• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • Elder Who Has Given 13 Memorandums In Three Years, But Neither The Administration Listened Nor The Police; When The Dead Body Was Found Cut Off From The Train Near The Tracks, The Memorandum Kept In The Pocket Scolded

पत्नी और बच्चों की मार सह नहीं पाया!:तीन साल में 13 ज्ञापन दे चुका बुजुर्ग, लेकिन न प्रशासन ने सुनी न पुलिस ने; पटरियों के पास ट्रेन से कटा शव मिला तो जेब में रखे ज्ञापन ने कर डाली चुगली

सीकर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शव के पास मिला ज्ञापन - Dainik Bhaskar
शव के पास मिला ज्ञापन

ये खबर संवेदनाओं को झकझोरने वाली है। श्रीमाधोपुर में पटरियों के पास एक बुजुर्ग का शव मिला तो मामला सुसाइड का था, लेकिन जब उसके कपड़ों से ज्ञापन की एक कॉपी निकली तो सिस्टम की संवेदनहीनता उजागर करके रख दी। ज्ञापन में पत्नी और बच्चों की मारपीट से परेशान बुजुर्ग तीन साल में एसडीएम और एसएचओ को 13 दफा ज्ञापन दिया, लेकिन नतीजा कुछ नहीं निकला।

बुजुर्ग ने लिखा कि घर में चाय बनाकर पीने लगा तो पत्नी और बच्चों ने आकर मारपीट कर डाली। इस जीवन से परेशान हो गया हूं। अब अन्तिम ज्ञापन दूंगा। तीन दिन के भीतर इस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई तो जीवन समाप्त कर लूंगा। ज्ञापन पर आज की तारीख है। ऐसे में सवाल उठता है कि कहीं उसको जानबूझकर पटरियों पर तो नहीं पटका गया।

मामला श्रीमाधोपुर में पृथ्वीपुरा की ढाणी मंदिरवाली निवासी भगवाना राम का है। भगवाना राम की पत्नी बिदामी देवी और तीन बेेटे है। बेटों की शादी हो चुकी है। ज्ञापन में लिखा है कि तीनों बेटे और उनकी पत्नियां बिदामी देवी के साथ मिलकर मारपीट करती है। मारपीट के कारण उसके हाथ पैर खराब हो चुके है।

यहां तक की खाना और पानी भी नहीं देते है। पीड़ित भगवाना राम ने इसकी शिकायत एसडीएम दिलीप सिंह और थानधिकारी करण सिंह को की थी। लेकिन उन्होंने कोई कार्रवाई नहीं की। जिसके कारण पीड़ित लगातार प्रताड़ना का शिकार होता रहा।

सुसाइड संदेह के घेरे में

72 वर्षीय भगवाना राम ने ज्ञापन की कॉपी में जिक्र करते हुए लिखा ​था कि सुबह सात बजे अपने कमरे में चाय बनाकर पी रहा था कि पत्नी और बेटे व बहु ने मिलकर उसके साथ मारपीट की। इसके बाद उसने एसडीएम और एसएचओ को अन्तिम पत्र लिखते हुए तीन दिन के बाद सुसाइड के लिए लिखा था, लेकिन आज ही उसका शव पटरियां पर मिला।

वहीं एसडीएम दिलीप सिंह औैर एसएचओ करण सिंह का कहना है कि उनको यहांं पोस्टिंग हुए अधिक समय नहीं हुआ है। उनके सामने इस तरह का मामला नहीं आया है। हालांकि आज ही सुबह घटना हुई। इसके बाद टाइपशुदा पत्र पर बातें लिखी हुई है। मामले की जांच कर रहे हैं जो सामने आएगा। कार्रवाई होगी।

खबरें और भी हैं...