पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना से चिंता:38 दिन में 309 मरीज; इनमें से 189 की उम्र 40 साल से कम, तनाव भी बढ़ रहा

सीकर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में गुरुवार को 33 नए कोरोना पॉजिटिव सामने आए हैं। वहीं टीका लगने के 18 घंटे बाद महिला की मौत हो गई। अब तक वायरस से 9802 संक्रमित हो चुके हैं। इनमें 9429 स्वस्थ हो चुके हैं। जबकि 270 एक्टिव केस हैं। गुरुवार को सीकर शहर में 14, फतेहपुर ब्लॉक में दो, खण्डेला ब्लॉक में चार, कूदन व श्रीमाधोपुर ब्लॉक में एक-एक और श्रीमाधोपुर ब्लॉक में पांच और दांता क्षेत्र में छह नए कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। खाटू में 4 स्कूल स्टूडेंट्स पॉजिटिव मिले।

शहर में गुरुवार को टीकाकरण के 18 घंटे बाद महिला की मौत हो गई। चिड़िया टीबा पुरोहित की ढाणी निवासी निर्मलादेवी (56) ने बुधवार दोपहर को एसके हॉस्पिटल के टीकाकरण सेंटर पर टीका लगवाया। घर जाने के बाद निर्मला की तबीयत बिगड़ गई। शाम को परिजन उसे शहर के निजी हॉस्पिटल लेकर पहुंचे।

प्रारंभिक इलाज के बाद महिला को रैफर कर दिया। गुरुवार सुबह 4 बजे महिला की मौत हो गई। महिला डायबिटिज की मरीज थी। गुरुवार को महिला का अंतिम संस्कार कर दिया। महिला का पति एसके हॉस्पिटल में कर्मचारी है। इधर फीजिशियन डॉ. रघुनाथप्रसाद का कहना है कि कोरोना वैक्सीन मौत की वजह नहीं हो सकती। जांच-परख के बाद ही वैक्सीन को मंजूरी मिली है। महिला की मौत की वजह का पता जांच के बाद ही चल सकता है।

एसके में 3 महीने में 43 ऐसे रोगी पहुंचे, जो कोरोना ठीक होने के बाद डिप्रेशन में आए

काेराेना की 2 चिंताजनक तस्वीरें सामने अाई है। पहली है-बच्चे व युवा सबसे ज्यादा काेराेना से संक्रमित हाे रहे हैं। दूसरी है-10 महीने बाद भी कई संक्रमित ऐसे हैं, जिनका डिप्रेशन लेवल कम नहीं हो रहा है। एसके अस्पताल के मनोरोग विभाग में 3 महीने में 43 ऐसे मरीज इलाज के लिए पहुंच चुके हैं। एक मार्च से 7 अप्रैल तक 309 पॉजिटिव मिले। इनमें 189 की उम्र 40 साल से कम है। जबकि 21 से 30 साल के 20 फीसदी युवा कोरोना संक्रमित हुए। 10 साल तक के बच्चे भी कोरोना की चपेट में आ रहे हैं।

अब तक 1.94 प्रतिशत बच्चे भी पॉजिटिव हुए हैं। आरटी-पीसीआर कोरोना लैब के माइक्रो एंड इम्युनोलॉजी विशेषज्ञ डॉ. सुरेंद्र पूनिया बताते हैं-कोरोना वायरस लगातार बदल रहा है। अब नए वेरिएंट की वजह से युवा ज्यादा संक्रमण के दायरे में आ रहे हैं। वायरस का जीनोम बदलने से संक्रमितों में लक्षण नहीं होते है। संक्रमित समय पर डिटेक्ट नहीं होता तो उसमें धीरे-धीरे वायरल लोड बढ़ता जाता है।

परिवार के लोग कमरे में बैठे होते हैं, तब बाहर लगा देते हैं ताला

कोरोना वायरस की चपेट में आए कई मरीज डिप्रेशन में चले गए। एसके हॉस्पिटल के मनोरोग विभाग में तीन महीने में ऐसे 43 मरीज इलाज के लिए पहुंचे। कुछ दिनों पहले लक्ष्मणगढ़ से 47 साल का व्यक्ति आया। संक्रमण से रिकवर होने के बाद डिप्रेशन में रहने लगा। दिन में भी परिवार को कमरे में बंद कर ताला लटका देता था। इसी तरह सीकर शहर के शेखपुरा मोहल्ला का 33 साल का युवक भी सितंबर में कोरोना पॉजिटिव हुआ। युवक ठीक हो गया, लेकिन मानसिक स्थिति बिगड़ गई। युवक का फिलहाल एसके हॉस्पिटल में मनोरोग विशेषज्ञों के पास इलाज चल रहा है। युवक अचानक रोने लगता है। कई दिन खाना नहीं खाता।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज मार्केटिंग अथवा मीडिया से संबंधित कोई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, जो आपकी आर्थिक स्थिति के लिए बहुत उपयोगी साबित होगी। किसी भी फोन कॉल को नजरअंदाज ना करें। आपके अधिकतर काम सहज और आरामद...

    और पढ़ें