पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • Four Policemen Suspended Due To Negligence Suspense Question Why Not Take Action On The Real Responsible South Post Staff

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

दुकानदार की मौत का मामला:लापरवाही बरतने वाले गश्ती दल के चार पुलिसकर्मी सस्पेंड सवाल- असली जिम्मेदार साउथ चौकी स्टाफ पर कार्रवाई क्यों नहीं

सीकर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

राणिसती रोड पर 12 अक्टूबर रात को पथराव से हुई दुकानदार की मौत के मामले में लापरवाही बरतने वाले गश्ती दल के चार पुलिस कर्मियों को गुरुवार को सस्पेंड कर दिया गया। इनमें हैड कांस्टेबल सलीम, कांस्टेबल सुभाष व जितेंद्र तथा चालक महेंद्र शामिल हैं।

इन्हें ड्यूटी में लापरवाही बरतने का दोषी माना गया है। लेकिन बड़ा सवाल यह है कि इनसे ज्यादा जिम्मेदार साउथ पुलिस चौकी का स्टाफ है। जिसके इलाके में यह घटना हुई। चौकी को घेरे रखने के बावजूद पुलिस कर्मी बाहर नहीं निकले। इसलिए लौटते वक्त उपद्रवियों की भीड़ ने दुकान पर बैठे बुजुर्ग पर पथराव कर दिया। आखिरकार अफसर इन लापरवाह पुलिस कर्मियों का बचाव क्यों कर रहे हैं।

एसपी ने गगनदीप सिंगला ने बताया कि जांच में खुलासा हुआ कि घटना के वक्त सबसे पहले पुलिस लाइन का गश्ती दल मौके पर पहुंचा। इन्होंने झगड़े की सूचना आगे ट्रांसफर नहीं की। ऐसे में उन्हें ड्यूटी में लापरवाही को दोषी मानते हुए निलंबित किया गया है। चारों पुलिस कर्मियों का मुख्यालय पुलिस लाइन में रखा गया है। हालांकि ये पहले भी लाइन में तैनात थे। लाइन से ही इन्हें गश्त पर भेजा गया था। इसके अलावा मामले की जांच एएसपी डा. देवेंद्र शर्मा काे सौप रखी है।

उनके नेतृत्व में पूरे घटना क्रम का विश्लेषण किया जा रहा है। मामले में दैनिक भास्कर ने लगातार पड़ताल कर सीसीटीवी व प्रत्यक्षदर्शियों के जरिए पुलिस की लापरवाही उजागर की। इसलिए पुलिस अपनी लापरवाही को नहीं छिपा सकी।

आखिरकार घटना के 72 घंटे बाद मामले में चार पुलिस कर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया। लेकिन पुलिस पर सवाल अब खड़े हैं। क्योंकि जिम्मेदारी चौकी स्टाफ पर अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई। इधर, मामले में गिरफ्तार किए गए आरोपियों से पुलिस पूछताछ कर रही है। में सामने आया कि मृतक के बेटे रविंद्र से शराबी युवकों का विवाद हुआ था। इसे लेकर दोनों पक्षों में मारपीट हुई।

72 घंटे बाद लापरवाही बरतने वालों पर अधूरी कार्रवाई

1. टाइम लाइन ने साबित की पुलिस की लापरवाही : दैनिक भास्कर ने लगातार दो दिन तक मामले की पड़ताल की। साउथ चौकी पुलिस और गश्ती दल द्वारा बरती गई लापरवाही को सीसीटीवी फुटेज की टाइम लाइन के साथ उजागर किया।

2. गृह सचिव ने मांगी रिपोर्ट : दैनिक भास्कर ने घटना और पुलिस की लापरवाही की पूरी कहानी उजागर की। खबर के आधार पर गृह सचिव अभयकुमार ने घटना की पूरी रिपोर्ट तलब की। इससे स्थानीय पुलिस अफसरों पर दबाव बना।

