• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • For The First Time In 9 Years, PhD Examination Will Now Be Held On August 29, 800 Students Are Doing Research In 3 Universities That Started Together

शेखावाटी यूनिवर्सिटी:9 साल में पहली बार अब 29 अगस्त काे हाेगी पीएचडी परीक्षा, साथ शुरू हुए 3 विवि में 800 विद्यार्थी कर रहे शाेध

सीकर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अलवर, भरतपुर की यूनिवर्सिटी में 2018 में ही रिसर्च शुरू
  • हमारे यहां चार माह पहले आवेदन मांगे, 120 सीटों के लिए 2000 फॉर्म आए

पंडित दीनदयालय उपाध्याय शेखावाटी विश्वविद्यालय के शुरू होने के नौ साल बाद अब पीएचडी की परीक्षा होगी, जबकि शेखावाटी विश्वविद्यालय के साथ शुरू हुए तीन विश्वविद्यालयाें राजऋषि भृर्तहरि मत्स्य यूनिवर्सिटी अलवर, महाराजा सूरजमल बृज विवि भरतपुर और गाेविंद गुरु जनजातीय विश्वविद्यालय बांसवाड़ा में करीब 800 स्टूडेंट्स शाेध कर रहे हैं। अलवर व भरतपुर यूनिवर्सिटी ने ताे 2018 में ही रिसर्च शुरू करवा दिया था।

चार महीने पहले शेखावाटी यूनिवर्सिटी ने 120 सीटाें के लिए आवेदन मांगे तो 2000 से अधिक फॉर्म आए। अब शाेध पात्रता परीक्षा (रेट) 2021 करवाने की तिथि 29 अगस्त घाेषित की है। परीक्षा एक पारी में ऑफलाइन हाेगी। इनमें से कुछ छात्र-छात्राओं ने ताे लाखाें रुपए देकर निजी यूनिवर्सिटी से एग्जाम देकर पीएचडी शुरू कर दी है।

नाै साल में दाे कुलपति अपना कार्यकाल पूरा कर चुके हैं। तीसरे कुलपति प्राे. भागीरथसिंह बिजारणियां ने अपने कार्यकाल में रिसर्च सुरवाइजर नियुक्त कर दिए अाैर स्टू्डेंट्स से अावेदन पत्र भी भरवा लिए हैं, लेकिन अभी तक शाेध पात्रता परीक्षा काे लेकर डेट ही दी जा रही है।

भास्कर पड़ताल : चार बिंदुओं से समझिए विद्यार्थियों को कितना इंतजार करवाया

1. पहले दाे कुलपति डॉ. विमलेश चौधरी और प्रो. बीएल शर्मा के कार्यकाल में तो शोध कार्य की प्रक्रिया ही शुरू नहीं हुई

राज्य सरकार ने 17 अक्टूबर 2012 काे शेखावाटी विश्वविद्यालय स्थापना की अधिसूचना जारी कर दी थी। पंडित दीनदयाल उपाध्याय शेखावाटी विश्वविद्यालय, सीकर में पहले कुलपति के ताैर पर डाॅ. विमलेश चाैधरी का कार्यकाल 22 जून 2013 से 21 जून 2016 तक रहा, लेकिन उन्होंने शाेध के लिए काेई प्रयास नहीं किए। कुलपति प्राे. बीएल शर्मा ने 22 फरवरी 2017 में ज्वाॅइन किया।

उनका कार्यकाल 21 फरवरी 2020 तक रहा। उन्हाेंने शाेध शुरू करने के प्रयास किए, बाेम की बैठक में भी कई बार इसे रखा, लेकिन भवन निर्माण, जमीन आवंटन, एग्जाम शुरू करवाने के चलते शाेध कार्य काे गति नहीं मिल सकी। कुलपति प्राे. भागीरथसिंह बिजारणियां ने 10 सितंबर 2020 में ज्वाॅइन किया।

2. 120 सीटों के लिए 2029 आवेदन आए

मार्च में शाेधार्थियाें के आवेदन लिए थे। एक आवेदक से दो हजार रुपए फीस ली गई थी। पीएचडी की 120 सीटाें के लिए करीब 2029 आवेदन आ चुके हैं। विवि के अनुसार प्री-पीएचडी में 200 अंकों का संबंधित विषय का पेपर हाेना है। 100 अंक का रिसर्च मैथोलॉजी का पेपर होगा। कुलपति प्राे. भागीरथसिंह के अनुसार शोध में शेखावाटी की हवेलियों, किसान, खेती में नवाचार, सेठ-साहूकारों, भवन निर्माण कला, सैनिकों की शहादत व सैनिकों के गांव, धार्मिक स्थलों व धर्मगुरुओं व ग्रामीण संस्कृति को प्राथमिकता देंगे।

