पिता की जगह 12 साल का बेटा बैठा भूख हड़ताल:विकास जाखड़ का 12 साल का बेटा बैठा अनशन पर, धरनार्थियों को जबरन उठा ले गई पुलिस

झुुंझुनूं4 महीने पहले
विकास जाखड़ को अस्पताल में भर्ती कराने के बाद उनका 12 साल का बेटा धरने पर बैठ गया। - Dainik Bhaskar
विकास जाखड़ को अस्पताल में भर्ती कराने के बाद उनका 12 साल का बेटा धरने पर बैठ गया।

सीआरपीएफ के सहायक कमांडेंट शौर्य चक्र विजेता विकास जाखड़ का बेटा अब अनशन पर बैठ गया है। पुलिस ने उसे भी जबरदस्ती धरना स्थल से उठाने की कोशिश की लेकिन वो जिद पर अड़ा रहा। इससे पहले शुक्रवार को विकास जाखड़ की तबीयत खराब होने पर पुलिस ने अस्पताल में भर्ती करवा दिया था। इसके बाद पुलिस शनिवार सुबह धरना स्थल पर पहुंची और उसके साथियों को भी धरना स्थल से उठाने की कोशिश की। इसके बाद से ही उनका बेटा भी धरने पर बैठ गया। अब गांव में बड़ी संख्या में पुलिस जाब्ता तैना किया गया है।

दरअसल, जाखड़ सरकारी नौकरियों में धांधली को लेकर पिछले चार दिन से अपने गांव में भूख हड़ताल पर बैठे थे। शुक्रवार को पुलिस ने विकास को अस्पताल में भर्ती करवा दिया। इसके बाद भी ग्रामीणों और प्रदेश भर से आए युवाओं ने धरना जारी रखा था। शनिवार सुबह सदर और कोतवाली थाने का जाब्ता मौके जाखड़ों का बास धरना स्थल पर पहुंचा। यहां पर धरने पर बैठे लोगों समझाइश की लेकिन नहीं माने। पुलिस ने धरने पर बैठे लोगों को जबरन गाडियों में डालकर उठा ले गए। पुलिस को काफी विरोध का सामना करना पड़ा।

विकास जाखड़ा 12 साल का बेटा खुशवंत ने अनशन शुरू कर दिया। गांव पुलिस जाब्ता तैनात कर दिया है। अस्पताल में भर्ती विकास जाखड़ ने बताया कि वे संघर्ष करते रहे हैं, सरकार उन्हें दबाने की कोशिश कर रही है। जाखड़ ने बताया कि युवाओं के भविष्य के लिए बैठे हैं। वे संघर्ष करते रहेंगे।जाखड़ सीआरपीएफ से इस्तीफा भी दे चुके हैं लेकिन इस्तीफा मंजूर नहीं हुआ है।

खबरें और भी हैं...