लोक अदालत में पति-पत्नी का कराया राजीनामा:34 बैंचों पर मामलों का निस्तारण, दुर्घटना क्लेम के केसों को सुलझाया

सीकर3 महीने पहले
लोक अदालत में मामलों का निस्तारण करते हुए।

सीकर में शनिवार से लोक अदालत शुरू हुई। जिलेभर में 34 बैंचों मामलों का निस्तारण किया जा रहा है। दोपहर 2 बजे तक अदालत में तीन आपसी सहमति से मिलवाया गया है। इसके साथ ही अदालत में दुर्घटना क्लेम जैसे मामलों का भी निस्तारण किया जा रहा है।

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव धर्मराज मीणा ने बताया कि लोक अदालत में करीब 10 हजार मामले आए थे। 8000 प्रकरण ऐसे हैं, जो कोर्ट में लंबित है। 2000 मामले ऋण वसूली आदि से संबंधित है। मीणा ने बताया कि जिलेभर में लोक अदालत में 34 बैंचो का गठन किया गया है। जिला हेडक्वार्टर पर 13 और अन्य क्षेत्रों में कुल 19 बैंचों पर मामले का निस्तारण किया जा रहा है। मीणा ने बताया कि 2 बैंच प्री-लीगेशन जैसे ऋण वसूली आदि से संबंधित है। मीणा ने कहा कि जिन परिवादियों के मामले लोक अदालत में चिन्हित है। वह शाम 5 बजे तक लोक अदालत में पेश होकर अपने मामलों का निस्तारण करवा सकते हैं।

सीकर के पारिवारिक कोर्ट के जज कैलाश चंद्र ने बताया कि आज की लोक अदालत में हिन्दू विवाह अधिनियम के तहत 5 मामले ऐसे चिन्हित किए गए हैं। जिनमें दोनों पक्षकार पिछले करीब 5 से 10 सालों से अलग रह रहे थे। ऐसे में आज दोपहर करीब 2 बजे तक तीन मामलों का निस्तारण हो चुका है। इसके साथ ही 19 मामले ऐसे भी हैं जिनमें सड़क दुर्घटना में किसी व्यक्ति की मौत हो गई या फिर वह स्थायी रुपए से विकलांग हो गया है। ऐसे मामलों का भी निस्तारण किया जा रहा है। जिनमें पीड़ित परिवार को बीमा कपंनी के जरिए मुआवजा देने के आदेश जारी किए गए हैं ।

खबरें और भी हैं...