अगस्त तक चल सकती है इलेक्ट्रिक ट्रेन:दो दिवसीय निरीक्षण के बाद रींगस से झुंझुनूं लाइन तक 105 किमी प्रति घंटे की स्पीड से ट्रायल हुआ

सीकर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रींगस. निरीक्षण के लिए स्पेशल ट्रेन से आए सीआरएस व रेलवे के अधिकारी। - Dainik Bhaskar
रींगस. निरीक्षण के लिए स्पेशल ट्रेन से आए सीआरएस व रेलवे के अधिकारी।

पश्चिम परिमंडल मुम्बई रेलवे के मुख्य संरक्षा आयुक्त आरके शर्मा ने दो दिवसीय निरीक्षण के बाद गुरुवार को रींगस से झुंझुनूं तक इलेक्ट्रिक लाइन पर ट्रेन चलाकर स्पीड ट्रायल लिया। सीआरएस ने 100 से 105 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से ट्रेन दौड़ाई। इसमें सभी पावर सप्लाई, अर्थिंग सहित अन्य व्यवस्थाएं सुचारू रही। सीआरएस रेलवे बोर्ड को इसी सप्ताह रिपोर्ट पेश करेंगे। हालांकि सीकर-चूरू व सीकर-लुहारू तक इलेक्ट्रिक लाइन का काम पूरा होने के बाद अगस्त तक इलेक्ट्रिक ट्रेन का संचालन शुरू हो सकेगा।

रेलवे के मुख्य संरक्षा आयुक्त आरके शर्मा बुधवार को रींगस-सीकर-झुंझुनूं इलेक्ट्रिक लाइन के निरीक्षण पर आए। पहले दिन सीकर से झुंझुनूं तक डीजल इंजन से लाइन का जायजा लिया। वापसी पर झुंझुनूं से स्पीड ट्रायल लिया जाना था। लेकिन लाइन में पावर सप्लाई नहीं होने के कारण स्पीड ट्रायल नहीं हो सका। ऐसे में सीआरएस ने गुरुवार को सीकर से रींगस लाइन का निरीक्षण करने के बाद झुंझुनूं से रींगस तक 113 किमी का स्पीड ट्रायल लिया।

इस दौरान शर्मा ने एलसी गेट, पावर सब स्टेशन, ट्रेक्शन सब स्टेशन का निरीक्षण किया। निरीक्षण में मुख्य परियोजना निदेशक, रेल विद्युतीकरण अम्बाला सत्यवीरसिंह यादव, उत्तर पश्चिम रेलवे जयपुर के प्रमुख मुख्य इंजीनियर अनिल कुमार, मंडल रेल प्रबंधक जयपुर नरेन्द्र, उप मुख्य विद्युत इंजीनियर (सीकर-झुंझुनूं प्रोजेक्ट इंचार्ज) महाराज सिंह, उप मुख्य विद्युत इंजीनियर (मुख्यालय) जयपुर एलडी गौतम, उप मुख्य इंजीनियर एम एल मीणा, उप मुख्य इंजीनियर जितेन्द्र पाल, उप मुख्य संकेत एवं दूरसंचार इंजीनियर अनुपम कुमार एवं अन्य अधिकारी शामिल रहे।

रींगस यार्ड में किया निरीक्षण, अफसरों को लगाई फटकार
सीआरएस ने गुरुवार सुबह 8.30 से 10.30 तक रींगस यार्ड का निरीक्षण किया। यहां कई खामियां सामने आई। इस पर अफसरों को फटकार लगाई। उन्होंने कहा, इलेक्ट्रिक सिस्टम में छोटी सी लापरवाही भारी नुकसान कर सकती है।
सीआरएस के कारण देरी से रवाना हुई दो ट्रेनें : रींगस से सीकर ट्रैक के निरीक्षण के दौरान गुरुवार को भी दो ट्रेनों का संचालन प्रभावित रहा। स्टेशन से ट्रेन दोपहर 1.35 बजे रवाना होनह थी, जिसे 3.05 बजे रवाना किया गया। दूसरी गाड़ी दुरंतो को 2.35 बजे रवाना किया जाना था। जिसे सीकर स्टेशन से 3.05 बजे रवाना।

खबरें और भी हैं...