पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भास्कर गाइड; REET EXAM:अभ्यर्थी प्रैक्टिस सेट व टेस्ट सीरिज में कम अंक आने पर निराश न हाेकर सिर्फ स्टडी पर ध्यान दें

सीकर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रीट एग्जाम में परीक्षार्थी सरल और महत्वपूर्ण बिंदुओं काे पहले तैयार करें। - Dainik Bhaskar
रीट एग्जाम में परीक्षार्थी सरल और महत्वपूर्ण बिंदुओं काे पहले तैयार करें।

रीट एग्जाम 26 सितंबर काे हाेना है। ऐसे में अभ्यर्थी तैयारी में जुटे हुए हैं। दैनिक भास्कर विषय विशेषज्ञाें के जरिए अभ्यर्थियाें काे हर दिन अलग-अलग विषय की तैयारी के टिप्स दे रहा है। हिंदी विषय के विशेषज्ञ संपतसिंह देवल ने बताया कि रीट मेें हिंदी विषय के अवधारणात्मक प्रश्न सीधे-सीधे नहीं आते हैं। इसलिए कक्षा 9वीं से 12वीं की हिंदी व्याकरण में दिए गए ।

गद्यांशाें के शब्दाें काे पहचानकर उनमें से संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण, संधि, समास, उपसर्ग और प्रत्यय युक्त शब्दाें काे रेखांकित कर भेद जानने का प्रयास करें। उन्हाेंने बताया कि बाजार में उपलब्ध प्रैक्टिस सेट और टेस्ट सीरिज में अंक कम आने पर धैर्य न खाेएं। सिलेबस से बाहर के बिंदुओं की गफलत में नहीं आएं। विशेषज्ञ संपतसिंह देवल ने बताया कि काल, लिंग, वचन और वाक्य में से हमेशा सवाल पूछे जाते हैं।

इसलिए किसी जटिल बिंदु में उलझने से बेहतर है कि सरल व महत्वपूर्ण बिंदुओं काे तैयार करें। नए बिंदु राजस्थानी शब्दावली, विराम चिन्हाें काे विशेष महत्व दें। शिक्षण अभिरुचियाें में आदर्श कथन वाले विकल्प काे छांटने की चेष्टा करें न कि मनमाफिक विकल्प चुनें। काव्य साैंदर्य से जुड़े प्रश्नाें में कला पक्ष (छंद, अलंकार, शब्दशक्ति आदि) के अपेक्षा भाव पक्ष काे ज्यादा महत्व दें।

जाे परिभाषाएं याद नहीं हाेती, उनके महत्वपूर्ण शब्दाें काे परिभाषाकार के नाम के साथ ही याद रख लें। भाषा के क्रमिक विकास से जुड़े प्रश्नाें काे पढ़ने में वरीयता दें। पेपर में हिंदी का गद्यांश आता है और उसी में से सभी बिंदु निकालने हाेते हैं। ऐसे में बचे हुए दिनाें में गद्यांशाें का ज्यादा से ज्यादा अभ्यास करना चाहिए। इससे कि गद्यांश के साथ ही एग्जाम तक अन्य नाेट्स का कम से कम दाे बार रिवीजन करें।

खबरें और भी हैं...