पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अभियान की तैयारियां को लेकर मीटिंग:समीक्षा मीटिंग में गैर हाजिर रहे पीडब्ल्यूडी एसई को 17 सीसीए का नोटिस, कलेक्टर बोले-मैं आपसे तंग आ चुका हूं

सीकर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

आगामी दो अक्टूबर से शुरू हाेने वाले प्रशासन शहरों एवं गांवों के संग अभियान की तैयारियाें काे लेकर साेमवार काे कलेक्टर की अध्यक्षता में मीटिंग हुई। साप्ताहिक समीक्षा बैठक में कलेक्टर ने अधिकारियों की गैर मौजूदगी व बिना तैयारी आने पर जमकर फटकार लगाई।

मीटिंग से गैर हाजिर रहे पीडब्ल्यूडी एसई सायरमल मीणा को 17 सीसीए का नोटिस जारी करने के निर्देश दिए, वहीं किराए के भवन में चल रहे आंगनबाड़ी केंद्राें की संख्या नहीं बता पाने पर महिला एवं बाल विकास विभाग की उपनिदेशक सुमन पारीक काे कार्रवाई की चेतावनी दी। कलेक्टर अलग-अलग विभाग वार तैयारियों पर चर्चा कर रहे थे। मीटिंग में पीडब्ल्यूडी एसई सायरमल मीणा के उपस्थित नहीं होने पर कलेक्टर ने सवाल किया।

एक्सईएन गोपाल आर्य ने बताया कि वे खंडेला गए हैं। कलेक्टर ने नाराजगी जताते हुए कहा, बिना सूचना एसई ने मुख्यालय कैसे छोड़ा। मुझे पता है वे खंडेला क्या करते हैं। कलेक्टर ने मीटिंग में ही एसई को 17 सीसी का नोटिस के निर्देश जारी कर दिए। मीटिंग में कलेक्टर ने महिला एवं बाल विकास विभाग की उपनिदेशक सुमन पारीक से सवाल किया कि जिले में कितने आंगनबाड़ी केंद्र किराए के भवन में चल रहे हैं। उपनिदेशक जवाब नहीं दे पाई। कहा, सीडीपीओ से पता करना पड़ेगा। कलेक्टर ने नाराजगी जताते हुए कहा, आप जिलास्तरीय अधिकारी हैं। इस तरह जवाब दे रहीं हैं। आखिरकार आपके सीडीपीओ कौनसे ग्रह पर रहते हैं। कलेक्टर ने कहा, मैं आप दोनों अफसरों से तंग आ चुका हूं। कलेक्टर ने पीडब्ल्यूडी के अधिशाषी अभियन्ता को प्रशासन गांवों के संग अभियान में दो गांवों को जोड़ने वाली सड़कों का प्रस्ताव बनाने काे कहा।

शिविर औपचारिकता नहीं है, इसे गंभीरता से लें...

कलेक्टर ने अभियान में शामिल 19 विभागों के संबंधित अधिकारियों को शिविरों की मॉनिटरिंग के निर्देश दिए। उन्होंने स्पष्ट शब्दों में कहा कि इन शिविरों को गंभीरता से लें, इन्हें औपचारिक नहीं समझें। नगर परिषद आयुक्त, नगर विकास न्यास, नगर पालिका के अधिशाषी अधिकारियों को निर्देश दिए कि नगरीय निकाय क्षेत्रों में स्थित सिवायचक भूमि को नगरीय निकायों को हस्तांतरित करें। उन्होंने सरकारी कार्यालयों के लिए भूमि आबंंटन के लंबित प्रकरणों का प्राथमिकता से निस्तारण करने के निर्देश दिए। अधिकारी फील्ड का दौरा कर जनसमस्याओं का चिन्हीकरण करेंगे। शिविरों में ब्लॉक स्तरीय विभागीय अधिकारियों की आवश्यकतानुसार उपस्थिति सुनिश्चित की जाए।

पीएम आवास योजना की दूसरी-तीसरी किश्त का भुगतान करें

प्रधानमंत्री आवास योजना में 2020-21 तक स्वीकृत आवासों में से 138 लाभार्थियों को दूसरी व तीसरी किश्तों का भुगतान करवाने के निर्देश दिए। जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करने के साथ ही जनता जल योजना एवं सिंगल फेस ट्यूबवैल के रखरखाव की शिकायतों का निस्तारण तत्काल करें। कलेक्टर ने पालनहार योजना में 800 से अधिक बच्चों का अध्ययन प्रमाण पत्र शत-प्रतिशत जारी करवाने के साथ ही सैनिक कल्याण विभाग पूरे जिले में आउटरीच सर्वे कराकर पूर्व सैनिकों के पहचान पत्र जारी करवाने को कहा। श्रम विभाग के सहायक श्रम आयुक्त से कहा कि योजनाओं की आपूर्ति करवाएं।

बोले-फीते से नापते हैं बच्चों का वजन

कलेक्टर ने महिला एवं बाल विकास विभाग की उपनिदेशक से पूछा कि केंद्रों पर बच्चों का वजन कैसे करते हैं। उपनिदेशक ने कहा, फीते से नापते हैं। इसके बाद कलेक्टर ने डिप्टी सीएमएचओ सीपी ओला से पूछा, अस्पताल में बच्चों का वजन कैसे करते हैं। ओला ने कहा, फीते से वजन नापते हैं। कलेक्टर ने कहा, आपको वेट मशीन क्यों दे रखी है। आपकाे यह तक पता नहीं है कि वजन किससे नापा जाता है।

ये रहे मौजूद : जिप के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुरेश कुमार, एडीएम धारासिंह मीणा, सहायक कलेक्टर गुंजन, डीएसओ राजपाल यादव, मुख्य आयोजना अधिकारी नरेन्द्र भास्कर, सहायक निदेशक ओमप्रकाश राहड़, नगर परिषद आयुक्त श्रवण विश्नोई, अधीक्षण अभियंता जलदाय चुन्नीलाल, बिजली निगम एसई नरेन्द्र गढ़वाल, भींमाराम चौधरी आदि मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...