स्वास्थ्य एवं चिकित्सा विभाग / लोगाें काे डरा धमका कर देते थे स्वास्थ्य मित्र बनाने का झांसा

X

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 04:54 AM IST

मंड्रेला. स्वास्थ्य एवं चिकित्सा विभाग ने जिन तीन लोगों को पकड़ा, वे लोगों को स्वास्थ्य मित्र बनाने का झांसा देकर ठग रहे थे। विभाग ने स्वास्थ्य मित्र के लिए अावेदन मांगे थे। इसकी अंतिम तिथि 17 जून निकल चुकी है। उसी की अाड़ में गिराेह ने झाेलाछाप डाक्टराें अाैर निजी अस्पतालाें में काम करने वाली जीएनएम व एएनएम के साथ मेडिकल स्टाेर संचालकाें से ठगी का प्लान बनाया। स्वास्थ्य मित्र याेजना के पंपलेट छपवाए अाैर रसीद काटने लगे। प्रारंभिक पूछताछ में पता लगा कि ये लाेग गांवाें में चिकित्सा का काम करने वालाें के पास जाते अाैर उनकाे प्रफाेर्मा दिखा कर सवाल पूछते जिससे वाे घबरा जाता। उसे बचने के लिए स्वास्थ्य मित्र या कार्यकर्ता बनने काे कहते। इसके बाद रसीद काट कर उससे रुपए ले जाते थे। इनके द्वारा हरियाणा के महेन्द्रगढ़, नारनाैल, अलवर के बहराेड अादि में काटी रसीदें अाैर फार्म भी मिले हैं।
मुख्य आरोपी गुरदास महान डूमोली और बाकी दो आरोपी तथाकथित डाॅक्टर जीएम सूर्यवंशी व कृष्णा सिंघाना से है। इनके पास से लोगों को बेवकूफ बना कर 2550, 2050, 1050 रुपए की काटी हुई रसीदें मिली। डॉ. जीएम सूर्यवंशी ने चेयरमैन प्रकृति वृद्धि स्वास्थ्य देखभाल एवं शिक्षा परिषद जयपुर के नाम से मोहर व आईडी कार्ड बनवा रखी है। इनके पास जो कागजात मिले उनमें जयपुर के सोडाला का पता लिखा है। उन्होंने बताया कि उनके बॉस का नाम सीएस कमल है। 
एेसे पकड़ में आए : गिरोह के लोग भोमपुरा ग्राम पंचायत के एक मेडिकल स्टोर पर पहुंचे, वहां फार्मासिस्ट सीएल सैनी को बताया कि सरकार द्वारा कोविड 19 के नाम पर ट्रस्ट बना रखा है। उनसे लिया जाने वाला पैसा सरकार के पास जमा होगा। उन्होंने सीएल सैनी की 2050 रुपए की रसीद भी काट दी। सैनी को शक होने पर चिड़ावा ब्लॉक अधिकारी संत कुमार जांगिड़ को टेलीफोन किया। विभाग की टीम आने तक उनको बातों में उलझा कर रखा।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना