेदन कर सकते है?
तृतीय श्रेणी शिक्षकों सहित शेष कैडर को मौका नहीं दिया गया है। ग्रेड सेकंड शिक्षकों में भी प्रोबेशनर ट्रेनी कार्मिक स्थानांतरण के लिए आवेदन के पात्र नहीं होंगे। माध्यमिक शिक्षा निदेशक सौरभ स्वामी ने इस संबंध में आदेश जारी किए हैं।

क्या तबादलाें के लिए आवेदन ऑफलाइन भी स्वीकार किए जा रहे हैं?
निदेशक की ओर से द्वारा जारी आदेश में स्पष्ट किया गया है कि स्थानांतरण के लिए ऑफलाइन आवेदन स्वीकार नहीं होंगे। केवल ऑनलाइन आवेदन पर ही विचार किया जाएगा।

क्या ये सेकंड ग्रेड शिक्षकों के लिए यह आवेदन करने की एक प्रक्रिया मात्र है?
हां ये सेकंड ग्रेड शिक्षकों के लिए यह आवेदन करने की एक प्रक्रिया मात्र है स्थानांतरण का अधिकार नहीं। ऑनलाइन आवेदन के बिना भी विभाग छात्र व राज्यहित में विभागीय आवश्यकता अनुसार किसी भी अधिकारी और कार्मिक का स्थानांतरण करने के लिए स्वतंत्र रहेगा।

10 जिलों के शिक्षक डार्क जाेन से अपने गृह जिले में आने का कर रहे इंतजार : बीकानेर, बाड़मेर, डूंगरपुर, जालौर, प्रतापगढ़, बांसवाड़ा, बारां, झालावाड़, सिरोही, जैसलमेर इन 10 जिलों के शिक्षक 12 साल से अपने गृह जिले में जाने का इंतजार कर रहे हैं। सबसे ज्यादा दिक्कत शिक्षिकाओं को है। कई शिक्षिकाओं की नियुक्ति के बाद शादी हुई। वे डार्क जोन में फंसी हैं और पति दूसरी जगह नौकरी कर रहे हैं। दोनों साथ नहीं रह सकते।

खबरें और भी हैं...