भाई के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज:पीड़ित का आरोप- कूटरचित दस्तावेज तैयार कर अपने नाम किया पट्टा

खंडेला7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

खंडेला थाने में एक व्यक्ति ने अपने ही सगे भाई के विरुद्ध धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज करवाया है। पीड़ित ने बताया कि उसके भाई ने कूटरचित दस्तावेज तैयार कर घर का पट्टा धोखाधड़ी से अपने नाम करक लिया है।

खंडेला थाने में विश्वनाथ ओढ़का ने मुकदमा दर्ज करवा कर बताया कि नगर पालिका क्षेत्र में उनका पैतृक आवासीय मकान है, जिसके पट्टे के लिए उनकी मां के द्वारा नगर पालिका खंडेला में आवेदन किया गया था। परंतु उनकी मां के देहांत के कारण वे अपने पैतृक मकान का पट्टा प्राप्त नहीं कर सके। माता जी की मृत्यु के बाद उनके एक एक भाई ने अपने अन्य भाइयों व बहन की बिना सहमति के कूट रचित दस्तावेज तैयार कर अपने अकेले के नाम पट्टा बना लिया। जब इसकी भनक अन्य भाइयों और बहनों को लगी तो उन्होंने इसकी पड़ताल शुरू की। जब नगर पालिका खंडेला व उप पंजीयक कार्यालय से नकल प्राप्त होने पर अकेले भाई के नाम पट्टा जारी होने की जानकारी सामने आई तो वह हक्का-बक्का रह गया।

इसके बाद पीड़ित ने अपने भाई को पट्टा निरस्त करवाने का निवेदन किया तो वह उसे धमकी देने लगा व पट्टा निरस्त कराने से इंकार कर दिया। पीड़ित विश्वनाथ ओढ़ाका ने अपने ही भाई कैलाश ओढाका के विरुद्ध कूट रचित दस्तावेज तैयार कर पालिका अध्यक्ष, अधिशासी अधिकारी व अन्य कार्मिकों के साथ मिलकर धोखाधड़ी से पट्टा बनवाने का आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज करवाया है। पीड़ित ने दर्ज रिपोर्ट में बताया कि वर्ष 2013 में उनकी माताजी ने नगर पालिका खंडेला में पट्टा प्राप्त करने के लिए आवेदन किया था, लेकिन पट्टा प्राप्त होने से पहले ही वर्ष 2018 में उनका देहांत हो गया। उक्त आवासीय पैतृक मकान में वे निवास कर रहे हैं और उनकी माता जी के बहन सहित पांच उत्तराधिकारी है। इनकी बिना सहमति के अकेले भाई कैलाश ओढ़ाका ने अक्टूबर 2021 में आवासीय मकान का पट्टा बनाने के लिए अकेले के नाम से आवेदन कर दिया।

फिलहाल खंडेला थाना पुलिस ने पूर्व नेता प्रतिपक्ष के पिता कैलाश ओढाका के विरुद्ध विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

खबरें और भी हैं...