3. आईजी ने मांगी थी तथ्यात्मक रिपोर्ट : छोटी सी मारपीट की घटना पुलिस की लापरवाही के कारण बड़े हादसे में तब्दील हो गई। भास्कर पुलिस की पूरी नाकामी सामने लेकर आया। आईजी एस सेंगाथिर ने मामले को गंभीरता से लेते हुए एसपी से तथ्यात्मक रिपोर्ट मांगी।

अब तक पुलिस की गिरफ्त से दूर मामले का पांचवां आरोपी
उधाेग नगर थानाधिकारी पवन चाैबे ने बताया कि हत्या में नामजद मुख्य आरोपी पप्पू उर्फ कालू से ओम सिंह के मोबाइल के बारे में जानकारी जुटा रही है। इसके अलावा बाकी के तीनाें आरोपियों से घटनाक्रम में शामिल अन्य लाेगाें की सूचना जुटाई जा रही है कि भीड़ में ऐसे और काैन लाेग थे। जिन्होंने पत्थरबाजी की थी। वारदात में शामिल पांचवां आरोपी अभी फरार है।

शराबी अक्सर झगड़ते हैं, चौकी से बाहर नहीं निकलती पुलिस
राणी सती स्टेंड, चंदपुरा राेड व पाेलाे ग्राउंड के स्थानीय दुकानदार व लाेगाें का आरोप है कि यहां शराब ठेका होने से अक्सर शराबियों का जमावड़ा रहता है। शराब के नशे में आए दिन लोग झगड़ते रहते हैं, लेकिन पुलिस इन पर कोई सख्ती नहीं करती है। हालात यह है कि विवाद के बावजूद साउथ चौकी पुलिस 150 मीटर दूर बाहर नहीं आती है। ऐसे में कई दफा विवाद मारपीट तक पहुंच जाते हैं। शिकायत के बावजूद समाधान नहीं हो रहा।​​​​​​​

चौकी में पांच लोगों का स्टाफ, घटना के वक्त सिर्फ एक कांस्टेबल था
साउथ चाैकी उधाेग नगर थाना क्षेत्र में आती है। इसका एक पार्ट बस डिपाे चाैकी में संचालित है। उद्योग नगर थाना पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया कि यहां पांच-एक का जाब्ता है। परंतु 12 अक्टूबर काे घटना के दाैरान चाैकी में तीन लाेग पहुंचे थे। इनमें कांस्टेबल हरलाल माैके पर था। इंचार्ज महेंद्र खाना खाने गए हुए थे। जबकि पुलिसकर्मी महेश किसी काम से उधाेग नगर थाने गया हुआ था। बाकी स्टाफ कहां था। जानकारी कोई भी नहीं दे पाए। ​​​​​​​

क्या है मामला

12 अक्टूबर रात करीब 10 बजे ओमसिंह दुकान पर बैठे थे। शराब पीकर उत्पात मचा रहे नट बस्ती के युवकों से उनके बेटे रविंद्र का विवाद हो गया। नट बस्ती से पप्पू उर्फ कालू, जीतू व मुकेश तथा इनके दाेस्त विक्की व हरिया के लड़के ने पत्थरबाजी कर ओम सिंह काे घायल कर दिया था। पथराव होने पर रविंद्र भागकर साउथ पुलिस चौकी में घुस गया। इस दौरान पुलिस लाइन का गश्ती दल भी पहुंच गया है।

भीड़ काे नियंत्रण करने और इसकी सूचना तुरंत पुलिस कंट्रोल रूम व अधिकारियों काे नहीं देकर गश्ती दल आगे निकल गया। भीड़ आगे जाकर साउथ चौकी को घेर लेती है। चौकी पर 15 मिनट हंगामा होता है। लौटते वक्त भीड़ पथराव करती है। हादसे में ओमसिंह की मौत हो गई।​​​​​​​

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज जीवन में कोई अप्रत्याशित बदलाव आएगा। उसे स्वीकारना आपके लिए भाग्योदय दायक रहेगा। परिवार से संबंधित किसी महत्वपूर्ण मुद्दे पर विचार विमर्श में आपकी सलाह को विशेष सहमति दी जाएगी। नेगेटिव-...

    और पढ़ें