3. 16 विषयों में शुरू करवानी थी पीएचडी, सुपरवाइजर लगाए थे

शेखावाटी विश्वविद्यालय में ईएएफएम, एबीएसटी, लॉ, फिजिकल एजुकेशन, गणित, जूलॉजी, बॉटनी, रसायन शास्त्र, भूगाेल, हिंदी, अंग्रेजी, संस्कृत, राजनीति विज्ञान, इतिहास, समाज शास्त्र, लोक प्रशासन को मिलाकर 16 विषयों में पीएचडी शुरू करवानी थी। इधर, शेखावाटी विश्वविद्यालय ने पहले साल 16 विषयाें में 120 सीटाें पर कुल 60 सुपरवाइजर नियुक्त किए हैं। इनमें 23 असिस्टेंट प्राेफेसर और 37 एसाेसिएट प्राेफेसर कुल 60 गाइड को नियुक्ति दी गई हैं।

4. अलवर, भरतपुर और बांसवाड़ा के विश्वविद्यालयों में शाेध शुरू

राज ऋषि भृर्तहरि मत्स्य यूनिवर्सिटी अलवर के कुलपति प्राे. जेपी यादव ने बताया कि अलवर में 2018 में पीएचडी शुरू हाे गई थी। अभी 400 से भी ज्यादा शाेधार्थी हैं। नए बैच के लिए स्टूडेंट्स के आवेदन भी निकाल दिए हैं। महाराजा सूरजमल बृज विश्वविद्यालय भरतपुर के परीक्षा नियंत्रक एके पांडेय ने बताया कि 2017-2018 में शोघ शुरू हुआ। अब तक दाे बेंच में 111 रिसर्च स्काॅलर शाेध कर रहे हैं। गाेविंद गुरु जनजातीय विवि बांसवाड़ा में करीब 14 विषयाें में 300 सीटाें पर शाेध कार्य शुरू हाेने वाला है।

स्टूडेंट्स से जानिए पीएचडी में देरी से होने वाली परेशानी

तीन साल से पीएचडी के लिए कर रहे भागदाैड़

कराैली के कैमा गांव निवासी विवेक कुमार मीणा ने राजनीति विज्ञान से 2019 में नेट किया है। उन्हाेंने शेखावाटी यूनिवर्सिटी में राजनीति विज्ञान में पीएचडी के लिए अावेदन कर रखा है। तीन साल से पीएचडी करने के लिए इंतजार कर रहे हैं। यूनिवर्सिटी एग्जाम फाॅर्म भरने के पांच माह बाद एग्जाम करवा रहा है। यूजीसी ने हाल ही में नए नियमाें में असिस्टेंट प्राेफेसर की भर्ती के लिए नेट के साथ ही पीएचडी करना भी जरूरी कर दिया है।

इंतजार करते थक गया तो निजी यूनिवर्सिटी से शुरू की पीएचडी

छात्र मुकेश चाैधरी ने बताया कि उसने पीएचडी के लिए आवेदन किया है। शेखावाटी यूनिवर्सिटी में कब शाेध पात्रता परीक्षा व के इंटरव्यू होेंगे और कब गाइड आवंटित कर शाेध कार्य शुरू करेंगे। लगता है यहां ताे एक साल से भी अधिक समय और लगाएंगे। ऐसे में मैंने निजी यूनिवर्सिटी में एग्जाम दिया है। मेरा एमएटी यूनिवर्सिटी दिल्ली राेड जयपुर में प्रवेश हाे गया है। अब मैं वहां से पीएचडी कर रहा हूं।

पीएचडी के लिए हमने मार्च 2021 में ही आवेदन ले लिए थे, लेकिन काेविड के कारण एग्जाम नहीं करवा पाए। अब यूनिवर्सिटी के एग्जाम के साथ ही काॅम्पिटीशन के एग्जाम की डेट आ रही थी। 29 अगस्त काे शाेध पात्रता परीक्षा (रेट) करवाएंगे। स्टूडेंट्स परेशान हाे रहे हैं, लेकिन हर कार्य में समय लगता है।- प्राे. भगीरथसिंह बिजारणियां, कुलपति, पं. दीनदयालय उपाध्याय शेखावाटी यूनिवर्सिटी

खबरें और भी हैं...