पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

गोपाष्टमी:गुढ़ागौड़जी, उदयपुरवाटी, सूरजगढ़, बगड़ और मंड्रेला की गोशालाओं में भामाशाहों ने डलवाया चारा और खल की बोरियां

मंड्रेला3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कस्बे की शीतल गोशाला में रविवार को गोपाष्टमी पर्व धूमधाम से मनाया गया। गोशाला समिति के कोषाध्यक्ष महेश लाठ ने बताया कि शाम 6 बजे तक श्रद्धालुओं द्वारा गोशाला में 75 हजार नकद, 550 किलो गुड़, 25 क्विंटल खल, 5 क्विंटल बाजरे का दान आया। उल्लेखनीय है कि देर रात तक गोशाला मे भक्त दान के लिए आ रहे थे।

बबाई. गोपाष्टमी के पर्व पर बबाई में गोमाता की पूजा कर गुड़ व दलिया तथा हरी सब्जी खिलाई। रहीमुद्दीन तंवर ने गोशाला में 125 किलो गुड़ व 1 चारे की पिकअप गायों के लिए दी। इस अवसर पर सलाउद्दीन निनाणपुरिया, अनिल बोछवाल, सगीरुदीन तंवर मौजूद रहे।
सूरजगढ़. कस्बे की पंचायत गोशाला में श्रद्धालुओं ने गायों का पूजन कर गुड़ व हरा चारा खिलाया। गोशाला प्रबंध समिति के अध्यक्ष बृजलाल गाडोदिया, उपाध्यक्ष विनोद चौधरी, मंत्री सुशील सेकसरिया, संजय कानोडिया, महेश ड्रोलिया, विजेंद्र धींवा सहित अन्य श्रद्धालु महिला-पुरूषों ने गायों का पूजन किया। लोगों ने खल की बोरियां दी।
चिराना. श्रीकृष्ण गोशाला में संत हेमंत दास महाराज के सानिध्य में भजनों का कार्यक्रम हुआ। पंडित चंद्रकांत गौतम ने गोपालक भगवान कृष्ण व गोमाता की पूजा की। इस दौरान सरपंच राजेंद्र सिंह शेखावत, परसराम अग्रवाल, शिवकरण अग्रवाल, गीगराज जांगिड़, श्रीराम सोनी, प्रतापराम कुमावत, शंभु अग्रवाल, दिलीप सिंह, वीरेंद्र सिंह शेखावत, प्रद्युम्न गौतम, दुर्गापाल सिंह शेखावत, कैलाश शर्मा मौजूद थे।
बाघोली. मणकसास स्थित श्री ओम जनता गौशाला गंगादास घाट पर गोशाला संचालक बाबा कायम दास के नेतृत्व में पूजा की गई। शनिवार शाम को वृंदावन के रामानंद महाराज के सानिध्य में सुंदरकांड पाठ व रामायण पाठ किया गया। विशिष्ट अतिथि कांग्रेस नेता विजेंद्र सिंह इंद्रपुरा थे। इधर, जोधपुरा की गोशाला में गाय की पूजा की गई। कोरोना संक्रमण के कारण बड़े आयोजन नहीं किए गए। गोशाला के महामंत्री कृष्ण कुमार दास, प्रबंधक बलराम दास आदि मौजूद थे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर-परिवार से संबंधित कार्यों में व्यस्तता बनी रहेगी। तथा आप अपने बुद्धि चातुर्य द्वारा महत्वपूर्ण कार्यों को संपन्न करने में सक्षम भी रहेंगे। आध्यात्मिक तथा ज्ञानवर्धक साहित्य को पढ़ने में भी ...

और पढ़ें