पानी की एक-एक बूंद को तरसते ग्रामीण:बुहाना के भोपालपुरा गांव में पानी की विकट समस्या, एकमात्र टंकी बुझा रही ग्रामीणों की प्यास, दिन में महिलाएं, रात को पुरुष भरते हैं पानी

झुंझुनूं2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पानी के नल पर लगी लोगों की भीड़। - Dainik Bhaskar
पानी के नल पर लगी लोगों की भीड़।

झुंझुनूं के बुहाना उपखंड मुख्यालय के ग्राम पंचायत भीर्र के भोपालपुरा गांव में लोग पीने के पानी की एक-एक बूंद के लिए तरस रहे हैं। गांव में कई महीनों से पीने के पानी की सप्लाई बंद है। पीने के पानी के लिए गांव की महिलाओं को दूर दूर से पानी लाने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। गांव के बीच में स्थित एक पानी की टंकी से ही पूरे गांव के पीने के पानी की पूर्ती हो रही है। लंबे समय से बनी पानी की समस्या से ग्रामीणों की दिनचर्या भी अस्त व्यस्त हो चुकी है। ग्रामीण दिन में मजदूरी करते हैं और रात को गांव में स्थित टंकी के पास से दूर-दूर तक घरों में पानी लाने की जद्दोजहद में लग जाते हैं।

ग्रामीणों का कहना है कि स्थानीय विधायक, सरपंच और अधिकारियों को इस विकट समस्या के बारे में कई बार गुहार लगाई। मगर किसी प्रकार की सुनवाई नहीं हुई। पानी की समस्या जस की तस बनी हुई है।जानकारी के अनुसार गांव में पीने के पानी की टंकी तो चार हैं,लेकिन पानी के टैंकरों द्वारा एक ही टंकी में पानी डाल जाता है। इसी वजह से सुबह से लेकर देर रात तक एकमात्र पानी की टंकी पर भीड़ जमा रहती है।पीने का पानी भरने की जल्दी में पानी को लेकर कई बार ग्रामीणों में आपस में विवाद भी हो जाता है। गांव में सुबह महिलाएं पानी भरती है और मजदूरी के बाद रात को पुरुष पानी भरते हैं।

चुनाव के समय नहीं होती पानी की समस्या

ग्राम पंचायत भीर्र के भोपालपुरा गांव में 200 घरों की आबादी में एकमात्र पानी की टंकी ग्रामीणों की प्यास बुझा रही है। स्थानीय ग्रामीण राकेश कुमार ने कहा कि चुनाव के समय तो चारों टंकियों में पानी भरा जाता है। इन टंकियों में टैंकर से पानी भरा जाता है। लेकिन जब चुनाव खत्म हो जाते हैं तो पानी के टैंकर भी आने बन्द हो जाते है। अब गांव में सिर्फ एक ही टंकी से पीने के पानी की आपूर्ति की जा रही है। जिससे काफी समस्या होती है।