• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • Gangsters Who Are Pretending To Get Admission In The Desired Medical College For 15 Lakhs, Calls Are Coming To The Students Who Have Taken The Exam

डॉक्टर बनने की ख्वाहिश:15 लाख में मनचाहे मेडिकल कॉलेज में एडमिशन का झांसा दे रहे गिरोहबाज, परीक्षा दे चुके स्टूडेंट के पास आ रहे कॉल

सीकर4 महीने पहलेलेखक: कुलदीप पारीक
  • कॉपी लिंक
50 हजार एडवांस देने होंगे, बाकी रिजल्ट के बाद...ऐसे हो रही सौदेबाजी। - Dainik Bhaskar
50 हजार एडवांस देने होंगे, बाकी रिजल्ट के बाद...ऐसे हो रही सौदेबाजी।

राजस्थान में धांधली और बोगस स्टूडेंट के बाद अब मार्क्स बढ़ाने और मनचाहे कॉलेज में एडमिशन दिलवाने वाला गिरोह सक्रिय हो गया है। गिरोह के लोग 15 लाख रुपए में एडमिशन तक का पूरा काम करवाने की गारंटी तक दे रहे हैं। जबकि नीट प्रबंधन ऐसी किसी भी संभावना को सिरे से खारिज कर रहा है। प्रबंधन का कहना है कि स्टूडेंट ऐसे किसी गिरोह के झांसे में नहीं आएं।

नीट एग्जाम दे चुके स्टूडेंट्स और उनके अभिभावकों के मोबाइल पर इन दिनों मार्क्स बढ़वाने और मनचाहे कॉलेज में एडमिशन दिलाने के ऑफर आ रहे हैं। अभिभावकों से मिले नंबर पर भास्कर रिपोर्टर ने अभिभावक बनकर बात की तो गिरोह का पूरा कच्चा चिट्‌ठा सामने आया।

गिरोह से बातचीत से पता चला कि यह महाराष्ट्र से ऑपरेट हो रहा है। गिरोह से जुड़े लोग पहले स्टूडेंट्स के दस्तावेज मंगवाते हैं। इसके बाद 50 हजार रुपए में सीट बुक करने का झांसा देकर यह रकम एडवांस मंगवाते हैं। गारंटी के साथ काम करने का भरोसा दिलाते हैं।

इसके लिए वे एडमिशन होने के बाद बचे हुए 14.50 लाख रुपए भुगतान करने की बात कहते हैं। बात पूरी होने के बाद गिरोह ने भास्कर रिपोर्टर को वाट्सएप पर स्टूडेंट्स के जरूरी डोक्यूमेंट की सूची भेजी। कहा गया कि डाक्यूमेंट वैरिफिकेशन के बाद एडमिशन की प्रक्रिया पर काम शुरू करेंगे।

सवाल : गिरोह तक कैसे पहुंच रहे हैं स्टूडेंट्स के नाम-नंबर और मार्क्स

नीट एग्जाम एनटीए करवाती है। ऐसे में सवाल यह है कि परीक्षा देने वाले स्टूडेंट्स के नाम, नंबर, पते जैसे गोपनीय दस्तावेज गिरोह तक कैसे पहुंच रहे हैं। क्योंकि गिरोह के लोग उन्हीं स्टूडेंट्स या अभिभावकों को मार्क्स मेनिपुलेशन के लिए कॉल कर रहे हैं, जिन्होंने एग्जाम दी है। ऐसे में कई सवाल खड़े हो रहे हैं।

इसलिए आशंका
पिछले दिनों जयपुर के भांकरोटा एग्जाम सेंटर से नीट पेपर वाट्सएप के जरिए बाहर आ गया। वहीं कमजाेर अभ्यर्थियों की जगह मेडिकल स्टूडेंट्स को बोगस परीक्षार्थी बनाने वाले गिरोह का खुलासा हुआ है। ऐसे में मार्क्स मेनिपुलेश जैसी गड़बड़ी से इनकार नहीं कर सकते।

