पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चेस्ट थैरेपी व ब्रीदिंग का अभ्यास:मरीजों को करा रहे चेस्ट थैरेपी व ब्रीदिंग का अभ्यास

मुकुंदगढ़8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोविड की दूसरी लहर अब उतार पर है। इस लहर में कोविड मरीजों के लिए चेस्ट थेरेपी भी कारगर साबित हुई है। तीसरी लहर में बच्चों की सुरक्षा के लिए ब्रीदिंग एक्सरसाइज को फिजियोथैरेपिस्ट कारगर मान रहे हैं। सीएचसी के फिजियोथैरेपिस्ट डॉ. बनवारीलाल बाकोलिया ने बताया उनके द्वारा बच्चों को तीसरी लहर में संभावित खतरे को लेकर श्वांस प्रक्रिया व फेफड़ों से संबंधित एक्सरसाइज का ऑनलाइन अभ्यास व परामर्श कराया जा रहा है।

उन्होंने बताया मरीजों को चेस्ट फिजियोथैरेपी, डायाफ्रामेटिक, ब्रीदिंग डीप, ब्रीदिंग बैलून फुलाना, इंसेंटिव स्पायरोमीटर आदि एक्सरसाइज करवाई जा रही है। इसके अलावा चेस्ट फिजियोथैरेपी की उपयोगिता व गुणवत्ता के बारे में बताया। कोरोना मरीजों में ऑक्सीजन लेवल बढ़ाने व फेफड़ों में जमा कफ को बाहर निकालने में यह पद्धति कारगर साबित हुई। भर्ती मरीजों को अस्पताल से छुट्टी के बाद वापस फेफड़ों को पूर्वावस्था में लाने के लिए चेस्ट फिजियोथैरेपी बेहतर काम कर रही है।

खबरें और भी हैं...