पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लेट लतीफी:गांव और वार्डों में लगाने थे 40 डाॅक्टर व 1436 स्वास्थ्य सहायक, अब 25 दिन बचे

सीकरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • आवेदकों की काउंसलिंग तक नहीं हुई
  • 31 जुलाई तक के लिए सेवाएं ली जानी थी

कोरोना काल में मरीजों के इलाज के लिए स्वीकृत अस्थाई डाॅक्टर, एएनएम-जीएनएम (स्वास्थ्य सहायक) पदों पर सवा महीने बाद भी भर्ती प्रक्रिया पूरी नहीं की जा सकी। कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण के लिए इन्हें गांव व शहरी वार्डों में लगाया जाना था। सीएमएचओ कार्यालय द्वारा 20 मई को 40 डाक्टर और 1436 जीएनएम-एएनम पदों पर अस्थाई भर्ती निकाली गई। 31 जुलाई तक के लिए इनकी सेवाएं ली जानी थी। आवेदन प्रक्रिया पूरी हाेने के 38 दिन बाद भी इन्हें नियुक्ति नहीं मिली है, जबकि जुलाई महीने में सेवाकाल के महज 25 दिन बाकी बचे हैं।

सवाल ये है कि क्या सीकर में स्वास्थ्य विभाग इन पदाें पर भर्ती करेगा या नहीं। क्याेंकि प्रदेश के अन्य कई जिलों में इन पदों पर भर्ती हो चुकी है। सीकर सहित प्रदेशभर में बढ़ रहे काेराेना संक्रमण काे राेकने के लिए 27 अप्रैल काे शासन उपसचिव संजय कुमार द्वारा सभी कलेक्टरों काे 31 जुलाई तक के लिए डाॅक्टर, एएनएम-जीएनएम के लिए अस्थाई भर्ती करने के निर्देश दिए थे। इसमें हैल्थ कंसलटेंट काे 39,300 रुपए और स्वास्थ्य सहायक के लिए 7900 रुपए प्रतिमाह वेतन तय किया गया था।

भर्ती से कोरोनाकाल में मरीजों को मिलती बेहतर सेवाएं

इस अस्थाई भर्ती में चयनित होने वाले डाॅक्टरों को ऐसे इलाकों में लगाया जाना था, जहां डाॅक्टर व मेडिकल स्टाफ की सुविधा नहीं मिल पा रही है। समय पर डाॅक्टर व कंपाउंडरों की भर्ती होती तो आमजन को कोरोना काल में इलाज की सुविधाएं मिल पाती। वहीं नर्सिंग डिग्री वाले अभ्यर्थियों काे ग्रामीण क्षेत्र में पंचायत स्तर और शहरी क्षेत्र में वार्ड स्तर पर नियुक्ति दी जानी थी, लेकिन उन्हें भी नहीं दी गई।

पड़ोसी जिलों में अतिरिक्त स्टाफ लगाकर पूरी कराई भर्ती प्रक्रिया, चूरू व झुंझुनूं में प्रक्रिया शुरू

नागाैर सीएमएचओ डाॅ. मेहराम माहिया ने बताया कि जिले में आरक्षण और राेटेशन के आधार पर जून महीने में ही नियुक्ति सूची निकाल दी थी, जबकि भरतपुर सीएमएचओ डाॅ. कप्तान सिंह का कहना है कि अतिरिक्त कार्मिक लगाकर 10 जून काे ही भर्ती प्रक्रिया पूरी कर दी गई। इसके अलावा चूरू और झुंझुनूं में भी काउंसलिंग की प्रक्रिया शुरू की जा चुकी है।

22 से 27 मई तक मांगे गए थे आवेदन पत्र

कलेक्टर ने इन पदों पर चयन के लिए 20 मई काे कमेटी बनाई। एडीएम अध्यक्ष, सीएमएचओ सदस्य सचिव तथा एडिशन सीएमएचओ सदस्य बनाए गए थे। इसके बाद सीएमएचओ ने 20 मई काे भर्ती विज्ञप्ति जारी कर 22 से 27 मई तक आवेदन मांगे। 60 डाॅक्टरों और 2885 जीएनएम तथा 1566 एएनएम ने आवेदन किया था।

आवेदकों का सवाल भर्ती होगी या नहीं?

आवेदनकर्ताओं का कहना है कि अभी तक यह तय नहीं हो पाया है कि इन पदों पर नियुक्ति मिलेगी या नहीं। क्योंकि सेवाकाल की अवधि ही जून-जुलाई महीना तय की हुई है। अब नौकरी मिलती है तो एक महीने का समय भी नहीं मिलेगा। जबकि कई जिलों में अभ्यर्थियों काे नियुक्ति तक दी जा चुकी है।

सीएमएचओ से जानकारी ली जाएगी

ये स्टाफ 31 जुलाई तक लिया जाना था, लेकिन भर्ती प्रक्रिया में एएनएम काे भी शामिल करने व बार-बार दिशा निर्देश बदलने से प्रक्रिया समय पर पूरी नहीं हो पाई। इनकी मेरिट निर्धारित करने काे लेकर सीएमएचओ ने भी मार्गदर्शन के लिए लिखा था। इसके बाद सीएमएचओ की तरफ से उनके पास कुछ नहीं आया है। मामले की जानकारी ली जाएगी।

-एडीएम धारासिंह, चयन कमेटी अध्यक्ष व एडीएम

हमारा काेई लेना देना नहीं : निदेशक
-कंसलटेंट व स्वास्थ्य सहायक की भर्ती का काम सरकार ने हाेम डिपार्टमेंट काे दिया था। सीधे ताैर पर हमारा लेना देना नहीं है।
केके शर्मा, निदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवा

खबरें और भी हैं...