• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • After Writing A Letter To The PM, I Did Not Even Go To The Sister's Wedding, Thought That I Would Pay My Father's Full Debt On Getting A Job

भास्कर मुहिम:पीएम को पत्र लिखा कर कहा- मैं बहन की शादी में भी नहीं गया, सोचा था नौकरी मिलने पर पापा का पूरा कर्ज चुका दूंगा

सीकर2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

मोदी जी, नमस्कार . मैं लगभग चार साल से जयपुर में रहकर एसएससी की तैयारी कर रहा हूं। दो साल के एसएससी के पेपर आउट होने के आरोप थे और सीबीआई जांच चल रही थी। इस बार सीएचएसएल एग्जाम में कोई धांधली की खबर नहीं आई थी तो रातभर जागकर टियर-2 की तैयारी की थी। प्री एग्जाम में मुझे 116 नंबर मिले। टियर-2 में 60 अंक। बहुत खुश था कि रिजल्ट आएगा तो गर्व से एक साल बाद गांव जाऊंगा और पापा को बताऊंगा कि अब बेरोजगारी खत्म होने वाली है।

होली-दिवाली पर भी घर नहीं गया था। परीक्षा के दौरान ही बहन की शादी थी। मैं नहीं गया। उससे कहा कि अगर इस साल परीक्षा हाथ से निकल गई तो पापा को दो साल का और साहूकार के ब्याज की मार झेलनी होगी। वो बड़ी मुश्किल से मेरे लिए रुपए जुटाकर भेजते थे। 26 फरवरी को बात हुई तो पापा रो रहे थे। बोले कि बेटा तू झूठ बोलता है कि इस बार नौकरी लग जाएगा। 25 फरवरी को 60 अंक आने के बाद भी मुझे यूएफएम लगाकर फेल कर दिया गया था। वाे समझते हैं कि मैं फेल हूं। पेरेंट्स समझ नहीं पा रहे कि मेरी गलती नहीं है। अब तो घरवालों ने ही बात करना बंद कर दिया है। पीएमओ पोर्टल पर कई बार शिकायत भेज चुका हूं। एसएससी की गड़बड़ी से हजारों बच्चों का भविष्य बर्बाद होने से बचा लीजिए।
- रामावतार मीणा, एसएससी सीएचएसएल अभ्यर्थी

खबरें और भी हैं...