• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • 2 Prize Crooks Of Alwar Were Hiding In The River To Rob The Crusher Owner, Chased 1 Km And Caught Along With The Henchmen

लूट करने से पहले पकड़ाए बदमाश:क्रेशर मालिक काे लूटने नदी में छिपे थे अलवर के 2 इनामी बदमाश,1 किमी पीछा कर गुर्गे सहित दबोचा

सीकर22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
हथियारों के साथ पकड़ में आए आरोपी। - Dainik Bhaskar
हथियारों के साथ पकड़ में आए आरोपी।

हत्या का प्रयास, लूट और हथियार तस्करी में फरार दाे इनामी बदमाशाें काे पाटन पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इनसे दाे देशी कट्टे व कारतूस बरामद हुए हैं। इनका एक गुर्गा भी पुलिस के हाथ लगा है। तीनाें यहां किसी क्रेशर मालिक काे लूटने की फिराक में नदी में छुपे थे। इससे पहले पुलिस ने तीनाें काे दबाेच लिया गया।

पाटन थानाधिकारी बृजेश तंवर ने बताया कि पकड़ में आया आरोपी विजय सिंह उर्फ माया पुत्र मुकेश जाट व कर्मपाल उर्फ केपी पुत्र इंद्रसिंह जाट दाेनाें दाेस्त हैं। ये जागूवास थाना बहराेड़ जिला अलवर के हैं। उनका साथी राहुल उर्फ इस्मालपुरिया पुत्र राेशनलाल निवासी इस्लामपुर जिला अलवर का है। विजय व कर्मपाल पर अलवर पुलिस ने पांच-पांच हजार रुपए इनाम का घाेषित कर रखा है और दाेनाें ही थाना बहराेड़ पुलिस के फरार बदमाश हैं। तीनाें बदमाश हथियार लेकर माेठुका नदी इलाके में घूम रहे थे।

पूछताछ में उन्हाेंने कबूला है कि फरारी काटने के दाैरान जब उनके पास पैसे खत्म हाे गए ताे उन्होंने माेठुका नदी इलाके अाैर इसके आसपास संचालित क्रेशर के किसी मालिक काे लूटने का प्लान बना रखा था। हालांकि ये तय नहीं था कि किसे लूटना है। इन्हें पता था कि इलाका माइनिंग जाेन है। हैड कांस्टेबल हरिराम काे जरिए मुखबिर इनके नदी इलाके में छुपे हाेने की सूचना मिली ताे पुलिस जाब्ता लेकर नदी इलाके में पहुंची। यहां पुलिस काे देखकर तीनाें आराेपी भागने लगे। पुलिस ने एक किलाेमीटर तक इनका खेतों और नदियाें के कच्चे रास्ताें में पीछा कर घेराबंदी कर दबाेच लिया। तलाशी ली ताे विजय सिंह और कर्मपाल के पास एक-एक देशी कट्टा व कारतूस बरामद हुए। तीनाें काे गिरफ्तार कर काेर्ट में पेश किया गया। न्यायालय ने उन्हें दाे दिन के पुलिस रिमांड पर साैंपा है, ताकि पता लगाया जा सके कि ये लाेग हथियार कहां से और किससे खरीद कर लाए हैं।

12वीं तक पढ़े-लिखे हैं दाेनों बदमाश
एएसआई जालूराम ने बताया कि विजय सिंह और कर्मपाल दाेनाें एक ही गांव जागूवास हैं। दाेनाें साथ पढे़ हाेने से दाेस्त हैं अाैर 12वीं तक पढे़-लिखे हैं। उनका साथी राहुल उर्फ इस्लामपुरिया बीए प्रथम वर्ष का छात्र है। विजय सिंह पर छह मुकदमे हैं और वह जेल भी जा चुका है। कर्मपाल तीन मुकदमों में वांछित है। तीनाें की उम्र 20 साल है। लूट की वारदात के लिए तीनाें सुबह ही नदी इलाके में आकर छुप गए थे।
पड़ाेसी से बदला लेने उतरे अपराध में
एएसआई जालूराम के अनुसार विजय सिंह और कर्मपाल का गांव में पड़ाेसी के साथ जमीन को लेकर विवाद चल रहा है। पड़ाेसी से बदला लेने के लिए ही दाेनाें अपराध में उतरे हैं। अलवर में इनके खिलाफ हथियार और मारपीट के मुकदमे दर्ज हुए ताे पुलिस के डर से बचने के लिए अपना जिला अलवर छाेड़कर सीकर मेंे वारदात करने अा गए। देशी कट्‌टे अलवर से खरीदे लेकिन, सप्लायर का नाम नहीं उगल रहे हैं।

खबरें और भी हैं...