पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • Changes Made In The Recovery Orders 1 Day Before The General Meeting Of The Traders, Now The Shopkeepers Will Be Able To Put Any Name Board In Their Limits.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बदलाव:व्यापारियों की आमसभा से 1 दिन पहले वसूली आदेशों में किया बदलाव अब दुकानदार अपनी सीमा में नाम का कितना भी बड़ा बोर्ड लगा सकेंगे

सीकरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • आज जाट बाजार में होगी व्यापारियों की सभा, नगर परिषद के विज्ञापन शुल्क की वसूली के नोटिस की होली जलाई जाएगी

दुकान और घरों पर लगे विज्ञापन पर शुल्क वसूली के विरोध में शुक्रवार को प्रस्तावित व्यापारियों की मीटिंग से एक दिन पहले गुरुवार को नगर परिषद ने बड़ा फैसला लिया। नगर परिषद ने शुल्क वसूली के नियमों में कुछ संशोधन किया। लेकिन व्यापारी इस पर सहमत होंगे या नहीं। इस बात का फैसला शुक्रवार को होने वाली व्यापारियों की मीटिंग में होगा। उल्लेखनीय है कि नगर परिषद की ओर से छाेटे विज्ञापन को लेकर नियुक्त किए गए ठेकेदार द्वारा कुछ दिनों से व्यापारियों को वसूली का नोटिस दिया जा रहा है। नोटिस में बिना फीस जमा करवाए विज्ञापन बोर्ड लगाना राजस्थान नगर पालिका अधिनियम 2009 की धारा 340 की धारा (1) के खंड (य क्ष) का उल्लंघन बताया गया है। यह फीस एमटीआर कॉर्पोरेश्न को जमा करवाए जाएं।

इसके साथ ही चेतावनी भी दी गई है कि पैसा जाम नहीं करवाने वालों के खिलाफ कोर्ट में वाद दायर किया जाएगा। खास बात यह है कि नोटिस के आखिरी में आयुक्त की आज्ञा से वसूली नोटिस जारी किए जाने का उल्लेख है। जानकारी के अनुसार नगर परिषद को होर्डिंग, बिजली पोल सहित अन्य विज्ञापन की स्वीकृति के तहत सालाना करीब 1.50 करोड़ रुपए की आमदनी होती है। कोरोना के कारण टेंडर में किसी फर्म ने भाग नहीं लिया। ऐसे में यह आमदनी चार गुना तक कम हो गई। ऐसे में परिषद के पिछले बोर्ड की बैठक में लिए गए फैसले को अब लागू किया गया है।

शहर के व्यापारिक संगठनों का आरोप, नेताओं के विज्ञापन पर छूट, व्यापारियों से लूट, आज जलाएंगे नोटिस की होली

घर-दुकान की दीवार पर प्रतिष्ठान के विज्ञापन पर की जा रही शुल्क वसूली के विरोध में व्यापारियों ने शुक्रवार को जाट बाजार में संयुक्त सभा बुलाई है। यहं व्यापारी नोटिस की होली जलाएंगे। व्यापारियों का कहना है कि नगर परिषद ने निजी फर्म को 25 लाख को ठेका दिया है, जिसमें 17 लाख रुपए ठेका कंपनी नगर परिषद को देगी।

व्यापार संघ संघर्ष समिति के संयोजक जगुल किशोर अग्रवाल ने कहा, कोरोना काल के चलते पिछले 10 माह से व्यापार प्रभावित है। लेकिन परिषद 2009 का अधिनियम के तहत व्यापारियों पर नए टैक्स को लाद रही है, जो गलत है। बिना बोर्ड लगाए आम आदमी को प्राेडक्ट की जानकारी कैसे मिलेगी।

जिला सीकर व्यापार महासंघ के महामंत्री प्रदीप पारीक ने कहा कि पूरा शहर राजनैतिक विज्ञापनों से अटा पड़ा है। परिषद उन पर कोई कर्रवाई नहीं करती है। जबकि परिषद को टैक्स देने वाले व्यापारियों पर ही आर्थिक बोझ बढाया जा रहा है।

इस तरह से समझिए नगर परिषद के आदेश में बदलाव का असर

1. व्यक्ति, संस्था या दुकानदार परिसर की सीमा में अपने नाम का कितना भी बड़ा बोर्ड लगा सकता है। बशर्ते इसमें अन्य कंपनी या उत्पाद का उल्लेख न हो।

पहले : नियमानुसार तीन फीट लंबा और दो फीट चौड़ाई (3*2) की साइज में ही व्यापारी दुकान के नाम का बोर्ड लगा सकता था। 2. अधिकृत डीलर अपने नाम व डीलरशीप का उल्लेख बोर्ड पर कर सकेगा। इसमें कंपनी या उत्पाद का बोर्ड नहीं लगाया जा सकेगा।

पहले : तय साइज में ही प्रतिष्ठान के नाम का बोर्ड लगा सकता था। डीलरशिप का उल्लेख नहीं कर सकता था। इसे लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं थी। 3. दुकानदार अपने नाम के बोर्ड के अलावा किसी भी प्रकार का विज्ञापन अपने परिसर या प्रतिष्ठान पर नहीं कर सकेगा। उसकी बिना अनुमति के लगाने पर संबंधित विज्ञापन दाता से वसूली होगी।

पहले : पहले कंपनी या संस्था द्वारा लगाए गए विज्ञापन बोर्ड की वसूली का नोटिस व्यापारियों को ही दिया जा रहा था। अनाधिकृत व्यापारियों ने भी कंपनियों के बोर्ड लगा रखे थे। 4. किसी भी भवन या भूखंड पर एलसीडी या एलईडी या होर्डिंग लगाए जाने पर विज्ञापन शुल्क वसूल किया जाएगा।

पहले : पहले भी यह ठेका नियमों में इसी तरह वूसली के आदेश थे। इसमें कोई बदलाव नहीं किया गया।

नोट : दुकान या घर पर लगे विज्ञापन के नाम पर लागू किए गए शुल्क में ठेका करने के दौरान और हाल में किए गए आदेश को समझें।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आपकी प्रतिभा और व्यक्तित्व खुलकर लोगों के सामने आएंगे और आप अपने कार्यों को बेहतरीन तरीके से संपन्न करेंगे। आपके विरोधी आपके समक्ष टिक नहीं पाएंगे। समाज में भी मान-सम्मान बना रहेगा। नेग...

    और पढ़ें