पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अफसरों की कुपोषण वाटिका:370 आंगनबाड़ी केंद्रों पर 18 लाख रु. से बननी थी पोषण वाटिका, 153 पर न तो सब्जी उगी और न काेई पौधा

सीकर9 दिन पहलेलेखक: अनिल शर्मा
  • कॉपी लिंक
  • 6 साल तक के बच्चे व गर्भवती महिलाओं काे भाेजन में हरी सब्जी मिले, इसलिए बनानी थी पोषण वाटिका

काेराेना काल में गर्भवती महिलाओं और 6 साल तक के बच्चाें की सेहत के लिए शुरू की गई पाेषण वाटिका याेजना 18 लाख रुपए खर्च करने के बाद भी कुपोषण योजना बन चुकी है। वाटिका महिला एवं बालविकास विभाग के जरिए आंगनबाड़ी केंद्राें पर डवलप की जानी थी।

भाेजन मेें पाेषकतत्वाें की मात्रा बढ़ाने के लिए सबसे पहले केंद्राें पर हरी पत्तेदार सब्जी उगाई जानी थी। साथ में फलदार पाैधे राेपित कर भविष्य में आंगनबाड़ी केंद्राें पर बच्चे एवं महिलाओं काे कई तरह के फल भी उपलब्ध करवाए जाने थे। सीकर जिले में कुल 2141 आंगनबाड़ी केंद्र हैं। इनमें से 370 सेंटराें पर पाेषण वाटिका डवलप करनी थी। प्रत्येक सेंटर काे 10-10 हजार रुपए की राशि का बजट तय किया गया था।

अगस्त में सभी सेंटराें काे 5-5 हजार रुपए जारी कर दिए गए। दैनिक भास्कर ने आंकड़े जुटाए तो पता चला कि 370 में से सिर्फ 153 केंद्रों पर वाटिका बनाने की खानापूर्ति की गई है। पिपराली सीडीपीओ राजेंद्र सिंह व खंडेला के कुलदीप मीणा सहित ज्यादातर सेंटर के सीडीपीओ जिम्मेदारी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं पर ही डालते रहे। सीडीपीओ का जवाब था कि हमने बजट जारी कर दिया, पाेषण वाटिका आंगनबाड़ी केंद्राें काे ही डवलप करनी थी। उनसे रिपाेर्ट ली जा रही है। यदि पाेषण वाटिका डवलप नहीं की है ताे कार्रवाई की जाएगी।

^आंगनबाड़ी सेंटराें पर पाेषणवाटिका डवलप कराने की सभी सीडीपीओ की जिम्मेदारी थी। उन्हें ही अपने-अपने क्षेत्र में सेंटराें का चयन कर बजट के अनुसार पाेषण वाटिका में सब्जी एवं फलदार पाैध बुआई करवाने थे। हां यह सही है काफी सेंटराें पर पाेषण वाटिकाएं डवलप नहीं हुई है। इसकी जांच करवा रहे हैं।
सुमन पारीक, सहायक निदेशक, महिला एवं बाल विकास

बच्चों व गर्भवती महिलाओं के लिए वाटिका तो नहीं बनी, बजट हजम कर जिम्मेदारों का पोषण जरूर हो गया, क्योंकि 10 हजार में से 5-5 हजार की पहली किश्त सबने उठा ली

पिपराली : कैंपस पूरी तरह से खाली था
पिपराली के बस स्टैंड आंगनबाड़ी केंद्र पहुंचे ताे हकीकत चाैंकाने वाली थी। यहां कुछ फलदार पाैधे राेपित पाए गए तथा किसी भी तरह की सब्जियाें की फसलें उगाई हुई नहीं थी। भास्कर ने सेंटर संचालक से संपर्क किया ताे फाेन आउट ऑफ रेंज था। इसके लिए सीडीपीओ से बात की ताे उन्हाेंने कहा कि सेंटराें की जांच करवाते हैं।

शिवसिंहपुरा : कैंपस में एक पाैधा तक नहीं मिला
पिपराली इलाके के शिवसिंहपुरा सेंटर में पाेषण वाटिका मिलना ताे दूर एक पाैधा तक नहीं पाया गया। आंगनबाड़ी केंद्र की कार्यकता सुभिता काे फाेन लगाया ताे उनका फाेन बंद आ रहा था। सहायिका सराेज के घर जाकर बातचीत करने की काेशिश की गई ताे उन्हाेंने कहा इस संबंध में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता से बात करें।

ये सब्जी एवं फलदार पाैधे उगाए जाने थे
गाइड लाइन के अनुसार चिह्नित किए गए सेंटराें पर आंगनबाड़ी स्टाफ के द्वारा फलदार पाैधाें में पपीता, आंवला, चीकू, अमरुद, जामुन, नींबू, किन्नू, कराैंदा, सेजंना, एलाेविरा, पालक, मूली, गाजर, हरा धनिया, मटर आदि फसल एवं पाैधे उगाए जाने थे।

याेजना का मकसद
सरकार के द्वारा केंद्राें से जुड़े बच्चे व गर्भवती महिलाओं काे पाैषणयुक्त फल व सब्जियां उगाकर उपलब्ध करवाया जाना था। ताकि केंद्र पर बनाए जाने वाले पाैषाहार में सभी तरह की सब्जियाें के पाैषकतत्व उपयाेग कर पाेष्टिक भाेजन उपलब्ध करवाया जा सके।

क्या भ्रष्टाचार छिपाने के लिए सिर्फ रानोली सेंटर का निरीक्षण करवाया गया?
याेजना में हैरानी की बात ये है कि महिला बाल विकास विभाग के निदेशक काे भी विभाग के अधिकारियाें ने एक सेंटर की जांच करवाकर औपचारिकता पूरी कर ली। क्याेंकि-पिछले सप्ताह विभाग की निदेशक ने जिले की विजिट कर आंगनबाड़ी केंद्राें पर डवलप की गई पाेषण वाटिका सहित विभिन्न याेजनाओं के संबंध में जानकारी ली। अधिकारियाें ने रानाेली में संचालित एक सेंटर की विजिट करवाकर निरीक्षण की औपचारिकता पूरी कर ली। जबकि पिपराली पंचायत समिति में चिह्नित 24 में से 10 से ज्यादा ऐसे सेंटर हैं, जहां पर पाेषण वाटिका का नामाेनिशान तक नहीं है।

पोषण वाटिका योजना से जुड़े इन 5 आंकड़ों को भी समझिए
कुल आंगन बाड़ी केंद्रः 2141
पाेषण वाटिका बननी थीः 370
पाेषण वाटिका बनीः 153

एक सेंटर के लिए स्वीकृत बजटः 10000 बजट जारी कियाः 5000

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप प्रत्येक कार्य को उचित तथा सुचारु रूप से करने में सक्षम रहेंगे। सिर्फ कोई भी कार्य करने से पहले उसकी रूपरेखा अवश्य बना लें। आपके इन गुणों की वजह से आज आपको कोई विशेष उपलब्धि भी हासिल होगी।...

    और पढ़ें