पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

12 साल की बेटी की गवाही:पापा को तख्ते से बांधा और लाठी से पीट कर मार डाला, खुद ही दादा जी को फोन पर बता भी दिया; अब मां को मिली उम्रकैद, मामा को 10 साल की जेल

सीकरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इस जघन्य मामले में 12 साल की बेटी हर्षिता की गवाही के आधार पर गुरुवार को मां रेणु को उम्रकैद और साले कुलदीप को 10 साल कठोर कारावास की सजा सुनाई। - Dainik Bhaskar
इस जघन्य मामले में 12 साल की बेटी हर्षिता की गवाही के आधार पर गुरुवार को मां रेणु को उम्रकैद और साले कुलदीप को 10 साल कठोर कारावास की सजा सुनाई।
  • पति की शराब की आदत से परेशान थी, भाई के साथ मिलकर साढ़े चार घंटे बेरहमी से पीटा

मां ने बेटी के सामने अपने पति को तख्त पर बांध कर पीट-पीट कर मार डाला। उसके भाई ने भी अपने जीजा की हत्या में खुलकर साथ दिया। मां की नाराजगी इस बात पर थी कि उसका पति बहुत शराब पीता था। साढ़े तीन साल पुराने हत्या के इस जघन्य मामले में 12 साल की बेटी हर्षिता की गवाही के आधार पर गुरुवार को मां रेणु को उम्रकैद और साले कुलदीप को 10 साल कठोर कारावास की सजा सुनाई। जिला एवं सेशन जज ज्ञानप्रकाश गुप्ता ने कन्हैयालाल की हत्या की दोषी रेणु और कुलदीप पर एक-एक लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया है। यही नहीं, बेटी को भी 2 लाख रुपए क्षतिपूर्ति देने के आदेश दिए हैं।

इस बारे में सरकारी वकील किशोर कुमार सैनी ने बताया कि 18 जून, 2017 को सूबेदार तेजाराम ने केस दर्ज करवाया कि उसकी बहू रेणु ने बेटे कन्हैयालाल को तख्त से बांध कर लाठी और दांतलों से पीट-पीट कर मार डाला। तेजाराम के मुताबिक बेटे ने देवलानाड़ा में अपना मकान बनाया था और वह एक माह से परिवार के साथ वहीं रहकर खेती करता था। कन्हैयालाल की पत्नी रेणु 17 जून को अपने पीहर गई थी और 18 जून को सुबह लौट आई थी। उसी दिन वह कन्हैयालाल को दुकान से बुलाकर घर ले गई।

रेणु गुर्जर और कुलदीप।
रेणु गुर्जर और कुलदीप।

इसके बाद बहू व उसके भाई कुलदीप ने कन्हैयालाल​​​​ को तख्ते से बांध दिया। लाठी व दांतलों से मारपीट की। तेजाराम ने बताया कि रेणु ने उन्हें खुद फोन कर बताया कि उसने मेरे बेटे को मार दिया है। सूचना मिलते ही वह बाइक पर देवलानाड़ा गए। जिस कमरे में उसे बांधा था वहां चारों ओर खून बिखरा पड़ा था। उनके बेटे के सिर से काफी खून बह रहा था। सिर, चेहरे पर चोटों के गंभीर निशान थे। कुलदीप ने अपने बयान में बताया है कि जीजा को मारने के बाद उसकी बहन रेणु ने दही बिलाेया और उसे व हर्षिता को लस्सी दी।

पापा चिल्लाए तो मां ने मामा से कहा-अभी पूरा इलाज नहीं हुआ है, इसके बाद फिर दांतले से हमला किया : हर्षिता

हर्षिता ने 19 फरवरी 2018 को कोर्ट में दिए बयान में बताया कि 18 जून 2017 को मैं, मेरी मम्मी रेणु, मेरा छोटा भाई शांतनु व मामाजी कुलदीप ननिहाल से गांव आए थे। पापा दुकान पर थे। मम्मी उनको पकड़ कर ले आई। पापा ने उस समय थोड़ी शराब पी रखी थी। मम्मी ने पापा के साथ मारपीट की और कमरे में बंद कर दिया।