भास्कर रिपोर्टर ने स्टूडेंट बनकर बात की तो सच सामने आ गया

रिपोर्टर : गिरोह के 8350024049 नंबर पर कॉल किया।
गिरोह : हेल्लो..., मोहित शर्मा बोल रहा हूं। महाराष्ट्र, पुणे से हूं। हम रिजल्ट मेनिपुलेशन करवाकर सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन करवाते हैं।
रिपोर्टर : मार्क्स मेनिपुलेशन कैसे होंगे। एडमिशन की क्या गारंटी है?
गिरोह : बच्चे के कितने मार्क्स बन रहे हैं। अगर स्टूडेंट्स के 250 मार्क्स आ रहे हैं तो भी हम 650 तक करवा देंगे। कैटेगिरी वाइज एडमिशन होता है।
रिपोर्टर : कितना लगेगा, गारंटी क्या?
गिरोह : हम पहले पैसा नहीं लेते हैं। डाक्यूमेंट वैरिफिकेशन के बाद आपको सिर्फ 50 हजार रुपए एडवांस देने होंगे। रिजल्ट के बाद आपको 14.50 लाख रुपए बैंक में जमा करवाने होंगे।
रिपोर्टर : क्या जोधपुर मेडिकल कॉलेज में एडमिशन मिल जाएगा?
गिरेाह : आप कोई भी कॉलेज सलेक्ट करके बता दें। उसी में एडमिशन करवाया दिया जाएगा।
रिपोर्टर : जोधपुर मेडिकल कॉलेज में जनरल कैटेगिरी में कितने मार्क्स की जरूरत होगी?
गिरोह : आप दो मिनट होल्ड करें...। इसके लिए 620 मार्क्स की जरूरत होगी। अगर बच्चे के इतने मार्क्स नहीं आ रहे हैं, तो हम करवा देंगे।
रिपोर्टर : सवाल : राजस्थान में नीट का पेपर लीक हुआ। कहीं गड़बड़ी हुई तो?
गिरोह : आपका रिजल्ट एनटीए की वेबसाइट पर मिलेगा। काउंसलिंग के जरिए आपको एडमिशन मिलेगा। रिजल्ट आने के बाद पैसा देना है। फिर गड़बड़ी कैसे होगी।
रिपोर्टर : पेमेंट बहुत ज्यादा है। दो स्टूडेंट के लिए कुछ कम हो सकता है क्या?
गिरोह : इसके लिए मैं आपकी हमारे सीनियर से बात करवाता हूं। हल्लो... मैं इनका सीनियर अलोक दास बोल रहा हूं। हमारी फीस तय है। कम-ज्यादा नहीं होगा। चाहे एक स्टूडेंट की बात करें या 50 स्टूडेंट की। सबके लिए एक ही फीस है। हम छह सात साल से काम कर रहे हैं। सभी स्टेट से हमारे पास स्टूडेंट्स आते हैं। हर साल 20 से 25 स्टूडेंट्स का एडमिशन करवाते हैं।
रिपोर्टर : हमें इसके लिए स्टूडेंट की क्या जानकारी देनी होगी।
जवाब : आपको नीट प्रवेश पत्र, आधार कार्ड सहित अन्य जरूरी डोक्यूमेंट भेजने होंगे। वैरिफिकेशन के बाद आपको बता दिया जाएगा कि आपका काम होगा या नहीं। हम कई एडमिशन पहले ही करवा चुके हैं।

फर्जीवाड़े में स्टूडेंट न फसें, एनटीए करवाएगा जांच

  • स्टूडेंट्स ऐसे फ्रॉड कॉल्स के झांसे में नहीं आए। एक्जाम के बाद मार्क्स मैनिपुलेशन जैसा कुछ नहीं होता है। अगर किसी स्टूडेंट के पास ऐसे फ्रॉड काॅल आ रहे हैं तो वे सतर्क रहें, किसी भी तरह से झांसे में नहीं आए। ऐसे मामले की सूचना एनटीए को ईमेल genadmin@nta.ac.in से दे सकते हैं। ऐसे मामले में फर्जी लोगों पर कार्रवाई की जाएगी। - अशाेक गुप्ता, स्टेट कॉर्डिनेटर, एनटीए