औषधीय पौधे बांटेगा वन विभाग:इम्यूनिटी बढ़ाने वाले 5 करोड़ औषधीय पौधे फ्री बांटेगा वन विभाग, प्रत्येक परिवार को 8 मिलेंगे

सीकर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वन विभाग की नानी नर्सरी में तैयार औषधीय व अन्य पौधे। - Dainik Bhaskar
वन विभाग की नानी नर्सरी में तैयार औषधीय व अन्य पौधे।
  • 5 साल तक चलने वाली योजना पर 210 करोड़ खर्च होंगे, सीकर को मिलेंगे 19.49 लाख पौधे

काेराेना वायरस लाेगाेें काे प्रकृति के बीच ले आया है...अब वन विभाग भी इन्हीं महत्वों को घर तक पहुंचाएगा। वन विभाग 210 करोड़ रुपए खर्च करके घर-घर तक औषधीय पौधे पहुंचाएगा। पहले चरण में 5 करोड़ पौधे बांटे जाएंगे। औषधीय पौधे लगाने के लिए वन विभाग व आयुर्वेद विभाग ने तय किया है कि वे हर व्यक्ति ने औषधीय पौधों का महत्व बताए।

एक परिवार को 4 प्रकार के औषधि के 8 पौधे निशुल्क उपलब्ध कराएगा। पहले चरण में तुलसी, गिलोय, अश्वगंधा व कालमेघ किस्म के औषधीय पौधे शामिल किए गए हैं। कोरोनाकाल में लोगों ने काढा बनाने के लिए इन औषधियों का जमकर उपयोग किया है। आयुर्वेद विभाग का कहना है कि इन औषधियों की मदद से इम्यूनिटी सिस्टम को मजबूत किया जा सकता है।
औषधीय पौधों के फायदे
गिलोय : मधुमेह, खांसी ,एनीमिया, पीलिया, चरम रोग बुखार के इलाज में काम आती है।
अश्वगंधा : शरीर को ताकत देती है, सूजन कम करने के साथ दमा, खांसी, हृदय से जुड़ी तकलीफों में, गर्भवती को पोषण देता है।
कालमेघ : पीलिया, लीवर, पाचन, पेट की बीमारी का उपचार।
तुलसी : इसका उपयोग जुखाम, बुखार, टाइफाइड, मलेरिया, डेंगू आदि से जुड़ी बीमारियों के इलाज में किया जाता है।

खबरें और भी हैं...