पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

करंट से मौत:घर की सफाई करते लोहे का पाइप हाईटेंशन लाइन से छूने से पिता की मौत, पुत्र झुलसा

मूंडरू/अजीतगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ओमप्रकाश वर्मा। - Dainik Bhaskar
ओमप्रकाश वर्मा।

लिसाड़िया गांव में रविवार सुबह करंट लगने से पिता की मौत हो गई एवं पुत्र गंभीर रूप से झुलसने से घायल हो गया। दोनों को अजीतगढ़ चिकित्सालय लाया गया, जहां पिता को मृत घोषित कर दिया और पुत्र को जयपुर रैफर कर दिया। उसके बाद परिजनों समेत सैकड़ों लोगों ने मुआवजा दिलाने एवं अन्य मांगों को लेकर अजीतगढ़ सीएचसी में प्रदर्शन कर धरना शुरू कर दिया।

लगभग आठ घंटे बाद शाम छह बजे प्रशासनिक अधिकारी एवं बिजली निगम के अधिकारियों ने आश्वासन के बाद लोगों ने धरना उठाया। उसके बाद मृतक के शव का पोस्टमार्टम कराकर परिजनों को दिया । जानकारी के अनुसार रविवार सुबह 10 बजे के लगभग लिसाड़िया निवासी 57 वर्षीय ओमप्रकाश वर्मा व उसका 26 वर्षीय पुत्र वीरेंद्र कुमार वर्मा अपने मकान की छत पर नाले की सफाई कर रहे थे।

इस दौरान वीरेंद्र ने अपने हाथ में लोहे का सरिया ले रखा था जो मकान की छत के पास से गुजर रही 11 हजार केवी की हाईटेंशन लाइन के संपर्क में आ गया। इससे वीरेंद्र करंट की चपेट में आ गया। पिता ओमप्रकाश ने अपने पुत्र को छुड़ाने की कोशिश की तो वह भी करंट की चपेट में आ गया।

दोनों को परिजनों व ग्रामीणों ने अजीतगढ़ सीएचसी में भर्ती कराया, जहां पिता ओमप्रकाश वर्मा को मृत घोषित कर दिया एवं वीरेंद्र को जयपुर रैफर कर दिया। सूचना पर अजीतगढ़ थाना प्रभारी सवाई सिंह और श्रीमाधोपुर थानाधिकारी दातार सिंह, सबइंस्पेक्टर गिरधारी लाल डीगवाल ने शव को अजीतगढ़ अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया एवं परिजनों को पोस्टमार्टम कराने के लिए कहा, लेकिन परिजनों ने मना कर दिया।

सूचना पर माकपा नेता का. ओमप्रकाश यादव, जनवादी नौजवान सभा के का. अनिल यादव, मक्खन लाल यादव, महावीर सैनी, जगदीश यादव, मदनलाल वर्मा, मोहन लाल बुनकर ने अजीतगढ़ चिकित्सालय पहुंच कर मुआवजा एवं अन्य मांगों को लेकर अस्पताल परिसर में धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया। अजीतगढ़ थाना प्रभारी सवाई सिंह एवं श्रीमाधोपुर थाना प्रभारी दातार सिंह ने लोंगो को समझाने की कोशिश की, लेकिन नहीं माने।

उसके बाद दोपहर बाद तीन बजे श्रीमाधोपुर नायब तहसीलदार नेहा वर्मा, अजीतगढ़ बिजली निगम के सहायक अभियंता भागीरथ शर्मा, कनिष्ठ अभियंता अंकुर शर्मा ने लोगो की मांगें सुनी, लेकिन बार-बार वार्ता करने के बाद भी प्रदर्शनकारी नहीं माने।

उसके बाद शाम पांच बजे बिजली निगम के सहायक अभियंता भागीरथ शर्मा ने अधीक्षण अभियंता से बातचीत कर मृतक के परिजनों को बिजली निगम की तरफ से पांच लाख रुपए का मुआवजा एवं गांव में से गुजर रही 11 केवी लाइनों को गांव के बाहर से करने का आश्वासन दिया।

उसके बाद प्रदर्शनकारियों ने कलेक्टर सीकर के नाम श्रीमाधोपुर नायब तहसीलदार नेहा वर्मा को मृतक के परिजनों को 50 लाख रुपए का मुआवजा देने व मृतक के परिजनों में से एक व्यक्ति को सरकारी नौकरी, मृतक के परिवार को बीपीएल श्रेणी में घोषित करने, बिजली निगम के लापरवाह कर्मचारियों के विरुद्ध कानूनी कार्रवाई की करने के साथ ही ग्रामीण क्षेत्र एवं आबादी क्षेत्र में जो हाईटेंशन लाइन है, उन्हें आबादी से बाहर लगाने का ज्ञापन सौंपा।

इसके बाद नायब तहसीलदार वर्मा ने धरना स्थल पर उपस्थित लोगों को मृतक के परिवार में एक सदस्य को सरकारी नौकरी एवं 50 लाख रुपए का मुआवजा देने का प्रस्ताव बनाकर सरकार को भेजने, मृतक के परिवार को शीघ्र ही बीपीएल में शामिल कराने, गंभीर घायल वीरेंद्र की पत्नी को आंगनबाड़ी में लगाने, गंभीर रूप से घायल वीरेंद्र के इलाज का संपूर्ण खर्चा सरकार द्वारा देने सहित अन्य सभी मांगों को जल्द पूरा करवाने का आश्वासन देकर शाम छह बजे धरना समाप्त करवाया। उसके बाद शव का पोस्टमार्टम कर परिजनों को दिया।

मृतक ओमप्रकाश के चार पुत्र एवं दो पुत्रियां हैं
मृतक ओमप्रकाश वर्मा के चार पुत्र एवं दो पुत्रियां हैं जो सभी शादीशुदा हैं। ओमप्रकाश शुरू से कमांडर जीप चला कर अपने परिवार का पालन- पोषण करता रहा है, लेकिन पिछले कई सालों से जीप चलाने का कार्य छोड़कर बाहर मजदूरी करता था।

इस कारण उसके परिवार की हालत काफी दयनीय है। साथ ही इस हादसे में झुलसे घायल ओमप्रकाश के पुत्र वीरेंद्र की शादी डेढ़ साल पहले हुई थी। उसके पांच माह की बच्ची है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

    और पढ़ें