मम्मी ने मामा को बुलाकर कहा कि आज इसका इलाज करते हैं। मम्मी ने मुझसे रसोई में पड़ी रस्सी मंगवाई। मम्मी व मामा ने रस्सी से पापा को तख्ते से बांध दिया। मैंने खिड़की से देखा तो मम्मी व मामा पापा को लकड़ियों से मार रहे थे, कमरे में खून फैल रहा था। बाद में मम्मी ने कमरा बंद कर मुझे व मामा को लस्सी पकड़ाई, मैंने लस्सी नहीं पी। फिर वहां पर शांति ताई और गीता ताई आई। पापा उनकी आवाज सुनकर जोर से चिल्लाए।

मम्मी ने ताई से कहा कि शराब पीया हुआ है, ऐसे ही कर रहा है। उन औरतों के जाने के बाद मम्मी ने कहा कि इसका इलाज पूरा नहीं हुआ है और दांतला लेकर कमरे में गई और पापा को फिर पीटा।फिर मम्मी ने पापा के मोबाइल से दादाजी को फोन किया कि आपके बेटे को मार दिया है, आकर संभाल लो।

मैंने खिड़की से देखा तो पापा बोल नहीं रहे थे और हिल भी नहीं रहे थे। फिर मम्मी ने मुझसे पानी मंगवाया और पापा पर डाला तो वो नहीं हिले। तब तक दादाजी मोटरसाइकिल पर आए गए। दादाजी ने देखा तो पापा मर चुके थे। दादाजी ने मम्मी से पूछा तो उन्होंने कहा कि इसका इलाज कर दिया और फिर वहां से चली गई। मामाजी दादाजी के वहां आने से पहले ही वहां से चले गए थे।

पति को मारकर भाई के साथ बाइक पर चली गई रेणु
रेणु व कुलदीप ने कन्हैयालाल के साथ सुबह नौ बजे से दोपहर डेढ़ बजे तक मारपीट की। उसे तख्ते से बांधकर जब तक मारा तब तक कि उसके प्राण नहीं निकल गए। इसके बाद रेणु अपने भाई कुलदीप के साथ मोटरसाइकिल पर बैठकर चली गई थी।

जज ने पूछा सच बोलना चाहिए या झूठ, हर्षिता बोली-सच, क्योंकि झूठ बाेलने से पाप लगता है
पीपी किशोर कुमार सैनी ने बताया कि घटना के वक्त हर्षिता 10 साल की थी। इस दौरान जज ने हर्षिता से पूछा कि आप कितने भाई-बहन हो। हर्षिता ने बताया कि हम एक भाई एक बहन हैं। फिर जज ने पूछा, सच बोलना चाहिए या झूठ। इस पर हर्षिता बोली सच। मजिस्ट्रेट ने पूछा झूठ बोलने से क्या होता है? हर्षिता बोली पाप लगता है।

20 गवाह और 41 दस्तावेज पेश किए
मामले में पुलिस और पीपी किशोर सैनी की ओर से कुल 20 गवाह के बयान करवाए गए। इसके साथ ही 41 दस्तावेज पेश किए। इनके अलावा नाै जप्तशुदा सामान जिनमें मौके के खून, कपड़े, रस्सी, लाठी, दांतला, टूटी हुई चूड़ियों के टुकड़े, सीमेंट के टुकड़े आदि कोर्ट में पेश किए।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप प्रत्येक कार्य को उचित तथा सुचारु रूप से करने में सक्षम रहेंगे। सिर्फ कोई भी कार्य करने से पहले उसकी रूपरेखा अवश्य बना लें। आपके इन गुणों की वजह से आज आपको कोई विशेष उपलब्धि भी हासिल होगी।...

और पढ़ें