• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • After The Action On Illegal Construction, There Was A Ruckus In The Municipality Between The EO And The Councilor, Both Filed A Case Against Each Other In The Police Station

लोसल नगर पालिका का मामला:अवैध निर्माण पर कार्रवाई के बाद ईओ और पार्षद के बीच पालिका में हंगामा, दोनों ने थाने में एक दूसरे के खिलाफ दर्ज कराया मुकदमा

सीकरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चार घन्टे तक थाने के कमरों में चली वार्ता में मौजूद अधिशाषी अधिकारी,जनप्रतिनिधि व अन्य अधिकारी। - Dainik Bhaskar
चार घन्टे तक थाने के कमरों में चली वार्ता में मौजूद अधिशाषी अधिकारी,जनप्रतिनिधि व अन्य अधिकारी।

लोसल नगर पालिका के सामने हो रहे अवैध निर्माण पर पालिका प्रशासन ने कार्रवाई की तो पालिका के अधिशाषी अधिकारी सीताराम कुमावत व वार्ड 22 के पार्षद इमरान अली के बीच जोरदार हंगामा हो गया। करीब चार घंटे तक समझाइश का दौरा चला लेकिन समझौता नहीं हुआ। कुछ जनप्रतिनिधियों ने खूब समझाने की कोशिश की लेकिन अधिशाषी अधिकारी व पालिका स्टाफ अपनी बात को लेकर अड़े थे।

कुछ देर बाद जनप्रतिनिधि पार्षद के साथ आए और अधिशाषी अधिकारी के खिलाफ थाने में रिपोर्ट देकर चले गए। मामले को लेकर धोद विधायक परसराम मोरदिया से भी वार्तालाप का दौर चला लेकिन पार्षद के खिलाफ राजकार्य में बाधा व जान से मारने की धमकी का मुकदमा दर्ज किया गया। थाने में 7.30 बजे तक पालिका स्टाफ व अधिशाषी अधिकारी डटे रहे सफाई कर्मचारियों ने भी दोपहर बाद अपने काम का बहिष्कार कर अपने अधिकारी के पक्ष में उतर आए।

थानाधिकारी सज्जन कुमार ने बताया कि लोसल नगर पालिका के अधिशाषी अधिकारी की रिपोर्ट पर इमरान लीलगर के खिलाफ राजकार्य बांधा का मामला दर्ज किया गया है। वहीं पार्षद ने भी अधिशाषी अधिकारी के खिलाफ मामला दर्ज कराने के लिए रिपोर्ट दी है। दोनों ने एक दूसरे के पर क्रॉस मामला दर्जा करवाया है।

नगर ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष इस्माइल नागौरी ने कहा कि ईओ और पार्षद दोनों ही अपनी गरिमा को भुलाकर मनमर्जी करने लगे, जिससे बात बिगड़ी। पालिका के नेता प्रतिपक्ष बीआर हरिपुरा ने बताया कि पालिका के अधिकारी व पार्षद निकाय के अंग हैं जो एक दूसरे के बिना अधूरे हैं। दोनों ही मिलकर आपस में ऐसे काम करेंगे तो शहर का विकास कैसे होगा।

पार्षद का आरोप : ईओ उसकी बातों को दरकिनार करते हैं, काम नहीं करते
पार्षद ने बताया कि मैं करीबन डेढ़ बजे के आस-पास अधिशाषी अधिकारी के पास वार्ड की समस्याओं को लेकर गया था उन्होंने मेरी समस्याओं को दरकिनार करते हुए बात तक नहीं की। इसको लेकर हम दोनों के बीच बहस हो गई। ईओ उनका कोी भी काम नहीं करते और उसकी बात भी नहीं सुनते। मैने भी थाने में अधिशाषी अधिकारी के खिलाफ मामला दर्ज करवाया है।

ईओ का तर्क : अवैध निर्माण पर कार्रवाई की तो पार्षद ने चैंबर में घुसकर गालियां दी
अधिशाषी अधिकारी ने बताया की अवैध निर्माण पर पालिका द्वारा कार्रवाई की गई तो पार्षद पालिका परिसर में जोर-जोर से गाली गलौच करते आता है और मेरे केबिन में आकर उसने अपशब्द कहे। महिला स्टाफ के सामने गालियां दी और जान से मारने की धमकी दी, हाथापाई पर उतर आया। इसने पहले भी वार्ड की झूठी शिकायतों लेकर तू-तू मै-मैं की।

खबरें और भी हैं...