वर्कशॉप में भी चल रही है कैमरे लगाने की प्रक्रिया:रोडवेज डिपो के 7 काउंटरों पर लगाए सीसीटीवी, ताकि भ्रष्टाचार नहीं हो

सीकरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
 डिपो मैनेजर ने ऑनलाइन मॉनिटरिंग के लिए सभी कैमरों को अपने स्मार्टफोन से जुड़वा लिया है। - Dainik Bhaskar
 डिपो मैनेजर ने ऑनलाइन मॉनिटरिंग के लिए सभी कैमरों को अपने स्मार्टफोन से जुड़वा लिया है।

रोडवेज के दफ्तरों में होने वाले भ्रष्टाचार को रोकने और व्यवस्था को पारदर्शी बनाने के लिए सीकर बस डिपो के मुख्य प्रबंधक मुनकेश लांबा ने दफ्तर को सीसीटीवी कैमरों से लैस कर दिया है। उन्होंने दफ्तर में चालक परिचालक से पैसे लेकर ड्यूटी बदलने जैसी शिकायत सामने आने के बाद ये कदम उठाया है। सीसीटीवी ऐसी जगह लगाए हैं, जहां से कर्मचारी-अधिकारी सीधे चालक परिचालक के साथ मिलकर संचालन कार्य को प्रभावित करने की संभावना रहती है। मुनकेश ने ये कैमरे भामाशाह से लगवाए हैं। उल्लेखनीय है कि रोडवेज के दफ्तरों में आए दिन चालक परिचालकों द्वारा पैसे लेकर ड्यूटी बदलने तथा कई तरह के टिकट रिमार्क से टालने के लिए अवैध वसूली जैसी शिकायतें आम होती जा रही है। इन्हीं शिकायतों को रोकने के लिए यह पहल की है।

यहां लगाए गए हैं सीसीटीवी
रोडवेज डिपो कैंपस के कार्यालय में अलग-अलग सात स्थानों पर सीसीटीवी लगाए हैं। इनमें कॉमर्स शाखा, प्रशासन, मुख्य प्रबंधक, कॉमर्स शाखा, बस डिपो की गैलरी, ईटीएम शाखा, बस डिपो प्लेटफॉर्म तथा केस काउंटर को शामिल किया है। बस डिपो की वर्कशॉप कार्यालय में भी सीसीटीवी लगाने की प्रक्रिया की जा रही है।

ऑनलाइन मॉनिटरिंग के लिए डिपाे मैनेजर के फोन से जुड़े कैमरे
डिपो मैनेजर ने ऑनलाइन मॉनिटरिंग के लिए सभी कैमरों को अपने स्मार्टफोन से जुड़वा लिया है। डिपो मैनेजर मुनकेश लांबा ने बताया कि दफ्तर में कई बार चालक-परिचालक से पैसे वसूली की शिकायत सामने आ चुकी है। इन्हीं शिकायतों को रोकने के लिए डिपो के दफ्तर में सीसीटीवी कैमरे की व्यवस्था की है।

खबरें और भी हैं...