पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दोहरे मापदंड:मास्क नहीं लगाने, थूकने पर 3524 लोगों पर 8.61 लाख का जुर्माना लेकिन महामारी एक्ट में नेताओं पर 0 कार्रवाई

सीकर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दो पूर्व विधायक बिना मास्क, पेमाराम बोले-मैंने कपड़ा लगा रखा था, बैठक के दौरान खिसक गया, दो गज की दूरी भी थी - Dainik Bhaskar
दो पूर्व विधायक बिना मास्क, पेमाराम बोले-मैंने कपड़ा लगा रखा था, बैठक के दौरान खिसक गया, दो गज की दूरी भी थी
  • नेताओं को मास्क नहीं लगाने व सोशल डिस्टेंस तोड़ने की छूट, जबकि आम लोगों पर लगता है जुर्माना

कोरोना में यह प्रशासन के दोहरे चरित्र की लाइव तस्वीर है। माकपा का दो दिवसीय जिला प्रशिक्षण शिविर खाटूश्यामजी स्थित हैदराबाद धर्मशाला में चल रहा है। पूर्व विधायक अमराराम, पेमाराम, जिला सचिव किशन पारीक सहित अन्य नेताओं ने मास्क नहीं लगा रखे थे। राजस्थान में महामारी एक्ट के तहत 2 साल की सजा व 10 हजार रुपए जुर्माना तक का प्रावधान है। हैरानी देखिए-किसी भी बड़े नेता के खिलाफ कोरोना काल में एक भी कार्रवाई नहीं की गई। किसी का चालान नहीं काटा गया। एक्ट 1 मई को लागू हो गया था।

वहीं सीकर में मास्क नहीं लगाने, सार्वजनिक स्थल पर थूकने व होम क्वारेंटाइन का उल्लंघन करने पर 3524 लोगों पर 8.61 लाख रुपए का जुर्माना लगाया है। जबकि राजस्थान में 5.13 लाख लोगों पर 8 करोड़ रुपए का जुर्माना वसूला गया है। अब सवाल है-नेताओं को छूट क्यों? सरकार के सभी नियम-कायदे सिर्फ आम लोगों पर लागू होते हैं।

दो पूर्व विधायक बिना मास्क, पेमाराम बोले-मैंने कपड़ा लगा रखा था, बैठक के दौरान खिसक गया, दो गज की दूरी भी थी

माकपा के प्रशिक्षण शिविर में राज्य सचिव व पूर्व विधायक अमराराम, पेमाराम, जिला सचिव किशन पारीक सहित अन्य नेताओं ने मास्क नहीं लगा रखे थे। इस संबंध में पूर्व विधायक पेमाराम ने कहा कि हम दो-दो गज की दूरी पर बैठे हुए थे। मैंने टॉवल लगा रखा था लेकिन बैठक के दौरान वह खिसक गया।

1. नियम सिर्फ आम लोगों पर लागू है?
सार्वजनिक स्थलों पर मास्क नहीं लगाने पर प्रदेश में 2 लाख, मास्क पहने बिना लोगों को सामान बेचने पर 11563, सोशल डिस्टेसिंग का पालन नहीं रखने पर 2 लाख 79 हजार 520 व्यक्तियों के चालान किए गए हैं। जबकि सीकर में मास्क नहीं लगाने पर 1100 लोगों पर जुर्माना लगाया गया है। लेकिन, किसी बड़े नेता व कार्यकर्ता पर कार्रवाई नहीं की गई।

2. क्या नेता क्वारेंटाइन मापदंडों का उल्लंघन नहीं करते?
- कोरोना काल में निषेधाज्ञा तथा क्वॉरेंटाइन के मापदंडों का उल्ल्घंन करने पर 7733 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है। सीकर में ऐसे लोगों की संख्या 400 से अधिक हैं। लेकिन, किसी भी नेता के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई।
3. शादी में 50 व अंतिम संस्कार में 20 लोगों के लिए ही मंजूरी, जबकि राजनीतिक दलों को लंबी-लंबी मीटिंग व धरने-प्रदर्शन की मंजूरी? ये दोहरे मापदंड क्यों?
आम आदमी को शादी में 50 और अंतिम यात्रा में 20 लोगों के आने की मंजूरी है। हैरानी यह है कि भाजपा, कांग्रेस व माकपा आदि दलों के नेता लगातार मीटिंग कर रहे हैं। हर मुद्दे पर प्रदर्शन कर रहे हैं, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की जा रही। इनमें नेता बिना मास्क के साफ दिख रहे हैं। भीड़ पर कोई पुलिस, कोई प्रशासन कार्रवाई नहीं कर रहा, क्यों?

4. नए मोटर व्हीकल एक्ट में भी नेताओं को छूट?
- नया मोटर व्हीकल एक्ट भी कोरोना काल में ही लागू हुआ। सीकर में नियमों की पालना नहीं करने पर 11817 लोगों के चालान काटकर उन पर 38.68 लाख रुपए का जुर्माना लगा दिया गया। हैरानी यह है कि इनमें एक भी बड़ा नेता शामिल नहीं है। अब सवाल यह है कि नेताओं को गाड़ी चलाने पर सभी नियम तोड़ने की छूट क्यों दी जाती है? राजस्थान में नए एक्ट में 2.40 लाख लोगों से 6.43 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया गया है।

दोहरे चरित्र के आंकड़े
जिला चालान जुर्माना
जयपुर 84313 12143700
सीकर 3524 860900
झुंझुनूं 3524 860900
चूरू 5449 930500
अलवर 11508 2062700
भिवाड़ी 13810 2280400
बीकानेर 6239 1157400
श्रीगंगानगर 9394 1551810
हनुमानगढ़ 4583 841500
भरतपुर 10995 1867400
धौलपुर 5123 930650
राजस्थान 513420 77470310

खबरें और भी हैं...