पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

शिक्षा:भास्कर की मुहिम के बाद एसएससी ने सीएचएसएल-2018 से हटाया यूएफएम, फेल किए गए 4560 छात्रों का रिजल्ट जल्द होगा जारी

सीकर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सीएचएसएल-2018 टियर-टू परीक्षा से एसएससी ने यूएफएम (यानी एनफेयर मिंस-यूएफएम) हटा लिया है। इस परीक्षा में 36112 छात्र शामिल हुए थे, लेकिन पत्र लेखन के सवाल में काल्पनिक नाम-पता लिखने पर 4560 छात्रों को शून्य अंक देते हुए फेल कर दिया गया। दैनिक भास्कर ने सबसे पहले इस मामले को उठाते हुए एक के बाद एक एसएससी की गड़बड़ियों को उजागर किया था। भास्कर की खबरों के बाद एसएससी को कमेटी गठित करनी पड़ी। इससे पहले एसएससी गलती ही मानने को तैयार नहीं थी। कमेटी की रिपोर्ट आने के बाद एसएससी ने बुधवार को निर्देश जारी करते हुए कहा कि यूएफएम को लेकर छात्रों ने शिकायतें की थी। उसके बाद 21 मई को कमेटी गठित की गई। कमेटी ने 16 जुलाई को अपनी रिपोर्ट सबमिट की।

कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर निर्णय लिया गया है कि यूएफएम की गाइडलाइन का उल्लंघन करने वाले छात्रों को एक बार राहत दी जाए। इसलिए यूएफएम हटाया जाता है। एसएससी इन छात्रों का रिजल्ट जल्द जारी करेगा। अब इन छात्रों को टाइपिंग टेस्ट के लिए क्वालीफाई माना जाएगा। टियर-3 एग्जाम के बाद फाइनल रिजल्ट जारी होगा। गौरतलब है कि टियर-2 का रिजल्ट 25 फरवरी 2020 को जारी किया गया था। जिसके बाद से ही यूएफएम को विवाद गहरा गया था।

भास्कर ने सबसे पहले छात्रों के दर्द को समझा, इसलिए जीत हुई : केस लड़े रहे छात्र
यूएफएम केस हटाने के लिए संघर्ष कर रहे विवेक गर्ग का कहना है कि दैनिक भास्कर ने ही सबसे पहले यूएफएम मामले को उठाया और मुहिम के तौर पर लिया। एसएससी की गड़बड़ियों को लगातार सबके सामने रखा। जिसके नतीजे यूएफएम हटने के तौर पर सामने आया है। इसी तरह मुहिम से जुड़े पंकज शर्मा, अमित डे व नरेश रावल रावल ने कहा कि दैनिक भास्कर की लगातार खबरों के बाद छात्रों को नई उम्मीद बंधी। तीन महीने से ज्यादा की कड़ी मेहनत के बाद आज नया परिणाम मिले हैं। यह छात्रों की जीत है।

भास्कर की मुहिम बनी स्टूडेंट्स को न्याय दिलाने का बड़ा सहारा, पूरी कहानी पढ़िए...

1. दैनिक भास्कर ने 14 अप्रैल को सबसे पहले ‘आंसरशीट में नाम, रोल नंबर लिखने पर पाबंदी, स्टूडेंट्स ने पत्र लेखन में छोटी को स्नेह...छुटकी को प्यार जैसे शब्द लिखे तो फेल ही कर दिया’ शीर्षक के जरिए इस मामले को उठाया था। भास्कर ने देशभर के उन छात्रों की आंसरशीट सबके सामने रखी, जिन्होंने अच्छे अंक हासिल किए, लेकिन उन्हें गलत तरीके से फेल कर दिया गया। 2. 17 अप्रैल को एसएससी चेयरमैन बृजराम शर्मा का इंटरव्यू किया। चेयरमैन ने भरोसा दिलाया कि वे जांच कमेटी बनाएंगे। 3. भास्कर की खबरों के बाद एसएससी ने पब्लिक नोटिस जारी कर दावा किया कि 36112 छात्रों में से 4560 को छोड़कर सभी ने यूएफएम नियमों की पालना की। भास्कर ने खुलासा किया कि एसएससी झूठ बोल रही है। । 4. 20 अप्रैल को भास्कर की खबरों के बाद छात्रों ने ट्विटर कैंपेन चलाया और 1.22 लाख ट्वीट कर एसएससी से न्याय मांगा। 5. 1 मई को छात्रोंं ने पीएमओ को 10 लाख ट्वीट व तीन हजार ईमेल किए। छात्रों ने ट्वीट व ईमेल में भास्कर की खबरें ही भेजी। 6. 3 मई को भास्कर ने एसएससी चेयरमैन का फिर इंटरव्यू किया और उनसे पूछा कि कमेटी के नामों को क्यों उजागर नहीं किया जा रहा। कमेटी की जांच में देरी क्यों हो रही है। 7. मई को छात्रों ने फिर ट्विटर कैंपेन चलाया। इस बार छात्रों ने पीएमओ को 1.50 लाख ट्वीट कर कहा कि एसएससी कोरोना से ज्यादा खतरनाक है। 8. 20 मई को छात्रों ने एसएससी के खिलाफ ऑनलाइन पिटिशन दाखिल की। 9. 5 अगस्त को एसएससी ने निर्देश जारी कर 4560 छात्रों से यूएफएम केस हटा लिया।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय पूर्णतः आपके पक्ष में है। वर्तमान में की गई मेहनत का पूरा फल मिलेगा। साथ ही आप अपने अंदर अद्भुत आत्मविश्वास और आत्म बल महसूस करेंगे। शांति की चाह में किसी धार्मिक स्थल में भी समय व्यतीत ह...

और पढ़ें