पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

इंटरव्यू:कलेक्टर बोले, क्लोज काॅन्टेक्ट से बढ़ रहे कोरोना केस, फिलहाल लॉकडाउन जैसे हालात नहीं

सीकर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कहा- संक्रमण का सोर्स पता नहीं लगने पर किया जा सकता है लॉकडाउन

राजस्थान में बढ़ते कोरोना संक्रमण के बीच सरकार ने जरूरत के मुताबिक जिला प्रशासन को लॉक-डाउन करने की छूट दी है। शेखावाटी में सबसे ज्यादा सीकर जिले में संक्रमण के मामले सामने आ रहे हैं। प्रशासन इसकी बड़ी वजह सैंपलिंग ज्यादा होना मान रहा है। जिले में लॉकडाउन काे लेकर भास्कर ने कलेक्टर अविचल चतुर्वेदी से बात की। उनका कहना है कि सिर्फ संक्रमण बढ़ने की वजह से लॉकडाउन नहीं किया जा सकता है। संक्रमण किस तरीके से फैल रहा है, स्थिति नियंत्रण में है या नहीं। इन चीजों को ध्यान में रखकर लॉक डाउन का फैसला लिया जाएगा। पहले से हम धारा 144 के तहत जीरो मोबिलिटी लागू कर रहे हैं। जरूरत होने पर लॉक डाउन जैसा फैसला भी लिया जा सकता है।

जिन इलाकों में 7 दिन में ज्यादा केस आए हैं, वहां करवा रहे हैं बड़े स्तर पर सैंपलिंग, ताकि संक्रमण को रोक सकें

सवाल : शेखावाटी में सबसे ज्यादा सीकर में मामले क्याें आ रहे हैं?
जवाब : सबसे ज्यादा केस सीकर में आने की वजह यहां ज्यादा सैंपलिंग होना है। सैंपलिंग होने के कारण ही सीकर में हालात नियंत्रित है। एसडीएम को यहां सख्ती से नियमों की पालना करवाने की हिदायत दी गई है।
सरकार की गाइड लाइन के तहत बढ़ते संक्रमण पर क्या सीकर में लॉक डाउन लगाया जाएगा?
जिले में क्लोज कांटेक्ट में संक्रमण के मामले ज्यादा सामने आ रहे हैं। संक्रमण के सोर्स का पता नहीं लगने की स्थिति में जरूरत पड़ने पर पूरी तैयारी के साथ लॉक डाउन का फैसला लिया जाएगा। फिलहाल जिले में ऐसी स्थिति नहीं है। हालांकि डेली रिपोर्ट के आधार इसमें बदलाव भी हो रहा है। इसलिए गंभीरता के साथ इसका रिव्यू किया जा रहा है।
संक्रमण के बढ़ते मामलों को लेकर प्रशासन किस तरह से रिव्यू कर रहा है?
28 जुलाई से अब तक जिन इलाकों में सबसे ज्यादा केस आए हैं। वहां विशेष निगरानी रखी जा रही है। सीकर शहर में ऐसे इलाके ज्यादा है। मंगलवार को 1100 लोगों की सैंपलिंग करवाई गई। लापरवाही बरतने वालों पर कानूनी कार्रवाई की जा रही है।
अनलॉक में सख्ती कम होने और लापरवाही से संक्रमण के मामले बढ़े?
संक्रमण के मामले बढ़ने के पीछे कई वजह है। प्रवासी श्रमिकों का जिले में लौटाना, लोगों की जागरुकता में कमी और सख्ती में छूट देना। क्योंकि लोग अब पहले जैसा सोशल डिस्टेंस नहीं रख रहे हैं। परिषद आयुक्त सहित अन्य अफसरों को नियमों से लोगों को जागरुक करवाने के निर्देश दिए हैं।
विकास के दावों के बीच शहर के हालात खराब हैं। इसकी वजह?
बारिश का मौसम होने से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। लॉक डाउन के कारण पहले काम नहीं हो सका। अब इसे बीच में रोक पाना संभव नहीं है। इसलिए सुरक्षा के साथ तेजी से काम किया जा रहा है। नगर परिषद आयुक्त ने सात दिन में लगभग काम पूरा करने की बात कही है।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर से संबंधित कार्यों को संपन्न करने में व्यस्तता बनी रहेगी। किसी विशेष व्यक्ति का सानिध्य प्राप्त हुआ। जिससे आपकी विचारधारा में महत्वपूर्ण परिवर्तन होगा। भाइयों के साथ चला आ रहा संपत्ति य...

और पढ़ें